Archives for सुन हो सरकार

मेरा गांव, मेरा देश

सोशल मीडिया के ‘ब्लैकहोल’ में गुम होता युवावर्ग

डा. सुधांशु कुमार आज जिस प्रकार सोशल मीडिया पर खासकर किशोर और युवावर्ग अपनी आंखें गड़ाए रहते हैं , यह उनके कैरियर के लिए किसी चुनौती से कम नहीं ।…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

फ़सलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य में अधिकतम घपलेबाजी

ब्रह्मानंद ठाकुर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने पिछले दिनों खरीफ  सीजन की फ़सलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य की घोषणा की। इस मौके पर उन्होंने  कहा-2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

जीवन में जल का ‘समर शेष’

विक्रांत बंसल आज हम भारत के किसी भी कोने में क्यों न रह रहे हों पानी की समस्या मुंह बाएं हमारे सामने खड़ी है। गर्मियों में तो ये समस्या कई…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

स्वामी सहजानंद के मंत्र और किसानों का दमन चक्र

ब्रह्मानंद ठाकुर   किसान आंदोलन के महान नेता स्वामी सहजानन्द सरस्वती की आज  पुण्यतिथि है। स्वामी सहजानंद को गुजरे 68  बरस बीत गये लेकिन इस दौरान देश के किसानों की…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

फुल और हॉफ स्टेट थ्योरी: क्या है दिल्ली का चक्रव्यूह ?

आम आदमी पार्टी के नेता और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरिवाल ने हाल ही में विधानसभा का एक खास सेशन बुलाया जिसका एजेंडा था दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा…
और पढ़ें »
सुन हो सरकार

ये सिर्फ शुजात की हत्या नहीं, कश्मीर में ‘अमन’ का कत्ल है- उर्मिलेश

वरिष्ठ पत्रकार उर्मिलेश के फेसबुक वॉल से रमजान का महीना खत्म होते ही एक बार फिर सरकार ने कश्मीर घाटी में ऑपरेशन ऑल आउट का फैसला किया है । हालांकि…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

कमजोर दिल वाले न देखें.. तस्वीरें विचलित करती हैं!

बिहार के नालंदा में सब्जी उगाने वाले किसानों की बदहाली की तस्वीर। फोटो- पुष्य मित्र ये तस्वीरें बिहार के नालंदा जिले के नूर सराय की हैं। कल (10 जून 2018)…
और पढ़ें »
सुन हो सरकार

गांव से राजधानी तक वो जानते हैं ‘पदाना’

डा. सुधांशु कुमार जी हां ! चौंकिए मत !! जरा ध्यान से इस पीत पट पर अंकित ब्रह्म स्वरूप शब्द पर गौर से गौर फरमाइए , क्योंकि शब्द को हमारे…
और पढ़ें »
आदर्श गांव पर रपट

राजनाथ सिंह के गोद लिए गांव बेती का हाल

जयंत कुमार सिन्हा लखनऊ का नाम आते ही नजर में कौध जाती है गोमती पर बिखरी गुलाबी शामें, लखौड़ियों से बनी बड़ी-बड़ी आलीशान इमारतें, दरवाजों पर सजी लचकीली मछलियाँ, कुछ…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

येदि का घमंड, सिद्धा का समर्पण और पलट गई बाजी

धीरेंद्र पुंडीर कांग्रेस नेता डीके शिवकुमार बौने नया हीरो गढ़ रहे हैं क्योंकि नायक या खलनायक के बिना कोई फ़िल्म नहीं होती। बौनों के नए हीरो डी के शिवकुमार हैं।…
और पढ़ें »