Archives for सुन हो सरकार

सुन हो सरकार

जब्बार भाई की सांसें छीन लीं, उनका आशियाना बख्शेंगे हम?

सचिन कुमार जैन जब्बार भाई बात मुआफ़ी के लायक तो नहीं है, पर फिर भी कहना चाहता हूँ मुआफ़ कर दीजियेगा. हमने बहुत देर कर दी. यह तो नहीं ही…
और पढ़ें »
सुन हो सरकार

कम फीस की कीमत तुम नहीं समझोगे साहब!

विभावरी के फेसबुक वॉल से साभार इलाहाबाद वि.वि. से एम.ए. करके आई एक निम्न मध्यवर्गीय लड़की के बतौर राजधानी के पॉश इलाके में स्थित इस जगह ने मुझे कभी भी…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

अब तो उनको दुआ से भी डर लगता है

पशुपति शर्मा के फेसबुक वॉल से साभार अल्लामा इकबाल ने एक कविता लिखी थी, बच्चे की दुआ। पीलीभीत के एक स्कूल के प्रिंसिपल साहब ने इसे प्रार्थना सभा में शरीक…
और पढ़ें »
सुन हो सरकार

गांव पुरैनी में ‘मन का रावण’ जलाएंगे क्या लोग?

पशुपति शर्मा पुरैनी मेरा पुश्तैनी गांव। अब गांव आना-जाना कम ही होता है। बाप-दादा की पुश्तैनी संपत्ति अब वहां रही नहीं। पुरैनी बाजार में एक छोटा सा पुश्तैनी मार्केट पिताजी…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

गांधी की बुनियादी शिक्षा और बदलाव की मुहिम

बदलाव प्रतिनिधि, मुजफ्फरपुर महात्मा गांधी ने 1910  में दक्षिण अफ्रीका में टाल्सटाय आश्रम में जिस तरह की शिक्षा की शुरुआत की थी ,वह उनका अभिनव प्रयोग था। न नई तालीम…
और पढ़ें »
आईना

औद्योगीकरण के आगे साम्यवाद का टूटा सपना !

गांधी और व्यावहारिक अराजकवाद भाग-2 औद्योगिक क्रांति के बाद यूरोप में मजदूर वर्ग की स्थिति को सुधारने के  जो प्रारम्भिक प्रयास हुए उसका मूल उद्देश्य विकास की इस धारा से…
और पढ़ें »
आईना

सजा छात्र को दी गई और दर्द गांधीजी को हुआ

सत्य के प्रयोग पार्ट -2 पहली कड़ी में आपने पढ़ा कि महात्मा गांधी ने  दक्षिण अफ्रीका में जेल की सजा काट रहे सत्याग्रहियों  के आश्रितों का भरण पोषण और उनके…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

दुष्यंत के शहर में, दुष्यंत की तासीर अभी बाक़ी है !

राजेश बादल एक सितंबर को दुष्यंत कुमार संग्रहालय में सबने दिल की गहराइयों से दुष्यंत को याद किया। रात देर तक सोचता रहा कि चालीस बरस पहले उन्होंने अपनी रचनाओं…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ मुहिम और ट्रेन में बीतता एक बेटी का बचपन

आशीष सागर बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ सुनने में ये स्लोगन काफी अच्छा लगता है, लेकिन इसको साकार करने के लिए हमारा सिस्टम कितना संजीदा है इसको अगर समझना हो तो कभी…
और पढ़ें »
सुन हो सरकार

9 साल का इंतजार: सरकारें बदल गईं, लेकिन पुल की सूरत नहीं बदली

बदलाव प्रतिनिधि, जौनपुर पिछले 9 बरस में उत्तर प्रदेश और देश में सरकारें बदल गईं, मुख्यमंत्री बदल गए लेकिन नहीं बदला तो कामकाज का तरीका । ये बात हम क्यों…
और पढ़ें »