Archives for मेरा गांव, मेरा देश - Page 96

मेरा गांव, मेरा देश

24 X 7… ये फ्री सेवा तो गुरुओं की ही है!

सत्येंद्र कुमार माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्वविद्यालय के पूर्व छात्रों के मिलन की तस्वीर। लोग कहते हैं कि ज्ञान घोलकर नहीं पिलाया जा सकता लेकिन मेरी ज़िंदगी में ऐसे कई गुरु…
और पढ़ें »

वो जिन्होंने ‘बदलाव’ का ज्ञान और मान बढ़ाया

हरदोई के प्रधानाचार्य के मन की बातें बिजनौर के शिक्षक निशांत यादव की रिपोर्ट। रामपुर इंटर कॉलेज में शिक्षक शरत कुमार की रिपोर्ट वो जो पढ़ने और सीखने की ललक…
और पढ़ें »

अजीत, सलाखों में कैसे गुन लेते हो हसीन सपने?

रविकांत चंदन बनारस के कैदी अजीत कुमार सरोज ने इग्नू के एक डिप्लोमा कोर्स में टॉप स्थान हासिल किया। प्रतिशोध, नफरत और ना उम्मीदी के बीच आयी एक अच्छी खबर…
और पढ़ें »

काली घटा में जिया लरजे… गा ले कजरी सखि

सत्येंद्र कुमार सावन बीत जाए और कजरी की बात ना हो तो मजा नहीं आता। छहर-छहर बरसते बदरा के पानी में भींग कर झूला खेलने और कजरी गाने का आनंद न…
और पढ़ें »

चुनावी मौज-भोरकवा चाय के चुस्की, सांझ ढले देसी ठर्रा…

  गोरखपुर के बड़हलगंज से रंजेश शाही की रिपोर्ट यूपी में पंचायत चुनाव को लेकर हलचल तेज हो गई है । पंचायत चुनाव के लिए गांव की गलियों में सियासी फिजा…
और पढ़ें »

खुश हो लो… सड़क प्रवीण तोगड़िया के नाम तो नहीं की

देवांशु झा के फेसबुक वॉल से औरंगजेब रोड पर संग्राम छिड़ा है। भला सड़क का नाम औरंगजेब से बदल कर एपीजी अब्दुल कलाम क्यों किया जा रहा है? इसमें मुसलमानों…
और पढ़ें »

ज़मीन अधिग्रहण अध्यादेश को अलविदा

सत्येंद्र कुमार फिर नहीं आएगा भूमि अधिग्रहण अध्यादेश। ‘मन की बात’ में पीएम मोदी ने भूमि अधिग्रहण अध्यादेश को चौथी बार नहीं लाने का ऐलान किया। किसानों के हित के…
और पढ़ें »

पब्लिक स्कूल से कहां पिछड़ गए सरकारी स्कूल ?

डॉ विनोद कुमार उत्तर प्रदेश में प्राइमरी स्कूलों की बदहाली के सिलसिले में इलाहाबाद हाईकोर्ट के फ़ैसले ने मानो उत्तर प्रदेश की उनींदी शिक्षा व्यवस्था को झकझोर कर जगा दिया…
और पढ़ें »

कापड़ीजी, एक तोता गरिया रहा है- हमरा नंबर कब ?

सत्येंद्र कुमार बड़े पर्द के बाद 22 अक्टूबर, शाम 8 बजे STAR GOLD HD पर फिर 'मिस टनकपुर' मिली और मुझे गांव की ओर लेकर चली गई। ठीक उसी तरह…
और पढ़ें »

मुझे दुलराता है, मेरे गांव का स्टेशन

शंभु झा मेरा गांव रेलवे लाइन के किनारे है। गांव की ज़मीन पर ही रेलवे स्टेशन बसा है। स्टेशन बसा है, जैसे घर बसता है। स्टेशन हमेशा मुझे घर जैसा…
और पढ़ें »