Archives for गांव के रंग

गांव के रंग

मांगू मांगू मांगू दुलहा…हाथी घोड़ा गइया हे !

अभी शादी-विवाह का मौसम चल रहा है। लिहाजा इस अवसर पर नाना प्रकार के गीतों के स्वर फिजां में तैर रहे हैं। देर रात से सुबह तक ये गीत ध्वनि…
और पढ़ें »
गांव के रंग

चाँद मामा हंसुआ द

बदलाव प्रतिनिधि जैसे जैसे दिन बीतता जा रहा है..बदलाव बाल क्लब की कार्यशाली परवान चढ़ती जा रही है । मुजफ्फरपुर में बदलाव बाल क्लब की पाठशाला के तीसरे दिन बच्चों…
और पढ़ें »
गांव के रंग

कल संवारना है तो आज सुन लो अच्छे किस्से

बदलाव प्रतिनिधि, मुजफ्फरपुर मुजफ्फरपुर जिले के सुदूर गांव पियर में बदलाव बाल क्लब की कहानी कार्यशाला शुरू हो गई। हिन्दी के वरिष्ठ साहित्यकार सह जाने माने युवा कवि डाक्टर संजय पंकज…
और पढ़ें »
गांव में तकनीक

‘अंगूठा छाप’ क्रांति से बदलेगी बैंकिंग की दुनिया

सत्येंद्र कुमार यादव गांव में पहले और आज भी अनपढ़ लोगों को अंगूठा छाप ही बोला जाता है। ऐसे लोग वोट देते वक्त, बैंक से पैसे निकालते वक्त, किसी दस्तावेज…
और पढ़ें »

‘झिझिया’ से इतनी झिझक क्यों भाई !

पुष्य मित्र अगर हमें अपनी संस्कृति और लोक परंपराओं को जीवित रखना है तो उसे सिर्फ दिल में सहेजने भर से काम नहीं चलेगा । उसे जुबां पर लाने की…
और पढ़ें »
गांव के रंग

भरत मिलाप, मेला और हमारा बचपन

फोटो- अजय कुमार मृदुला शुक्ला बचपन में दशहरे पर नए कपड़े मिलने का दुर्लभ अवसर आता था । हम सारे भाई बहन नए कपड़े पहन शाम को पापा के साथ…
और पढ़ें »

अब नवरात्र में जादू-टोना वाला डर नहीं

मूर्तिकार संजय कुमार । ब्रह्मानंद ठाकुर  बिहार के मुजफ्फरपुर जिले का हमारा गाँव पिअर विगत 60 सालों में काफी कुछ बदल गया है । फिलहाल मैं अपने गाँव में शारदीय…
और पढ़ें »
गांव की गलियां

सहरसा के आरण गांव में नाचे मन ‘मोर’

सभी फोटो- बिपिन कुमार सिंह पुष्य मित्र आपके घर के बाहर अगर मोर नज़र आ जाए तो बरबस ही मन नाच उठेगा और बचपन की धुंधली यादें ताजा हो जाएंगी…
और पढ़ें »
गांव के रंग

स्वच्छता के लिए 30 किलोमीटर लंबी मानव शृंखला

अविनाश उज्ज्वल नीयत साफ हो और इरादा मजबूत तो हर काम आसान लगने लगता है । कुछ ऐसे ही हौसले और जज्बे के साथ बिहार के सीतामढ़ी में गांव वालों…
और पढ़ें »
गांव के रंग

फटफटिया से बहनों तक पहुंचाई राखी

आशीष सागर दीक्षित बीते दिनों कान्हा नेशनल टाइगर में प्रवास के दौरान ग्राम खटिया में यह श्यामलाल साधुराम बिसेन मिले। रहवासी ग्राम सरेखा, तहसील जिला बालाघाट, मध्यप्रदेश से हैं। अपनी…
और पढ़ें »