Archives for मेरा गांव, मेरा देश - Page 2

मेरा गांव, मेरा देश

जब देश के पहले राष्ट्रपति को झेलना पड़ा दहेज प्रथा का दंश

ब्रह्मानंद ठाकुर बात आज से   102  साल पहले की है। राजेन्द्र बाबू  1916 में कलकत्ता ( अब कोलकाता ) से वकालत की पढ़ाई पूरी कर  वकालत करने पटना  आ चुके थे।…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

किसानों के लिए सरकारी सब्सिडी का छलावा और घोंचू भाई का दर्द

फोटो- अजय कुमार, कोसी , बिहार ब्रह्मानंद ठाकुर मनकचोटन भाई के दलान पर आज की बतकही  का  मुद्दा सरकारी किसान चौपाल का था। बात यह थी कि गेहूं की बुआई…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

किसान आंदोलन और मीडिया की माया

टीम बदलाव पिछले 6 महीने में देश का अन्नदाता तीसरी बार लोकतंत्र के मंदिर पर मत्था टेकने आ चुका है । कभी उसका स्वागत लाठियों से हुआ तो कभी गालियों…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

अन्नदाता के लिए आखिर संसद का विशेष सत्र क्यों नहीं ?

वरिष्ठ पत्रकार उर्मिलेश के फेसबुक वॉल से साभार मेरा रिपोर्टर-मन नहीं माना! दो दिन से तबीयत कुछ ठीक नहीं लग रही थी, फिर भी पहुंच गया संसद मार्ग! किसानों से…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

कश्मीरियों के लिए एक ही विकल्प है-भारत, मगर दिल पर दें दस्तक

ब्रह्मानंद ठाकुर कश्मीरी मूल के हिन्दी लेखक डाक्टर निदा नवाज पिछले दिनों मुजफ्फरपुर आए। डाक्टर निदा नवाज को उनकी पुस्तक ' सिसकियां लेता स्वर्ग ' के लिए  इस वर्ष के…
और पढ़ें »
गांव के रंग

गांव की माटी की महक

श्वेता जया के फेसबुक वॉल से साभार क्या आपने गाँव को करीब से देखा है? खपरैल के घर, फूस की मड़ई, छान छप्पर, खूंटे पर बँधी गाय, भूसहूल, खेतों के…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

कृषि विश्वविद्यालय की ‘खेती’ और किसानों की दुर्दशा

शिरीष खरे कृषि क्षेत्र में कई शब्द प्रचलित हैं। इनमें से कई के अर्थ और उनके बारे में संक्षिप्त जानकारी हमें होती है। लेकिन, कई शब्द ऐसे भी होते हैं…
और पढ़ें »
गांव के रंग

सामाजिक संतुलन के लिए कितना कारगर रहा भूमि सुधार कानून

शिरीष खरे आजादी के सात दशक बाद तक भूमि की संरचना पहले की तरह ही असमान है। आज भी साठ प्रतिशत से अधिक श्रम-शक्ति कृषि में लगी हुई है जिसमें…
और पढ़ें »
चौपाल

पूंजीवाद और सामंतवाद की चक्की में पिसता किसान आंदोलन

शिरीष खरे आजकल देश में किसानों का बड़ा आंदोलन खड़ा करने की कोशिश चल रही है । जिसमें देशभर से किसान एक मंच पर आए हैं ताकि कारपोरेट सरकारों को…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

‘सिसकियां लेता स्वर्ग’ के लिए निदा नवाज को मिला सम्मान

ब्रह्मानंद ठाकुर कश्मीर घाटी आज आतंकवाद की मार झेल रही है । एक तरफ आतंकवाद और दूसरी तरफ सियासी चालबाजी में कश्मीर की आवाम बुरी तरह पिस रही है और…
और पढ़ें »