Archives for गांव के नायक - Page 2

गांव के नायक

गांधी तो अब मर रहे हैं आहिस्ता-आहिस्ता

पशुपति शर्मा के फेसबुक वॉल से साभार आज बापू की शहादत का दिन है। किसी सिरफिरे ने उन्हें गोली मार दी थी। लेकिन गांधी जैसी शख्सियत की हत्या महज गोली…
और पढ़ें »
गांव के नायक

लाइट, कैमरा, एक्शन और ‘कुंभ कथा’

अरुण प्रकाश रोज की तरह आज देर शाम कुछ पल के लिए फेसबुक पर सरसरी नजर डालने बैठा तो अचानक एक पोस्ट पर निगाहें टिक गईं । पोस्ट करने वाले…
और पढ़ें »
गांव के नायक

“नेहरू मिथक और सत्य” किताब 5 जनवरी को आप सबके बीच

किताब "नेहरू मिथक और सत्य" 5 जनवरी को आप सब के हाथ में आ जाएगी। किताब की भूमिका संघर्ष की पत्रकारिता का चेहरा बन चुके वरिष्ठ पत्रकार रवीश कुमार ने लिखी…
और पढ़ें »
गांव के नायक

संवैधानिक मूल्यों पर आधारित शिक्षा की ओर बढ़ते कदम

शिरीष खरे/ हर कक्षा में 'मूल्यवर्धन' की गतिविधियों को संचालित करने के लिए दो प्रकार की गतिविधि पुस्तिकाएं होती हैं। पहली पुस्तिका कक्षा के शिक्षक के लिए होती है। इसकी…
और पढ़ें »
गांव के नायक

जब देश के पहले राष्ट्रपति को झेलना पड़ा दहेज प्रथा का दंश

ब्रह्मानंद ठाकुर बात आज से   102  साल पहले की है। राजेन्द्र बाबू  1916 में कलकत्ता ( अब कोलकाता ) से वकालत की पढ़ाई पूरी कर  वकालत करने पटना  आ चुके थे।…
और पढ़ें »
गांव के नायक

नेहरू का कद छोटा कर पटेल को बड़ा नहीं बना सकते

ब्रह्मानंद ठाकुर बंशी बाबा आज जब बहुत दिनों के बाद गांव आए तो  मनकचोटन भाई, बटेसर, झिंगुरी सिंह, फुलकेसर , बदरुआ, हुलसबा और परसन कक्का को साथ लिए हम बंशी बाबा…
और पढ़ें »
गांव के नायक

झूठ की फैक्ट्री और सच के आईने में नेहरू

आलोक श्रीवास्तव के फेसबुक वॉल से साभार ‘इंडिया टुडे’ के पूर्व पत्रकार पीयूष बबेले ने जवाहरलाल नेहरू पर शानदार किताब लिखी है। तीन महीने पहले जब वे पांडुलिपि के साथ…
और पढ़ें »
गांव के नायक

पोथी पढ़-पढ़ जग मुआ, गांधी भया न कोय

ब्रह्मानंद ठाकुर गांव-घर में  आज-कल खेती-पथारी, माल-मवेशी, शादी-विवाह की चर्चा न के बराबर होती है। कारण है अभी न खेती-किसानी का मौसम है और न शादी-विवाह का लगन। खेत में…
और पढ़ें »
गांव के नायक

जलकर बढ़ने की सीख देने वाले राष्ट्रीय चेतना के प्रखर कवि दिनकर 

संजय पंकज राष्ट्रीय चेतना के प्रखर और ओजस्वी कवि रामधारी सिंह दिनकर सामाजिक दायित्व और वैश्विक बोध के भी बड़े प्रभावशाली कवि थे । एक तरफ उनकी कविताएँ शौर्य और…
और पढ़ें »
गांव के नायक

बदलाव पाठशाला: हम चलते रहे, कारवां बनता गया

शिक्षापथ पर बढ़ते बदलाव के कदम ब्रह्मानंद ठाकुर आगामी 2 अक्टूबर को बदलाव पाठशाला  का एक साल पूरा हो जाएगा।  6 साल से 13 साल तक के 8 बच्चों के…
और पढ़ें »