Archives for सुन हो सरकार

सुन हो सरकार

बाढ़ प्रभावित लोग नेताओं को नहीं डीएम को घेरें

पुष्यमित्र जिस तरह चमकी बुखार के वक़्त वैशाली में लोगों ने सांसद को घेरा था, उसी तरह कल झंझारपुर में आक्रोशित लोगों ने नवनिर्वाचित सांसद को घेर लिया। भीषण आपदा…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

जीरो बजट खेती और सरकारी सोच

पुष्यमित्र/बही खाता वालों ने किसानों से जीरो बजट खेती करने कहा है। उन्हें क्या जीरो बजट का हिन्दी नहीं मिला? और कुछ नहीं तो 'शून्य बही खाता' ही कर देते।…
और पढ़ें »
सुन हो सरकार

सत्ता जानती है पत्रकार की औकात क्या है ?

पुष्य मित्रपिछ्ले साल का वाकया है। एक बड़े मीडिया हाउस से मुझे फोन आया कि वे चाहते हैं कि मैं उनके नए वेन्चर का रीजनल हेड(पूर्वी जोन) बन जाऊं, इसलिये…
और पढ़ें »
सुन हो सरकार

चमकी की मार से उबर चुके बच्चों को जीवनभर सता सकता है ये बुखार

फाइल फोटो पुष्यमित्र मानसून की पहली बारिश होते ही बिहार में पिछले 20 दिनों से जारी चमकी बुखार का प्रकोप कुछ कम हुआ है। बीते चौबीस घंटे में मुजफ्फरपुर के…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

‘चमकी’ से लड़ने गांव-गांव तक पहुंच रहे ‘देवदूत

ब्रह्मानंद ठाकुर चमकी बुखार  की बीमारी गरीब महादलित परिवार के बच्चों के लिए इस बार काल बन  कर आई है। मुजफ्फरपुर जिले के गांवों में अबतक इस बीमारी से 150…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

चमकी बुखार : छोटी पहल, बड़ी मदद

पुष्यमित्र आनन्द दत्ता की जितनी भी तारीफ की जाये कम है। एक बेहतरीन पत्रकार, फोटोग्राफर, मैं शायद कभी इनसे ठीक से मिल नहीं पाया। रांची में रहते हैं। चमकी बुखार…
और पढ़ें »
सुन हो सरकार

सबसे ज्यादा बेटियों को लील रही है चमकी… साथी हाथ बढ़ाना

बिहार: AES से मरने वालों में ज्यादातर गरीब हैं, गरीबों में भी ज्यादातर महादलित परिवार के लोग हैं और उनमें भी सबसे अधिक बेटियां। 3 जून से शुरू हुआ मुजफ्फरपुर…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

पत्रकारों की गिरफ्तारी ‘दमनकारी नीति’ का हिस्सा तो नहीं ?

पुष्य मित्र कई बार कुछ खबरें आपको बहुत कुछ बोलने पर मजबूर कर देती है, वहीं कुछ खबरें सन्नाटे में धकेल देती है। रुपेश कुमार सिंह की गिरफ्तारी की खबर…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

क्यों विपक्ष और जनपक्ष हो जाना ही निष्पक्ष पत्रकारिता है?

पुष्यमित्रजब मैं लिखता हूं कि पत्रकार का काम शास्वत विपक्ष हो जाना है तो कई मित्र को आपत्ति होती है। उन्हें लगता है कि पत्रकारों को सरकार के काम काज…
और पढ़ें »
सुन हो सरकार

हम पत्रकार तो शास्वत विपक्ष हैं

पुष्यमित्र के फेसबुक से साभार 1961 में जब ब्रिटेन की रानी भारत आई थी और नेहरू उसके स्वागत में बिछे जा रहे थे, तब इस कवि ने लिखा था। आओ…
और पढ़ें »