Archives for सुन हो सरकार

मेरा गांव, मेरा देश

विकास के इंतजार में खड़ा किशनगंज का लौचा घाट

पुष्यमित्र किशनगंज शहर से टेढ़ागाछ प्रखंड की तरफ जाना था। दोस्तों ने मुझे दो रास्ते बताये। पहले रास्ते से 100 किमी की दूरी तय करनी थी, दूसरे रास्ते से 50-55…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

मोदी जी देख लीजिए घर-घर बिजली की जमीनी हकीकत !

पुष्य मित्र बिहार के किशनगंज जिले के टेढ़ागाछ प्रखंड से करीब 10 किलोमीटर अंदर बसा है सुशासन नगर । नाम सुनकर मन किया चलो इस गांव का जायजा लिया जाए…
और पढ़ें »
आईना

प्रजातंत्र में लहलहाता राजतंत्र का ‘रक्तबीज’

संजय पंकज सब जानते हैं कि आज की राजनीति नेताओं के लिए समाज-सेवा से ज्यादा सत्ता-सुख की भोग-चाहना है। वे दिन बहुत पीछे छूट गए जब 'भिक्षुक होकर रहते सम्राट,…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

बेगुसराय के गांव में एक बिटिया के दुष्कर्मी क्या ‘आज़ाद’ रहेंगे!

पशुपति शर्मा मई-जून 2018 की बात है। जेएनयू के मेरे एक साथी का फोन आया। वो बेगुसराय में अपने गांव से बात कर रहे थे। वो व्यथित थे- गांव में…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

विकास के दावों के बीच पानी ढोना ही जहां ज़िन्दगी है !

विकास के बड़े दावों के बीच देश के आदिवासी क्षेत्रों में पानी के रंग कुछ ऐसे है। ये आदिवासी किसान रोजमर्रा की ज़रूरत को कोसों पथरीली सड़क पर नंगे पांव…
और पढ़ें »
सुन हो सरकार

खुफिया तंत्र फेल… आतंक का घिनौना खेल

14 फरवरी को पुलवामा के अवंतिपोरा में CRPF के काफिले को आतंकियों का हमाल उरी हमले से काफी बड़ा था । आत्मघाती हमलावर ने सीआरपीएफ के काफिले को निशाना बनाकर…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

आंकड़ों से समझिए किसान और गरीब सरकार की कितनी है प्राथमिकता

ग्राफिक इमेज साभार भास्कर सरकार का कुल बजट 27 लाख 84 हजार 200 करोड़ शिक्षा के लिए 93 हजार 848 करोड़ रुपये आवंटित यानी कुल बजट का महज फीसदी ।…
और पढ़ें »
सुन हो सरकार

दम तोड़ता गांधी जी के ग्राम स्वराज का सपना

ब्रह्मानंद ठाकुर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 71 वीं पुण्यतिथि पर देश उनको नमन कर रहा है।  मोहनदास करमचंद गांधी को सबसे पहले बार नेताजी सुभाषचंद्र बोस ने 24 जून 1944…
और पढ़ें »
सुन हो सरकार

कई सवालों का एक जबाब…

संयुक्त राष्ट्र के पूर्व महासचिव कांफी अन्नान ने कहा था “खेल एक सार्वभौमिक भाषा है । अपने अच्छे रूप में यह लोगों को एक साथ ला सकता है, चाहे उनकी…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

‘आज देश में पूंजीवाद विरोधी समाजवादी क्रांति की ज़रूरत है’

ब्रह्मानंद ठाकुर 'मां, आपके मतानुसार हमारी शिक्षा का उद्देश्य क्या है ? बड़े हो जाने पर हमें किस काम में लग जाने पर आपको सर्वाधिक खुशी होगी ? न जाने…
और पढ़ें »