Archives for चौपाल

चौपाल

गौपालन का अर्थशास्त्र कुछ तो कहता है!

संतोष कुमार सिंह देश के अलग-अलग हिस्सों में इन दिनों गाय को लेकर खूब चर्चा हो रही है। गाय से नफे-नुकसान की भी बात हो रही है। गाय के कुछ…
और पढ़ें »
चौपाल

शाइनिंग इंडिया टू सेलिंग इंडिया

फ़ाइल फोटो राकेश कायस्थ सरकारी तंत्र यानी नकारापन। प्राइवेट सेक्टर यानी अच्छी सर्विस और एकांउटिबिलिटी। यह एक आम धारणा है, जो लगभग हर भारतीय के मन में बैठी हुई है…
और पढ़ें »
चौपाल

बच्चे फटकार की नहीं प्यार की भाषा समझते हैं

अरुण प्रकाश बच्चे का मन गंगा की तरह पवित्र और निर्मल होता है। उसमें ना कोई छल होता है और ना ही कपट। उसके मन में जो कुछ चलता है…
और पढ़ें »
चौपाल

खुदगर्जी में हम खुद के लिए खोद रहे खाई

ब्रह्मानंद ठाकुर विजय पत सिंघानिया टूटते-बिखरते रिश्ते, दरकता विश्वास । इस महीने के शुरू में हमारे देश में अलग-अलग जगहों पर जिन तीन घटनाओं ने हमारे अंतर्मन को झकझोर दिया।…
और पढ़ें »
चौपाल

बाढ़ की आपदा में क्या करें हम

पुष्यमित्र इन दिनों उत्तर बिहार भीषण किस्म की बाढ़ आपदा के सामना कर रहा है। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक 14 जिलों की 73 लाख से अधिक आबादी इससे प्रभावित है।…
और पढ़ें »
चौपाल

‘राष्ट्रवाद’ के सियासी छलावे में उलझता देश

ब्रह्मानंद ठाकुर आज देश में चारों तरफ राष्ट्रीयता और देशभक्ति की होड़ मची हुई है। ऐसा लगता है आजादी के 7 दशक तक देश के लोगों में राष्ट्र के प्रति…
और पढ़ें »
चौपाल

कांग्रेस मुक्त भारत का थका नारा और गुजरात के सबक

राकेश कायस्थ जिस दौर में चोर को चाणक्य और तड़ीपार को तारनहार का समानार्थी मान लिया गया है। उसी दौर में गुजरात की तीन राज्य सभा सीटों के लिए वोटिंग…
और पढ़ें »
चौपाल

सुनो ! कोरी बकवास नहीं है बुलेट ट्रेन

सत्येंद्र कुमार यादव जिन्हें लग रहा है कि भारत में बुलेट ट्रेन दौड़ाना कोरी कल्पना है उन्हें अपनी गलतफहमी दूर कर लेनी चाहिए। ये कोरी बकवास नहीं है। खबर है…
और पढ़ें »
चौपाल

कुपोषित बच्चों से सशक्त राष्ट्र का सपना कैसे होगा पूरा?

बदलाव प्रतिनिधि, पटना फोटो-अजय कुमार कोसी बिहार भारत युवा आबादी के मामले में अग्रणी देशों की कतार में आता है। यहाँ 44 करोड़ से अधिक जनसंख्‍या 18 साल से कम…
और पढ़ें »
चौपाल

बाढ़ की आपदा को हम ही दे रहे हैं बार-बार न्योता

रूचा जोशी मानव सभ्यता के उदभव काल से ही मनुष्यों का नदियों से घनिष्ठ सम्बन्ध रहा है।  प्रारंभिक काल में सारी सभ्यताएं नदियों के किनारे ही विकसित हुईं तथा उनका…
और पढ़ें »