Archives for सुन हो सरकार - Page 2

मेरा गांव, मेरा देश

कमजोर दिल वाले न देखें.. तस्वीरें विचलित करती हैं!

बिहार के नालंदा में सब्जी उगाने वाले किसानों की बदहाली की तस्वीर। फोटो- पुष्य मित्र ये तस्वीरें बिहार के नालंदा जिले के नूर सराय की हैं। कल (10 जून 2018)…
और पढ़ें »
सुन हो सरकार

गांव से राजधानी तक वो जानते हैं ‘पदाना’

डा. सुधांशु कुमार जी हां ! चौंकिए मत !! जरा ध्यान से इस पीत पट पर अंकित ब्रह्म स्वरूप शब्द पर गौर से गौर फरमाइए , क्योंकि शब्द को हमारे…
और पढ़ें »
आदर्श गांव पर रपट

राजनाथ सिंह के गोद लिए गांव बेती का हाल

जयंत कुमार सिन्हा लखनऊ का नाम आते ही नजर में कौध जाती है गोमती पर बिखरी गुलाबी शामें, लखौड़ियों से बनी बड़ी-बड़ी आलीशान इमारतें, दरवाजों पर सजी लचकीली मछलियाँ, कुछ…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

येदि का घमंड, सिद्धा का समर्पण और पलट गई बाजी

धीरेंद्र पुंडीर कांग्रेस नेता डीके शिवकुमार बौने नया हीरो गढ़ रहे हैं क्योंकि नायक या खलनायक के बिना कोई फ़िल्म नहीं होती। बौनों के नए हीरो डी के शिवकुमार हैं।…
और पढ़ें »
सुन हो सरकार

बीजेपी में गजब की पारदर्शिता है!

राकेश कायस्थ बीजेपी के आप कितने बड़े आलोचक क्यों ना हो राजनीतिक जीवन में पारदर्शिता स्थापित करने का क्रेडिट उसे देना ही पडे़गा। कर्नाटक का ड्रामा जिस दिन से शुरू…
और पढ़ें »
आदर्श गांव पर रपट

मई महीने में बदलाव पर ‘आदर्श गांव पर आपकी रपट’

टीम बदलाव सांसद आदर्श ग्राम इस योजना का नाम तो आप ने भी सुना होगा । चार साल पहले देश में खूब प्रचार-प्रसार भी हुआ । माननीय प्रधानमंत्री जी का…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

‘काल क्रॉसिंग’ पर कब कॉल लेगी सरकार

अरुण यादव एक बार फिर मानव रहित रेलवे क्रॉसिंग पर स्कूली बच्चे ड्राइवर और सिस्टम की लापरवाही का शिकार हो गए। यूपी के कुशीनगर में बच्चे घर से निकले तो…
और पढ़ें »
चौपाल

मैं जेल जाना चाहता हूं !

सांकेतिक जी हां ! मैं जेल जाना चाहता हूं !! इसमें कौतूहल वाली कोई बात नहीं, क्योंकि जेल तो हमारी मानव सभ्यता के विकास की चिर संगिनी है । बड़ी…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

5 लाख गांवों को बर्बाद कर आबाद नहीं हो पाएंगे शहर- नरेंद्र सिंह

पशुपति शर्मा संपादक का कक्ष और एक युवक। किसी मुद्दे पर बातचीत के दौरान तनातनी। युवक अपनी बात पर अड़ गया और संपादक महोदय को खरी-खरी सुना घर लौट आया-…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

कठुआ से उन्नाव तक नाबालिग पीड़ितों को कैसे मिले इंसाफ़

टीम बदलाव  नोबेल शांति पुरस्‍कार विजेता कैलाश सत्‍यार्थी ने बाल यौन हिंसा की लगातार बढ़ रही घटनाओं को राष्‍ट्रीय आपातकाल बताया। उन्‍होंने कहा, हर पल दो बेटियां बलात्‍कार की शिकार…
और पढ़ें »