Archives for परब-त्योहार - Page 7

परब-त्योहार

कहां गुम हो गई गणतंत्र दिवस की वो ‘प्रभात फेरी’

ब्रह्मानंद ठाकुर अपने बचपन का गणतंत्र दिवस याद है। तब मैं 8-9 साल का था । गांव के प्राइमरी स्कूल में पढता था। तब आज की तरह इस स्कूल में…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

पेरियार के आँगन में बहती रही कोसी की धारा

पुष्यमित्र मुझे यह मालूम नहीं था कि पेरियार एक नदी का नाम है जो भारत के दक्षिणवर्ती राज्य केरल में बहती है। मैं यही समझता था कि तमिलनाडु के महान…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

ऐ नये साल बता, तुझ में नया क्या है ?

फैज़ अहमद 'फैज़' ऐ नये साल बता, तुझ में नयापन क्या है? हर तरफ ख़ल्क ने क्यों शोर मचा रखा है? रौशनी दिन की वही, तारों भरी रात वही, आज…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

नये साल पर पटना कह रहा है सत श्री अकाल

 पुष्यमित्र  पिछले एक पखवाड़े से पटना शहर एक अलग ही धुन में रमा हुआ है। गांधी मैदान में एक आलीशान टेंट सिटी खड़ी हो गयी है। पटना सिटी की तरफ जाने…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

मधेपुरा में सोशल मीडिया पर बड़ी बहस

रूपेश कुमार सोशल मीडिया जनक्रांति का सशक्त माध्यम है। जिस गति से समाज बदल रहा है उसमें सोशल मीडिया की भूमिका अहम है। समाज का हर वर्ग इस पर क्रेंदित है।…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

15 साल बाद मिली जीत का जश्न

15 साल बाद मिली जीत का जश्न तो बनता है ! लखनऊ की धरती एक ऐतिहासिक पल की गवाह बनी । 15 साल बाद भारत जूनियर वर्ल्ड हॉकी चैंपियन बना…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

भारत रंग महोत्सव में दिखेगा मैथिली रंगकर्म का ‘मेलोरंग’

अनु गुप्ता भारत एक ऐसा देश है जहां हर सौ  कदम पर भाषा बदल जाती है। इस देश को अनेक और विशेष भाषाओं का संग्रहालय बोला जाए तो गलत न होगा।…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

चित्रांगदा, उलुपि और अर्जुन की प्रणय कथा

पुष्यमित्र पूरा महाभारत जितना दिलचस्प है, उससे अधिक दिलचस्प है अर्जुन की इन दो पत्नियों की कथा। मुझे लगता है ज्यादातर लोग इस मिथकीय कथा से अवगत नहीं होंगे। खुद मुझे…
और पढ़ें »
एमपी/छत्तीसगढ़

गांव की फिल्म मेकर ने जीता अवॉर्ड

रुपेश गुप्ता करीब डेढ़ साल पहले की बात है। छत्तीसगढ़ की मैनपाट और मांझी जनजाति अचानक सुर्खियों में आ गई। हालांकि तब मांझी जनजाति के पांच साल के एक बच्चे…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

बढ़ई बढ़ई खूंटा चीरs, खूंटे में मोर दाल बा …….

कुणाल प्रताप सिंह " बढ़ई बढ़ई खूंटा चीरs, खूंटे में मोर दाल बा का खाऊं, का पीऊं का लेके परदेश जाऊं !" भोजपुरी अंचल का शायद ही कोई बच्चा हो…
और पढ़ें »