Archives for परब-त्योहार - Page 9

परब-त्योहार

चित्रांगदा, उलुपि और अर्जुन की प्रणय कथा

पुष्यमित्र पूरा महाभारत जितना दिलचस्प है, उससे अधिक दिलचस्प है अर्जुन की इन दो पत्नियों की कथा। मुझे लगता है ज्यादातर लोग इस मिथकीय कथा से अवगत नहीं होंगे। खुद मुझे…
और पढ़ें »
एमपी/छत्तीसगढ़

गांव की फिल्म मेकर ने जीता अवॉर्ड

रुपेश गुप्ता करीब डेढ़ साल पहले की बात है। छत्तीसगढ़ की मैनपाट और मांझी जनजाति अचानक सुर्खियों में आ गई। हालांकि तब मांझी जनजाति के पांच साल के एक बच्चे…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

बढ़ई बढ़ई खूंटा चीरs, खूंटे में मोर दाल बा …….

कुणाल प्रताप सिंह " बढ़ई बढ़ई खूंटा चीरs, खूंटे में मोर दाल बा का खाऊं, का पीऊं का लेके परदेश जाऊं !" भोजपुरी अंचल का शायद ही कोई बच्चा हो…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

बहन पर भाई के भरोसे की जीत और सामा चकेवा

पुष्यमित्र एक चुगलखोर व्यक्ति राजा कृष्ण से कहता है कि तुम्हारी पुत्री साम्बवती चरित्रहीन है। उसने वृंदावन से गुजरते वक्त एक ऋषि के साथ संभोग किया है। कृष्ण अपनी पुत्री…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

ये छठ जरूरी है!

पुष्यमित्र के फेसबुक वॉल से आज बहन अनिता कुमारी ने दिल्ली की छठ के बारे में बड़ी दिलचस्प जानकारी दी। उसने कहा कि पिछले कुछ साल से बिहार से कुछ लोग…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

मधुर-मधुर मेरे दीपक जल…

महादेवी वर्मा मधुर-मधुर मेरे दीपक जल। युग-युग प्रतिदिन प्रतिक्षण प्रतिपल, प्रियतम का पथ आलोकित कर।। सौरभ फैला विपुल धूप बन, मृदुल मोम-सा घुल रे मृदु तन, दे प्रकाश का सिंधु…
और पढ़ें »
आईना

विदेशी ‘पतिदेव’ को देसी परंपरा का पाठ

सच्चिदानंद जोशी करवा चौथ और अमेरिकी चुनाव। आप भी सोचते होंगे की करवा चौथ का अमेरिका में होने वाले चुनाव से क्या सम्बन्ध है। घटना ही कुछ ऐसी है। वाराणसी से…
और पढ़ें »

बुंदेलखंड में होती है राक्षस की पूजा

कीर्ति दीक्षित परम्पराएं, custom, rituals जैसे शब्द धरती के किसी भी कोने से खड़े होकर बोलें तो इनकी समृधि में भारत का नाम सबसे पहले आएगा, भारत ही ऐसा देश…
और पढ़ें »

‘झिझिया’ से इतनी झिझक क्यों भाई !

पुष्य मित्र अगर हमें अपनी संस्कृति और लोक परंपराओं को जीवित रखना है तो उसे सिर्फ दिल में सहेजने भर से काम नहीं चलेगा । उसे जुबां पर लाने की…
और पढ़ें »
गांव के रंग

भरत मिलाप, मेला और हमारा बचपन

फोटो- अजय कुमार मृदुला शुक्ला बचपन में दशहरे पर नए कपड़े मिलने का दुर्लभ अवसर आता था । हम सारे भाई बहन नए कपड़े पहन शाम को पापा के साथ…
और पढ़ें »