Archives for सुन हो सरकार

सुन हो सरकार

कोरोना की जंग में बिना तैयारी वाले मीडिया के लड़ाके

महेंद्र सिंह के फेसबुक वॉल से साभार अब मीडिया वालों के घर भी corona पहुंच चुका है, फिर भी कुछ मीडिया संस्थान अभी नहीं समझ रहे हैं, भोपाल में जिस…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

धार्मिक दंगे भारतवर्ष का पीछा कब छोड़ेंगे ? -भगत सिंह

23 मार्च भगत सिंह का शहादत दिवस है। 1931 में इसी दिन भारतीय आजादी आंदोलन की गैरसमझौतावादी धारा के इस जांबाज क्रांतिकारी को फांसी के फंदे पर झुला दिया गया…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

‘स्टालिन मुर्दाबाद’ वाले कन्हैया कुमार आपसे कुछ सवाल हैं!

ब्रह्मानंद ठाकुर स्टालिन कन्हैया कुमार जेएनयू के पूर्व अध्यक्ष और सीपीआई नेता कन्हैया कुमार को जब एक दिन इलेक्ट्रानिक मीडिया के समक्ष स्टालिन मुर्दाबाद कहते सुना तो मैं चौंक गया। आखिर…
और पढ़ें »
सुन हो सरकार

समाजवाद का चोला पहनने वाली दक्षिणपंथी ताकतों से सावधान रहें- सुभाष चंद्र बोस

फाइल चित्र ब्रह्मानंद ठाकुर आज हम एक ऐसे समय में  नेताजी सुभाषचंद्र बोस को याद कर रहे हैं जब पूरा देश गरीबी, बेरोजगारी, भयंकर आर्थिक मंदी , अशिक्षा, महंगाई, आतंकवाद, क्षेत्रीयता,…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

संविधान सभा के संकल्प को समझिए

पुष्यमित्र के फेसबुक वॉल से साभार 1. यह संविधान सभा भारतवर्ष को एक स्वतंत्र संप्रभु तंत्र घोषित करने और उसके भावी शासन के लिए एक संविधान बनाने का दृढ़ और…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

बाजारवाद के बीच जिंदा है ‘उम्मीद की पाठशाला’

बदलाव प्रतिनिधि इसी देश में जहाँ मध्यवर्ग के बच्चे एसी कमरे में ठाठ से पढ़ाई ही नहीं करते बल्कि उन्हें इस देश का विशिष्ट विद्यार्थी होने का काम्प्लेक्स भी घुट्टी…
और पढ़ें »
सुन हो सरकार

जब्बार भाई की सांसें छीन लीं, उनका आशियाना बख्शेंगे हम?

सचिन कुमार जैन जब्बार भाई बात मुआफ़ी के लायक तो नहीं है, पर फिर भी कहना चाहता हूँ मुआफ़ कर दीजियेगा. हमने बहुत देर कर दी. यह तो नहीं ही…
और पढ़ें »
सुन हो सरकार

कम फीस की कीमत तुम नहीं समझोगे साहब!

विभावरी के फेसबुक वॉल से साभार इलाहाबाद वि.वि. से एम.ए. करके आई एक निम्न मध्यवर्गीय लड़की के बतौर राजधानी के पॉश इलाके में स्थित इस जगह ने मुझे कभी भी…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

अब तो उनको दुआ से भी डर लगता है

पशुपति शर्मा के फेसबुक वॉल से साभार अल्लामा इकबाल ने एक कविता लिखी थी, बच्चे की दुआ। पीलीभीत के एक स्कूल के प्रिंसिपल साहब ने इसे प्रार्थना सभा में शरीक…
और पढ़ें »
सुन हो सरकार

गांव पुरैनी में ‘मन का रावण’ जलाएंगे क्या लोग?

पशुपति शर्मा पुरैनी मेरा पुश्तैनी गांव। अब गांव आना-जाना कम ही होता है। बाप-दादा की पुश्तैनी संपत्ति अब वहां रही नहीं। पुरैनी बाजार में एक छोटा सा पुश्तैनी मार्केट पिताजी…
और पढ़ें »