Archives for सुन हो सरकार - Page 15

‘गुलाबी’ खेतों का रंग ‘लाल’ हो रहा है…

बाँदा के जसपुरा से आशीष सागर दीक्षित गरीबी और आधे पेट रोटी खाकर अपने खेत की सूखी मिटटी को नम करने की जद्दोजहद में एक और अन्नदाता ने अपने ही खेत…
और पढ़ें »

पीएम की काशी का पानी ‘काला’ है…

रुही कंधारी दुनिया के सबसे पुराने शहरों में एक गंगा के किनारे बसे वाराणसी के सांसद नरेंद्र मोदी ने जब से पीएम का पद संभाला है, शहर का राजनीतिक महत्व…
और पढ़ें »

मुठभेड़ के नाम पर बंद हो सरकारी हिंसा

दिवाकर मुक्तिबोध आत्मसमर्पित नक्सलियों को छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा नौकरी में लेने की पेशकश क्या राज्य में हिंसात्मक नक्सलवाद के ताबूत पर आखिरी कील साबित होगी? शायद हां, पर इसकी पुष्टि…
और पढ़ें »

‘वीरों की धरती’… लहूलुहान और वीरान क्यों ?

आशीष सागर दीक्षित उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में विभाजित बुंदेलखंड का इलाका पिछले कई सालों से प्राकृतिक आपदाओं का दंश झेल रहा है। भुखमरी और सूखे की त्रासदी से अब…
और पढ़ें »

इन हसीन वादियों में आधा आसमां मेरा भी है

शाहनवाज़ खान कश्मीर की वादियों में अब बेटियों का दम नहीं घुटेगा। घाटी की लाडलियों को खुली हवा में सांस लेने की पूरी आज़ादी रहेगी । धरती की जन्नत की…
और पढ़ें »

जी हुजूर! रिश्वत जान ले रही है, आप तो तमाशा देखिए

दिवाकर मुक्तिबोध छत्तीसगढ़ में भ्रष्टाचार के सवाल पर राज्य सरकार की 'ज़ीरो टॉलरेंस' की नीति है। मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह एवं सरकार के अन्य नुमाइंदे सरकारी एवं गैर-सरकारी कार्यक्रमों में…
और पढ़ें »

नो क्रेकर्स मुहिम सिर्फ नारों-इश्तहारों तक

धुआं धुआं शहर दिवाली मनाई, हवा में जहर क्यों फैलाई? दिवाली पर मिठाइयां खाकर लोगों ने भले ही मुंह मीठा किया हो लेकिन पटाखे फोड़ कर दिल्ली समेत कई शहरों…
और पढ़ें »

‘जनता की राजधानी’, ये लड़ाई इतनी आसान भी नहीं

गैरसैंण, उत्तराखंड पुरुषोत्तम असनोड़ा उत्तराखण्ड की 'जनता की राजधानी' के नाम से विख्यात गैरसैंण में 2 नवम्बर से आयोजित विधान सभा सत्र पक्ष-विपक्ष के हो-हल्ले, आरोप-प्रत्यारोप से आगे नहीं बढ…
और पढ़ें »

गैरसैंण का मुकद्दर अमरावती सा क्यों नहीं?

पुरुषोत्तम असनोड़ा उत्तर और दक्षिण में सचमुच अंतर है। न केवल जलवायु, भाषा और संस्कृति का बल्कि कार्य पद्धति का भी। आर्य सभ्यता के वंशज द्रविड़ों को कितना ही हेय…
और पढ़ें »

‘रावणों’ ने किया एक बेटी का ‘जिंदा-दहन’!

उमरपुर गांव, प्रतापगढ़, यूपी हरिगोविंद विश्वकर्मा वह सपने देखने वाली लड़की थी। देहात और ग़रीब परिवार की लड़की। करियर बनाने का दृढ़ संकल्प ले रखा था। वह पढ़-लिखकर किसी स्कूल…
और पढ़ें »