Archives for मेरा गांव, मेरा देश - Page 47

‘रिश्वत दे देता तो आज IAS नहीं बन पाता’

बेटे ने बढ़ा दिया किसान पिता का मान। मां की खुशी के कहने ही क्या? उत्तर प्रदेश के संतकबीर नगर जिले के देवलसा गांव में एक किसान परिवार के घर…
और पढ़ें »

तीन बेर ही टूटता है वीराने बिरौल का सन्नाटा 

ट्रेन आएगी तो चहक उठेगा ये बिरौल का बोर्ड भी। फोटो- बिपिन कुमार दास   पीएम मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय कैबिनेट ने 400 स्टेशनों के कायाकल्प की योजना को…
और पढ़ें »

शासन का ‘सुडोकू’ सुलझाएगी गांव की बेटी

अधिकार मिला, अगली लड़ाई आज़ादी की। आईएएस में 22 रैंक हासिल करने वाली नेहा की मुस्कान कुछ कहती है। यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन (UPSC) के इम्तिहान में इस बार महिलाओं…
और पढ़ें »

मन कवि, दिल पत्रकार और जज़्बा गांव बदलने का…

निशांत जैन यूपीएससी के इम्तिहान में हिंदी माध्यम से टॉपर। ऑल इंडिया रैंकिंग में 13वां स्थान। देश की सर्वोच्च सेवा के लिए अधिकारियों की नई जमात चुन ली गई है।…
और पढ़ें »

वो तो शौचालय भी हज़म कर गए!

बेटियां खुले में शौच जाने को मजबूर। भ्रष्टाचार में लिप्त अधिकारी और नेताजी कुछ तो शर्म करें।- फोटो- आशीष सागर देश के प्रधानमंत्री और 'निर्मल भारत' अभियान के संयोजक नरेंद्र…
और पढ़ें »

सूरज के ताप से रौशन कर लें अपना गांव

सूरज के ताप में अनंत संभावनाएं हैं। फोटो स्रोत अब समय आ गया है कि पंचायतों की ज़िम्मेदारियां बढ़ाई जाएं। पंचायतें मजबूत होंगी तो देश तेजी से तरक्की करेगा। राज्य…
और पढ़ें »

गांव से अम्मा डांटेगी LIVE

पीएम मोदी डिजिटल इंडिया मिशन को मजबूत करने में जुटी महिला का सम्मान करते हुए। स्रोत-पीआईबी, नई दिल्ली- 1 जुलाई 2015   ''वक़्त बहुत तेजी से बदल चुका है। पहले…
और पढ़ें »

बकरी तेल लगाती है, कंघी करती है… !

झाबुआ के डुंगरा धन्ना गांव में पहली-पहली ग्राम सभा!- फोटो- राकेश मालवीय शीर्षक को समझने के लिए आपको यह लेख पूरा पढ़ने की ज़हमत उठानी होगी। यह रिपोर्ट जो मैं…
और पढ़ें »

सच में…’हर खेत को पानी’ मिलेगा!

ये मुस्कान उम्मीदों की है। क्या हमारे गांव के खेत को भी पानी मिलेगा?  क्या अब कभी सूखे की मार नहीं पड़ेगी?  क्या पानी के लिए अब ट्यूबवेल पर मार…
और पढ़ें »

कोमल मन का पहाड़ सा हौसला

फोटोग्राफर की भूमिका में लेखिका मृदुला शुक्ला पहाड़ पर खेतों से खर पतवार निकाल जमीन में बीज रोपती हैं पहाड़ी औरतें | वे बैल हैं और हल का मूठ पकड़े…
और पढ़ें »