Archives for परब-त्योहार - Page 3

परब-त्योहार

देहरादून में साहित्य का समारोह और कुछ यादें

सुमन केशरी इस साल देहरादून लिट फ़ेस्ट में भाग लेने का सुयोग हुआ। शुक्रिया गीता गैरोला…शुक्रिया समय साक्ष्य! देहरादून लिट फ़ेस्ट इस मायने में बेहद महत्त्वपूर्ण आयोजन रहा कि इसमें…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

मेघदूत में ‘राम की शक्तिपूजा’

संगम पांडेय कथक नृत्यांगना प्रतिभा सिंह निर्देशित प्रस्तुति ‘राम की शक्तिपूजा’ में सबसे ज्यादा जो चीज दिखती है वो है मनोयोग। उनके नाट्यग्रुप ‘कलामंडली’ में शास्त्र-निपुण कलाकारों से लेकर दिल्ली…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

नवबंर क्रांति से रूस की ‘आधी आबादी’ को मिला हक

ब्रह्मानंद ठाकुर रूस की नवंबर क्रांति को लेकर पिछले अंक में हमने आपको रूस में समाजिक बदलाव के बारे में बताया साथ ही ये भी बताया कि कैसे कृषि के…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

मजदूरों की क्रांति से बदला रूस का इतिहास

फोटो- साभार विकीपीडिया ब्रह्मानंद ठाकुर नवंबर क्रांति के पहले अंक में आप ने पढ़ा कि कैसे फरवरी 1917 से लेकर नवंबर 1917 के बीच रूस में किसानों और मजदूरों की…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

सामा खेले गेलिअइ भइया के अंगना हे!

ब्रह्मानंद ठाकुर सामा चकेवा बिहार का एक प्रमुख लोक पर्व है जो कार्तिक महीने के शुक्ल पक्ष में चतुर्थी तिथि से पूर्णिमा तक मनाया जाता है। यह पर्व मिथकीय कथाओं…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

इंसान का प्रकृति प्रेम और छठ पर्व की परंपरा

ब्रह्मानंद ठाकुर छठ पर्व जितना आस्था और विश्वास का पर्व है उतना है वैज्ञानिक भी । छठ का प्रकृति से गहरा नाता है इसीलिए छठ व्रत में इस्तेमाल होने वाली…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

छठी मइया अईली पहुनवा हो रामा …

रीमा प्रसाद, टीवी पत्रकार मां,  सबसे पहले तो माफ़ी देना कि अबकी बरस मैं छठ में नहीं आ रही हूं। मैं जानती हूं इतना कह देने भर से मेरी ज़िम्मेदारी…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

दिवाली में छिपी है प्रकृति से प्रेम की कला

ब्रह्मानंद ठाकुर भारतीय संस्कृति शाश्वत मूल्यों की चिरंतन जीजिविषा है। आदर्श एवं आध्मात्म की परम्परा इस देश का मूलमंत्र रहा है। धार्मिक तथा दार्शनिक चिंतन की मूल धारा मानव जीवन…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

बदलाव पाठशाला के दूसरे दिन बच्चों में दिखा उत्साह

मुजफ्फरपुर के पियर गांव में छात्रों को पढ़ाते हुए ब्रम्हानंद ठाकुर जी । महात्मा गांधी  और पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री के जयंती के दिन शुरू हुई बदलाव डॉट कॉम…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

‘झिझिया’ को संवारने की जरूरत है सरकार !

ब्रह्मानन्द ठाकुर झिझिया बिहार में खासकर मिथिला और बज्जिकांचल का प्रमुख लोकनृत्य है। इसका आयोजन शारदीय नवरात्र में किया जाता है। यह पूरी तरह से महिलाओं का आयोजन है। इसमें…
और पढ़ें »