Archives for मेरा गांव, मेरा देश - Page 2

बिहार/झारखंड

लॉकडाउन के दूसरे दिन- कोरोना पर तैयारी थोड़ी और पक्की दिखी

अरुण प्रकाश कोरोना में देशव्यापी बंद का आज दूसरा दिन रहा। पहले दिन के मुकाबले दूसरे दिन लोग ज्यादा संयमित नजर आए। जिन दुकानों पर कल तक सामान लेने की…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

लॉकडाउन आपके लिए है… इसका पालन करेंगे तो जिंदगी चलती रहेगी…

बदलाव के लिए अरुण प्रकाश की रिपोर्ट पूरी दुनिया कोरोना संकट से जूझ रही है। अलग-अलग देश अपन-अपने तरीके से इससे निपटने की हर मुमकिन कोशिश कर रहे हैं ।…
और पढ़ें »
चौपाल

धार्मिक दंगे भारतवर्ष का पीछा कब छोड़ेंगे ? -भगत सिंह

23 मार्च भगत सिंह का शहादत दिवस है। 1931 में इसी दिन भारतीय आजादी आंदोलन की गैरसमझौतावादी धारा के इस जांबाज क्रांतिकारी को फांसी के फंदे पर झुला दिया गया…
और पढ़ें »
आईना

गोवा और कार्टूनिस्ट मारियो मिरांडा का ‘अमर प्रेम’

शरद अवस्थी मौज-मस्ती..बेफिक्री...सुकून और नाईट लाइफ को जीने की जगह है गोआ...जहां रात को 12 बजे भी सड़कों से गुजरने में डर नही लगता...लेकिन इसी गोवा ने कला और संगीत…
और पढ़ें »
चौपाल

एक ‘थप्पड़’ से क्या होता है, महिलाओं से ये सवाल कब तक?

बिन्दु चेरुन्गात 8 मार्च,  पूरे विश्व में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाया जाता है। इस वर्ष महिला दिवस के लिए संयुक्त राष्ट्र के अभियान #EachForEqual के काफी करीब है, दस दिन पहले आयी…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

टी-20 वर्ल्ड कप लेकर लौटना मड़ियाहू की लाडो

बायें से दाहिने- राधा यादव, शिखा पांडे पिछले दिनों महिला टी-20 वर्ल्ड कप का ऐलान हुआ तो यूपी के जौनपुर जिले में खुशी की लहर दौड़ पड़ी, क्योंकि जौनपुर के…
और पढ़ें »
आईना

अशिक्षा और असमानता से ‘आजादी’ हमारा हक- सुभाष चंद्र बोस

ब्रह्मानंद ठाकुर जेएनयू की हालिया घटनाओं  से शिक्षा जगत में उबाल है।  छात्रों के आंदोलन को लेकर पक्ष-विपक्ष में विभिन्न तर्क गढ़े जा रहे हैं। कुछ लोग छात्रानाम् अध्ययन तप:…
और पढ़ें »
गांव के रंग

मुजफ्फरपुर में दो दिवसीय ग्राम समागम

टीम बदलाव, मुजफ्फरपुर गांधी चाहते थे कि इस देश के युवा एक निश्चित लक्ष्य लेकर गांवों में जायें और वहां कुछ सृजनात्मक काम करें. ताकि गांव और देश की स्थितियां…
और पढ़ें »
गांव के नायक

सकारात्मक बदलावों को खोजती शिरीष की किताब “उम्मीद की पाठशाला”

बरुण सखाजी ढहते सरकारी स्कूलों में से उम्मीदें खोजती शिरीष खरे की "उम्मीद की पाठशाला" शिक्षा क्षेत्र की अहम किताब है। वे महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, गोवा, मध्यप्रदेश, तमिलनाडु, राजस्थान के स्कूलों…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

मुजफ्फरपुर में 15-16 जनवरी को गांधी और युवा- दो दिवसीय मेल मिलाप

पुष्यमित्र के फेसबुक वॉल से साभार गांधी चाहते थे कि इस देश के युवा एक निश्चित लक्ष्य लेकर गांवों में जायें और वहां कुछ सृजनात्मक काम करें. ताकि गांव और…
और पढ़ें »