Archives for सुन हो सरकार

मेरा गांव, मेरा देश

दुष्यंत के शहर में, दुष्यंत की तासीर अभी बाक़ी है !

राजेश बादल एक सितंबर को दुष्यंत कुमार संग्रहालय में सबने दिल की गहराइयों से दुष्यंत को याद किया। रात देर तक सोचता रहा कि चालीस बरस पहले उन्होंने अपनी रचनाओं…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ मुहिम और ट्रेन में बीतता एक बेटी का बचपन

आशीष सागर बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ सुनने में ये स्लोगन काफी अच्छा लगता है, लेकिन इसको साकार करने के लिए हमारा सिस्टम कितना संजीदा है इसको अगर समझना हो तो कभी…
और पढ़ें »
सुन हो सरकार

9 साल का इंतजार: सरकारें बदल गईं, लेकिन पुल की सूरत नहीं बदली

बदलाव प्रतिनिधि, जौनपुर पिछले 9 बरस में उत्तर प्रदेश और देश में सरकारें बदल गईं, मुख्यमंत्री बदल गए लेकिन नहीं बदला तो कामकाज का तरीका । ये बात हम क्यों…
और पढ़ें »
गांव के रंग

हक लिए आपको लड़ना ही होगा

पुष्यमित्र पारिवारिक वजहों से लगभग आधा अगस्त महीना सहरसा आते-जाते गुजरा। इस दौरान मैने महसूस किया कि सड़क मार्ग से सहरसा से मधेपुरा जाने में ठीक-ठाक हिम्मती लोग भी घबरा…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

कश्मीर और संघ के वैचारिक परिप्रेक्ष्य को समझिए

फाइल फोटो दिवाकर मुक्तिबोध 5 अगस्त 2019 को भारतीय जनता पार्टी सरकैर ने संवैधानिक प्रक्रियाओं को धता बताते हुए जम्मू और कश्मीर राज्य को विशेष दर्जा देने वाले आर्टिकल 370…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

समाज को अज्ञानता और असहिष्णुता के आनंदलोक की ओर ढकेलता हमारा मीडिया

उर्मिलेश जी के फेसबुक वॉल से साभार अपने देश के उत्तर और मध्य क्षेत्र में पत्रकारिता, खासतौर पर न्यूज चैनलों का जो हाल है, उससे समाज का बड़ा हिस्सा बुरी…
और पढ़ें »
गांव के नायक

गोवा के सरकारी स्कूल और मानवीय मूल्य

शिरीष खरे इन दिनों में रिसर्च के कामम से गोवा भ्रमण पर हूं और खासकर ग्रामीण परिवेश और स्कूलो के बदलते स्वरूप को देखने का मौका मिल रहा है, यकीन…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

पहाड़ों की दास्तां बयां करते ‘जंगली फूल’ को अयोध्या प्रसाद खत्री सम्मान

ब्रह्मानंद ठाकुर इस बार अयोध्या प्रसाद खत्री स्मृति सम्मान अरुणाचल प्रदेश की नवोदित कथा लेखिका जोराम यालाम को  उनके उपन्यास 'जंगली फूल' के लिए  दिया जाएगा। इस सम्मान के लिए…
और पढ़ें »
यूपी/उत्तराखंड

बाढ़ प्रभावित लोग नेताओं को नहीं डीएम को घेरें

पुष्यमित्र जिस तरह चमकी बुखार के वक़्त वैशाली में लोगों ने सांसद को घेरा था, उसी तरह कल झंझारपुर में आक्रोशित लोगों ने नवनिर्वाचित सांसद को घेर लिया। भीषण आपदा…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

जीरो बजट खेती और सरकारी सोच

पुष्यमित्र/बही खाता वालों ने किसानों से जीरो बजट खेती करने कहा है। उन्हें क्या जीरो बजट का हिन्दी नहीं मिला? और कुछ नहीं तो 'शून्य बही खाता' ही कर देते।…
और पढ़ें »