Archives for सुन हो सरकार - Page 2

मेरा गांव, मेरा देश

मोदी सरकार और 2 लाख करोड़ का ‘मनीगेम’

अरुण प्रकाश मोदी सरकार ने खजाना खोल दिया है । दावा है कि जो विकास दौड़ रहा था अब वो हवा में उड़ने लगेगा । इसके लिए सरकार ने तमाम…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

पत्रकारिता को न्यूज़ चैनलों और अख़बारों में मत तलाशिए

पुष्यमित्र हिंदी पत्रकारिता में आज भी एक स्वतंत्र पत्रकार का सर्वाइवल मुश्किल है। विभिन्न अखबारों में फीचर और आलेख लिखने वाले कुछ सीनियर पत्रकार भी अगर सर्वाइव कर रहे हैं तो…
और पढ़ें »
सुन हो सरकार

सिर्फ धारणाओं से देश नहीं चलता साहब !

राकेश कायस्थ क्या डर सिर्फ एक धारणा है? ठीक उसी तरह जिस तरह विकास एक धारणा है। धारणा यानी इंप्रेशन ये है कि विकास हो रहा है, इसलिए बहुत से…
और पढ़ें »
आईना

पीएम साहब! जानबूझकर शल्य को सारथी मत बनाइए न

सुदीप्ति महाभारत मेरी रुचि का विषय है इसलिए जब एक भाषण में माननीय प्रधानमंत्री ने 'शल्य' का नाम लिया और फिर उनकी नकारात्मकता फैलाने की प्रवृति पर बात की तो…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

रेलवे की ‘सुस्त’ रफ्तार और ‘बुलेट’ का हसीन सपना

पुष्यमित्र पिछले दिनों बिहार में बाढ़ से भारी बर्बादी हुई, सड़क से लेकर रेल मार्ग तक बुरी तरह प्रभावित रहा । आम लोगों तक मदद पहुंचाने में सरकार से ज्यादा…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

मैं और मेरा ये लाल माइक

रवीश कुमार ज़िंदगी का अच्छा ख़ासा हिस्स कैमरे के सामने और साथ गुज़रा है। अनगिनत लोगों के साथ मेरी तस्वीर होगी पर अपनी बहुत कम है। मुझे ये तस्वीर बहुत…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

…तो न समाज बिखरता और न देश रोता !

आशीष सागर के फेसबुक वॉल से आदमी गर बड़ा न होता, हिंसा के मुहल्ले में खड़ा न होता ! माना कि ये बच्चे भी आपस में नफरत करते है, लेकिन…
और पढ़ें »
यूपी/उत्तराखंड

धन्यवाद श्रीकांत शर्मा जी ! आपसे शिकायत करना नहीं चाहता था लेकिन…

कोई भी सरकार हो उसकी कोशिश होती है कि जनता के बीच उसके एक्शन का असर दिखे । उसकी योजनाओं का लाभ लोगों को मिले । सरकार की कोशिशों को…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

जो गधे पर नहीं बैठा, वह जन्म्या ही नहीं!

वर्षा मिर्जा इन दिनों गधों की हज़ार सालों की सहनशीलता दाव पर है। सब उन्हीं पर जुमले बोल रहे हैं। गधा पचीसी , धोबी का गधा न घर का ना…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

वैशाखनंदन लिखो या शारदानंदन गालियां तो पड़ेंगी ही

राकेश कायस्थ सोशल मीडिया पर हंगामा ना हो फिर काहे का सोशल मीडिया। अगर शांति चाहते हैं तो कुछ समय के लिए फेसबुक और ट्विटर से दूर हो जाइये। अगर…
और पढ़ें »