Archives for मेरा गांव, मेरा देश - Page 2

मेरा गांव, मेरा देश

मीडिया – जो फड़फड़ाएगा उसके पंख काट दिए जाएंगे!

राकेश कायस्थ के फेसबुक वॉल से साभार 14 साल बाद मिलिंद खांडेकर का अचानक एबीपी को अलविदा कहना कईयों को खटक रहा है। 'न्यू इंडिया’ नरेंद्र मोदी की वजह से…
और पढ़ें »
आईना

रंगीन मिजाज़ इमरान राजनीतिक मैच का रूख बदल सकते हैं-पद्मपति शर्मा

पद्मपति शर्मा बेशक इमरान खान पाकिस्तानी फौज की पसंद थे और यह भी सही है कि दहशतगर्दो के प्रति सहानुभूति के चलते उन पर तालिबानी खान का भी ठप्पा लगा…
और पढ़ें »
गांव के रंग

‘देश में समान शिक्षा के लिए जन आंदोलन की जरूरत’

टीम बदलाव आजादी के 7 दशक बाद भी हम देश में समान शिक्षा और समान स्वास्थ्य जैसी मूलभूत जरूरतों को भी आम जन मानस तक नहीं पहुंचा सके । हम…
और पढ़ें »
चौपाल

सांप्रदायिकता सरकार का सबसे बड़ा अस्त्र है- प्रेमचंद

डा. सुधांशु कुमार कथा-सम्राट प्रेमचंद। हिंदी कथा साहित्य को 'तिलस्म' और 'ऐय्यारी' के खंडहर व अंधेरी गुफा से निकालकर जनसामान्य के दुख-दर्द और यथार्थ से जोड़ने वाले कथासम्राट प्रेमचंद आज…
और पढ़ें »
गांव के नायक

पटना में शहीदों के सम्मान में एक शाम

बदलाव प्रतिनिधि नक्सली हमले में शहीद सुरक्षाकर्मियों की याद में कृष्णा मेमोरियल हाल में 28 जुलाई की शाम एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम का शुभारंभ डिप्टी सीएम…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

सड़ता सिस्टम, सोती सरकार और दम तोड़ती बेटियां

पुष्यमित्र कल से जो बवाल मचना शुरू हुआ था, उसके दबाव में आज बिहार सरकार ने मुजफ्फरपुर बालिका गृह के मामले को सीबीआई को सौंप दिया है। मगर क्या सीबीआई…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

किसान एक कदम चले, मैं दो कदम साथ चलूंगा- मशरूम मैन दयाराम

विजय प्रकाश देश में मशरूम मैन के नाम से चर्चित कृषि वैज्ञानिक डॉ. दयाराम किसानों की आर्थिक सेहत सुधारने की दिशा में काम कर रहे हैं। मूल रूप से यूपी…
और पढ़ें »
गांव के रंग

एमरी अषाढ शुक्ल पक्ष का नवमी शनिवारे को पड़ा है!

ब्रह्मानंद ठाकुर तस्वीर- अजय कुमार कोसी बिहार हमारे घोंचू भाई उस पीढी से बिलांग करते हैं जिस पीढी के अधिकांश लोग खलास हो चुके हैं या बड़ी तेजी से इस…
और पढ़ें »
आईना

एक आख़िरी गोली और क्रांति का महानायक

डा. सुधांशु कुमार भारतीय क्रांतिकारी आंदोलन का अमरदीप - चंन्द्रशेखर आजाद ! एक ऐसा नाम , जिसके स्मरण मात्र से तत्कालीन ब्रिटिश हुकूमत की सांस फूलने लगती, युवावर्ग की धमनियों…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

मशरूम उत्पादन से दोगुनी होगी अन्नदाता की आमदनी- डॉ. दयाराम

बीच में डॉ. हरेंद्र सिंह, बाये BDO देवेंद्र, दाहिने डॉ. दयाराम, डॉ. सतीश, डॉ. योगेश विजय प्रकाश ''किसानों को अपनी आय बढ़ाने के लिए किसी पर निर्भर रहने की जरूरत…
और पढ़ें »