Archives for माटी की खुशबू

माटी की खुशबू

सबूत मांगने पर हाय तौबा मचाने वालों को रामायण से सीख लेने की जरूरत

पीयूष बबेले के फेसबुक वॉल से साभार सबूत पर चिढ़ने वालों को भारतीय परंपरा का ज्ञान नहीं है और कम से कम रामायण का तो उन्हें रत्ती भर अंदाजा नहीं…
और पढ़ें »
माटी की खुशबू

दुनिया में अपनी अलग पहचान बना चुका है कोल्हापुर का वालवे खुर्द गांव

शिरीष खरे कोल्हापुर के बाकी गांवों की तरह दिखने में यह एक साधारण गांव है। यहां के लोगों को यह बात भी अब साधारण ही लगने लगी है कि कुश्ती…
और पढ़ें »
माटी की खुशबू

‘मर्ज’ बड़ा है… कभी वो, कभी हम… पर छोटी पहल में ‘हर्ज’ ही क्या?

ब्रह्मानंद ठाकुर बदलाव पाठशाला के छात्र। बदलाव पाठशला के विद्यार्थी हैं रोहण ,गौरव ,शिल्की और नेहा। एक ही माता-पिता की पांच संतान। इनमें एक अभी बहुत छोटा है। विगत 24…
और पढ़ें »
माटी की खुशबू

प्री-प्रेंगनेंसी शूट- नया चलन और कुछ सवाल

सीमा मधुरिमा के फेसबुक वॉल से साभार पिछली बार संस्कृतियों के परिवर्तन की बात करते समय आपको प्री वेडिंग शूट की यात्रा पर ले गए थे ! आशा ही नहीं…
और पढ़ें »
माटी की खुशबू

सिर्फ कानून नहीं सोच में भी बदलाव लाने की ज़रूरत

शिरीष खरे तीन तलाक विधेयक पर राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ का पक्ष बहुत स्पष्ट है। संघ के वरिष्ठ पदाधिकारी इंद्रेश कुमार का कहना है कि इस प्रकार की कुप्रथा से…
और पढ़ें »
माटी की खुशबू

बच्‍चों को रास्‍ता नहीं , पगडंडी बनाने में मदद करें!

दयाशंकर जी के फेसबुक वॉल से साभारहम बच्‍चों के अंतर्ज्ञान , सहजबोध पर यकीन करने की जगह अपने मन की सुनने में कहीं अधिक यकीन रखते हैं. इसी वजह से…
और पढ़ें »
माटी की खुशबू

खर्राटामय ‘संगीत’ और प्रयागराज का यादगार सफर

सांकेतिक तस्वीर शरद अवस्थी के फेसबुक वॉल से साभार   रातके लगभग 12 बजने को आए, प्रयागराज एक्सप्रेस केबी1 कोचकी मिडिल बर्थ पर लेटा मैं बेचैनी से करवटें बदल रहा था,…
और पढ़ें »
माटी की खुशबू

नक्सलवाद और सियासी छलावे से मुक्ति चाहता छत्तीसगढ़

दिवाकर मुक्तिबोध छत्तीसगढ़ की 90 विधानसभा सीटों के लिए मतदान का एक दौर निपट चुका है। दूसरा व अन्तिम चरण 20 नवम्बर को है। 11 दिसंबर को मतों की गिनती…
और पढ़ें »
माटी की खुशबू

शहरों की भूल-भुलैया और गांवों का बिगड़ता ताना-बाना

शिरीश खरे शहर का नाम आते ही हमारे सामने गांव की जो भी छवि बने लेकिन इतना तय है कि यह छवि शहर की तुलना में छोटी ही होती है।…
और पढ़ें »
माटी की खुशबू

भावना का रेगुलेटर कहां है?

राकेश कायस्थ भावना में भगवान बसते हैं। इसलिए भक्त बहुत भावुक होते हैं। राफेल का मामला उछला तो मुझे लगा कि भावुक भक्त भगवान से कहेंगे— कह दीजिये यह झूठ…
और पढ़ें »