Archives for सुन हो सरकार

मेरा गांव, मेरा देश

मजदूरी को मजबूर बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री का परिवार

पुष्यमित्र के फेसबुक वॉल से साभार पूर्णिया शहर के मधुबनी बाजार की ये तस्वीर वैसी ही है जैसी किसी भी शहर में काम की तलाश खड़े रहने वाले मजदूरों की…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

मौसम का बदलता मिजाज और सियासत का चढ़ता पारा

संजय पकंज मौसम बदल रहा है। वातावरण में सर्दी उतरने के लिए उसाँसें भर रही है । बहुत धीमी चाल से आता है नया मौसम। सर्दी बड़ी नजाकत से दबे…
और पढ़ें »
सुन हो सरकार

आस्था के नाम पर मूर्ख बनाने का घनघोर विश्वास गजब का है

राकेश कायस्थ के फेसबुक वॉल से साभार मेरे गृह राज्य झारखंड में एक मशहूर शिव तीर्थ है। बैजनाथ धाम। जिस तरह किसी भी लोक परंपरा में तीर्थों को लेकर कई…
और पढ़ें »
सुन हो सरकार

गौरक्षकों को स्वामी विवेकानंद का संदेश

ब्रह्मानंद ठाकुर 11 सितम्बर 1893। इसी दिन स्वामी विवेकानन्द ने शिकागो शहर में विश्व हिंदू धर्म महा सम्मेलन में व्याख्यान दिया था। आज उसका 125 वां वर्ष है। वैसे स्वामी…
और पढ़ें »
सुन हो सरकार

शिक्षकों पर चादरपोशी की रस्म अदायगी कब तक?

डा. सुधांशु कुमार आज सवेरे-सवेरे श्रीमती जी ने एक प्रश्न प्रक्षेपित कर दिया -'सुना है शिक्षक दिवस के दिन आप सभी शिक्षक सरकार के द्वारा सम्मानित किए जाएंगे ? '…
और पढ़ें »
सुन हो सरकार

सत्ताधारियों का अर्बन नक्सल का नया मुहावरा

पुष्यमित्र यह सच है कि बड़े शहरों में माओवादियों के सिम्पेथाइजर रहते हैं। ये दो तरह के होते हैं। पहले जो इन माओवादी समूह के सदस्य होते हैं और इन्हें…
और पढ़ें »
माटी की खुशबू

डेढ़ लाख लाशों के क़ातिल देख के मत चलो

शंभु झा ए भाई, देख के मत चलो...आगे भी सड़क तुम्हारे बाप की है, पीछे भी तुम्हारे पप्पा की है। बाएं-दाएं देखने और सोचने की क्या ज़रूरत है। जैसी मर्ज़ी हो, वैसे…
और पढ़ें »
सुन हो सरकार

सरकार की मजबूती की कीमत लोकतंत्र चुकाता है !

सौजन्य डीडी राकेश कायस्थ सत्तर साल के भारत को देखें तो लोकतंत्र के लिहाज से आपको कौन सा दौर सबसे सुनहरा नज़र आता है? शुरू के डेढ़ दशक छोड़ दें क्योंकि…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

मनरेगा- कमाए लंगोटीवाला और खाए धोतीवाला

ब्रह्मानंद ठाकुर फोटो सौजन्य- अजय कुमार कोसी बिहार घोंचू भाई आय सुबहे से घर से गायब थे। मैंने कई बार उनके ओसारे मे बिछी चउकी पर ताक -झांक किया लेकिन…
और पढ़ें »
सुन हो सरकार

मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड में कब और कहां चूक हुई?

वीरेन नंदा मुजफ्फरपुर में "सेवा-संकल्प विकास समिति" नामक एनजीओ के तहत चलने वाली संस्था "बालिका अल्पावास गृह" में 41 बच्चियों से मारपीट के आरोप हैं। नशे का इंजेक्शन और धमकी…
और पढ़ें »