Archives for सुन हो सरकार - Page 20

एक पुलिसवाले की ‘मन की बात’

नवनीत सीकेरा के फेसबुक वॉल से यूपी पुलिस के तेज तर्रार IPS नवनीत सीकेरा वैसे तो किसी न किसी रूप में अपने काम को लेकर चर्चा में बने रहते हैं,…
और पढ़ें »

कुछ ऐसा करें…मौत के बाद भी जिंदा रहें!

इन्होंने किया, आप अंगदान कब करेंगे? सत्येंद्र कुमार यादव पिछले दिनों नोएडा में साइनबोर्ड गिरा और एक व्यक्ति की मौत हो गई। उज्जैन में भगदड़ मची और कुछ लोगों की मौत,…
और पढ़ें »

परशुराम की तपोभूमि में एक और तपस्या

पोखर में पानी के लिए गांव वालों का भागीरथ प्रयास । सत्येंद्र कुमार यादव 19 अप्रैल को गांव पिंडी, देवरिया जाना हुआ। 20 अप्रैल को मामा के बेटे की शादी…
और पढ़ें »

देवरिया का मंत्र- शुरू हो ‘विकास यात्रा’

सत्येंद्र कुमार यादव देवरिया के निपनिया ठेंगवल दुबे में बदलाव की चौपाल। फसल बीमा योजना, स्टार्टअप इंडिया, स्टैंडअप इंडिया, मुद्रा बैंक, कामधेनु योजना, समाजवादी पेंशन योजना जैसी तमाम योजनाएं केंद्र…
और पढ़ें »

देवरिया में लगी ‘बदलाव की चौपाल’

अनिल कुमार उत्तर प्रदेश के जौनपुर से ‘बदलाव की चौपाल’ का जो सफर शुरू हुआ वो दिल्ली होते हुए नेपाल की सीमा तक पहुंच चुका है । आप सभी के…
और पढ़ें »

बुंदेलखंड में बिन पानी सब सून !

समीर आत्मज मिश्रा के फेसबुक वॉल से अगले कुछ दिनों तक बुंदेलखंड में रहूंगा। इस इलाके में प्राकृतिक सुंदरता के साथ साथ ऐतिहासिक और सांस्कृतिक खूबसूरती भी भरपूर मात्रा में…
और पढ़ें »

साइकिल चलाओ, बिजली बनाओ…पावर का डबल डोज!

पेंडल दबाओ, बिजली बनाओ सत्येंद्र कुमार यादव साइकिल बड़ी काम की सवारी है। गांव, कस्बों और छोटे शहरों में गेहूं पिसवाने, धान कुटवाने से लकरे स्कूल तक पहुंचाने का काम…
और पढ़ें »

छत्तीसगढ़ में अन्नदाता के मुआवजे में फिर बंदरबांट

शिरीष खरे अस्सी साल के जगदीश सोनी ने अपने तीन बेटों के साथ 15 एकड़ खेत में धान बोया, मगर सूखे से पूरी फ़सल चौपट हो गई। वे बताते हैं…
और पढ़ें »

किताबी कायदों में ज़िंदा जज़्बातों की क़ब्र न बने साहब!

बांदा: लड़ने का जज़्बा हो तो ऐसा सत्येंद्र कुमार यादव आप समाजेसवी हैं, सच्चे दिल से समाज की सेवा में लगे हैं, सामाजिक सरोकारों को लेकर किसी से लड़ने-भिड़ने के…
और पढ़ें »

इस बदलाव को नज़र ना लगे!

बिहार पंचायत चुनाव: नामांकन के लिए कतार में खड़ी महिलाएं सत्येंद्र कुमार यादव बिहार में एक बार फिर सियासत गरम है । हर गली-मोहल्ले में नुक्कड़ पर सियास की बातें…
और पढ़ें »