Archives for परब-त्योहार - Page 9

नवाबों के शहर में ‘बड़े मंगल’ का बड़ा पैग़ाम

जयंत कुमार सिन्हा सभी फोटो- जयंत कुमार सिन्हा तमीज, तहजीब के शहर को खूब भाते हैं वीर हनुमान। लखनऊ के मिजाज के बारे में आप जितने अनुमान लगाएं, उससे बीस…
और पढ़ें »

नाचे तन-मन, नाचे जीवन

हिलता-खिलता-मिलता-जुलता आया होली का त्यौहार। नाचे तन-मन, नाचे जीवन नाचे आंगन, नाचे उपवन रंग-बिरंगी ओढ़ चदरिया धरती लाई नई बहार। टेसू महके, चहके पंछी धुन में अपनी हंस व हंसी…
और पढ़ें »

नाचे, गाएं, खेलें होली… जोगीरा सा रा रा

गांव घर की होली। फगुआ गान। ‎कालीमंदिर, ‎धमदाहा‬ में गांव की टोली का जोगीरा सा रा रा बासु मित्र पिछले एक दशक से मेरे गांव में भी होली की चमक…
और पढ़ें »

लो आ गया फागुन निगोड़ा

तुम न आये और फिर लो आ गया फागुन निगोड़ा साल पिछले भेजते इसको कहा था, हाथ में इसके तुम्हारा, इक पुराना ख़त दिया था बिन लिए उनको न आना…
और पढ़ें »

सूरज ने चाल बदली, रौशन कर लो अपना पथ

डॉ. दीपक आचार्य दक्षिण गुजरात में एक जिला है डांग, यहां शत-प्रतिशत वनवासी आबादी बसी हुई है और यहां आमजनों के बीच मकर संक्रांति को लेकर जितनी जानकारी है शायद…
और पढ़ें »

मेरे गांव, तेरा जन्मदिन हम भी मनाएंगे

जयापुर ने मनाया ग्राम गौरव दिवस अरुण प्रकाश 7 नवंबर 2015 की वो तारीख देश हमेशा याद रखेगा । ये वही तारीख है जब देश के प्रधानमंत्री के 'गांव' ने…
और पढ़ें »

हम चलते गए, कारवां बनता गया…

  साल 2015 बीत गया और साल 2016 के सूरज ने दस्तक दे दी। पुराने साल में पाठकों से बने रिश्ते को सहेजे टीम बदलाव नए साल में दाखिल हुई…
और पढ़ें »

डंडा सें डंडा लड़े, ऊंट लड़े मुंह जोर

बुंदेलखंड: मौनिया दिवारी उत्सव कीर्ति दीक्षित किसी को नीचा दिखाना हो या फिर किसी को बुरा भला कहना हो तो पढ़ा लिखा समाज उसे देहाती या गंवार कहकर पुकारता है।…
और पढ़ें »

हिंदु तुरक हम एके जाना- दरिया साहब

सुधा निकेतन रंजनी मध्ययुग में बहुत सारे पंथों और सम्प्रदायों की स्थापना हुई। भारत में इस समय व्यापारों और दस्तकारों का उदय हो रहा था। व्यापार के कारण लोगों की…
और पढ़ें »

मां से मिला देती है ‘मइया’

फोटो- अनीश कुमार सिंह केरवा के पात पर उगेलन सूरूज मल झांके-झुंके... ये गाना घर-घर में बज रहा था लेकिन घर में उदासी छाई थी। मां खरना पर अकेली बैठी…
और पढ़ें »