Archives for परब-त्योहार

परब-त्योहार

शादी-विवाह में मैथिल संस्कृति की झलक

अरविंद दास वर्षों पहले किसी पत्रिका में एक लेख पढ़ा था- शादी हो तो मिथिला में। जाहिर है, इस लेख में जानकी और पुरुषोत्तम राम की शादी की चर्चा के…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

विएना ओपेरा हाउस की वो शाम

सच्चिदानंद जोशी के फेसबुक वॉल से साभार हमारे रंगकर्म के गुरु प्रभात दा गांगुली जब मूड में होते थे तो वो अपने विदेश में हुए प्रदर्शनों के किस्से सुनाते थे।…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

‘अच्छे दिन’ वाली सरकार का 5 साल बाद ‘साफ नीयत’ का रोना

राकेश कायस्थ चुनावी नारा राजनीतिक दलों के लिए एक भावनात्मक चीज़ भी होता है। नारा यानी वह सबसे अहम बात जिसे आप दिल की गहराई से महसूस करते हैं, इसलिए…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

बावरवस्ती की महिलाओं के साथ वूमन्स डे की यादें

शिरीष खरे शुक्रवार की तारीख क्यों खास थी यह मुझे पता भी न थी, लेकिन अब यह तारीख फिर भूल जाऊं तो भी इस तारीख से जुड़ी यह घटना मुझे…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

जंजीरों में जकड़े ‘समाजवाद’ की जीत की कहानी

ब्रह्मानंद ठाकुर जार्ज फर्नान्डिस एक ऐसा नाम जो 60-70 के दशक में मजदूरों की बुलंद आवाज बनकर उभरा और देखते ही देखते हिंदुस्तान के सियासी पटल पर अपनी अमित छाप…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

ये कोई रियलिटी शो नहीं, संघीय ढांचे का प्रतीक है !

राकेश कायस्थ राजपथ की पूरी महफिल इस बार अकेले बापू ने लूट ली। अरुणाचल से लेकर गोवा तक शायद कोई ऐसा राज्य हो, जिसकी झांकी में बापू दिखाई ना दिये…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

गणतंत्र बड़ा हुआ, लेकिन हमारी सोच छोटी

ब्रह्मानंद ठाकुर आजादी के 5 साल बाद और भारत को गणतंत्र घोषित होने के दो साल बाद 1952 में मेरा जन्म हुआ। सात साल की उम्र में गांव के बेसिक…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

भव्य कुंभ में योगी की अद्भुत तस्वीर

साइबेरियन पक्षियों को दाना खिलाते सीएम योगी आदित्यनाथ । कुंभ दौरे के दौरान योगी ने नाव से जायजा लिया और पक्षियों के बीच पहुंचकर उन्हें दाना खिलाया । 
और पढ़ें »
परब-त्योहार

पत्रकारिता और साहित्य का अद्भुत संगम है ‘बेख़ुदी में खोया शहर’

टीम बदलाव/ ‘गोदी मीडिया’ के दौर में पत्रकारिता पर उंगली उठाने का काम खुद पत्रकार या फिर लेखक ही कर सकता है। ये बात वरिष्ठ पत्रकार ओम थानवी ने अरविंद…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

सियासी ‘महाभारत’ के बाद शालीनता का शांतिपर्व

पीयूष बबेले के फेसबुक वॉल से साभारएक महीने के शोर शराबे और हद दर्जे के आक्रामकप्रचार अभियान के बाद पांच राज्यों की चुनावी महाभारत अपनी परिणिति को पहुंच गई। यहअब…
और पढ़ें »