Archives for मेरा गांव, मेरा देश

मेरा गांव, मेरा देश

कितना बदला गांव का आर्थिक-सामाजिक ताना-बाना

शिरीष खरे गांव क्या है? अवधारणाओं में जब भी इसे ढूंढ़ने-समझने की कोशिश की तो इससे जुड़ी व्याख्याओं में मुख्य तौर पर तीन बाते सामने आईं। छोटी आबादी, भौतिक ढांचा…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

 टीस भरा बचपन

वीरेन नन्दा बचपन की यादों में लौटना केवल वही चाहते खोना  बचपन के दिन ममता में जिनके बीते  समता में बीते जिनके बचपन के दिन जेम्स चूसते बीता जिनका बचपन सोफे…
और पढ़ें »

नेहरू का कद छोटा कर पटेल को बड़ा नहीं बना सकते

ब्रह्मानंद ठाकुर बंशी बाबा आज जब बहुत दिनों के बाद गांव आए तो  मनकचोटन भाई, बटेसर, झिंगुरी सिंह, फुलकेसर , बदरुआ, हुलसबा और परसन कक्का को साथ लिए हम बंशी बाबा…
और पढ़ें »
परब-त्योहार

बाजारवाद की माया से दूर छठ पर्व की छटा

पुष्य मित्र वैसे तो छठ मुख्यतः बिहार-झारखंड और पूर्वी उत्तर प्रदेश के लोगों द्वारा मनाया जाने वाला पर्व है, फिर भी यह कोई छोटी आबादी नहीं है, तकरीबन 15 करोड़…
और पढ़ें »
गांव के रंग

बिहार का स्लीपर सेल और छठ पर्व पर गरथैया

अनुशक्ति सिंह के फेसबुक वॉल से साभार कभी किसी को कहते सुना था, जहाँ न जाये रवि वहाँ जाये बिहारी. एक बार कश्मीर के किसी सुदूर गाँव में ठेले वाले…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

शहरों की भूल-भुलैया और गांवों का बिगड़ता ताना-बाना

शिरीश खरे शहर का नाम आते ही हमारे सामने गांव की जो भी छवि बने लेकिन इतना तय है कि यह छवि शहर की तुलना में छोटी ही होती है।…
और पढ़ें »
गांव के रंग

फाउंटेन पेन का लालच और चवन्नी की चोरी

ब्रह्मानंद ठाकुर तस्वीर- अजय कुमार कोसी बिहार     घोंचू भाई आज खूब प्रसन्न मुद्रा में थे। मनकचोटन भाई के दलान में तिनटंगा चउकी पर ज्योंही घोंचू भाई ने अपना आसन…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

फिल्म से पहले पिता ने क्यों किया पीहू का स्टिंग ऑपरेशन

विनोद कापड़ी पीहू के माता-पिता रोहित विश्वकर्मा और प्रेरणा शर्मा की सहमति मिलने के बाद मैंने तय किया कि अब मुझे पीहू से रोज़ मिलना चाहिए। पीहू से दोस्ती बनाने…
और पढ़ें »
आईना

मिस टनकपुर से बेबी पीहू तक, एक जिद की जीत

विनोद कापड़ी कहानी और पीहू दोनों मिल चुकी थी। प्रोड्यूसर मिलना बाक़ी था। एक और बेहद मुश्किल काम। मुंबई में अलग-अलग स्टूडियोज़ और प्रोड्यूसर से मिलना-बात करना शुरू किया। जो…
और पढ़ें »
आईना

नन्हीं पीहू से प्यार और विनोद कापड़ी का पागलपन

विनोद कापड़ी फ़िल्म रिलीज़ होने में अब कुछ दिन बाक़ी हैं।अब पीहू फ़िल्म से जुड़ी कुछ कहानियाँ। सबसे पहले कैसे आया आइडिया और पहली बार कब मिली पीहू ?  …
और पढ़ें »