Archives for गांव के नायक - Page 2

रायपुर में ग्रीन गिफ़्ट के साथ दोस्ती की कसम

रुपेश गुप्ता आमतौर पर फ्रेंडशिप डे फ्रैंडशिप बैंड बांधकर, पार्टी करके या गिफ्ट देकर मनाया जाता है, लेकिन शिक्षा और पर्यावरण के लिए काम करने वाली संस्था शिक्षा- कुटीर सोसाइटी…
और पढ़ें »

करोड़पति महिला क्यों बेच रही है छोले कुल्चे?

छोले कुल्चे बेचती उर्वशी यादव। फोटो- Soul-stirrings by Sunali सत्येंद्र कुमार यादव एक SUV गाड़ी, 3 करोड़ रुपए कीमत का बंगला, आर्थिक रूप से मजबूत फिर भी पढ़ी लिखी महिला…
और पढ़ें »

‘घातक पलटन’ से 440 वोल्ट वाली मुलाकात

परमवीर चक्र से सम्मानित योगेन्द्र सिंह यादव के साथ सेल्फी। नवनीत सिकेरा परम पूज्यनीय कलाम साहब की पुण्य तिथि पर आयोजित Dr. A. P. J. Abdul Kalam Memorial International Youth…
और पढ़ें »

भूस्खलन में ढहा मकान, अब रियो से लाएगा ‘गोल्ड’

मैराथन में ओलिंपिक में देश का करेंगे प्रतिनिधित्व बी डी असनोड़ा पूर्व राष्ट्रपति डॉक्टर कलाम ने कहा था कुछ बनना है तो बड़े सपने देखा करो। उनकी बातों ने बहुत…
और पढ़ें »

चंद्रशेखर आज़ाद का तमंचा और मूछें

आज चंद्रशेखर आजाद का जन्मदिन है। इस क्रांतिकारी की पहचान रही मूंछों और तमंचे पर देवांशु झा ने एक कविता लिखी है।  अल्फ्रेड पार्क में निश्चय ही दृढ़तर हुए थे,…
और पढ़ें »

‘ग्रैनीज इन’ में ठहरने का आनंद ही अलग है

नीतीश पाण्डेय अगर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने स्टार्टअप इंडिया कैंपेन के लिए कुछ पोस्टर वीमेन की तलाश करें तो उन्हें अपने संसदीय क्षेत्र बनारस से आगे बढ़ने की जरूरत नहीं…
और पढ़ें »

बज़्म-ए-ज़िंदगी है डाक्टर बज़्मी का अस्पताल

साजिद अशरफ खगड़िया जिले के जलकौड़ा गांव के डाक्टर बज़्मी। नाम डाक्टर जेड रहमान। इलाके में डाक्टर बज़्मी के नाम से मशहूर। एक ऐसा नाम, जिसे आज हर कोई याद…
और पढ़ें »

सहारा नहीं, खुद के भरोसे चलते हैं बांदा के देवराज

बांदा के किसान का सहारा बनी लाठी आशीष सागर कहते हैं लाठी बुढ़ापे का सहारा होती है लेकिन अगर जवानी के शुरुआती पलों में थामनी पड़े तो जरा सोचिए पूरा…
और पढ़ें »

होने और न होने का अफसोस

28 अगस्त 2010। विनय के अलविदा कहने के चंद दिनों बाद पूर्णिया में हुए आयोजन की तस्वीर। साथी विनय तरुण के नाम पर एक और आयोजन रायपुर में हो रहा…
और पढ़ें »

कमाल है तेरा कुआं, सलाम है कस्तूरी

एक महीने में कुआं खोदने वाली कस्तूरी के हौसले को सलाम आशीष सागर दीक्षित कस्तूरी कुंडलि बसे, मृग ढुंढे वन माहि।  ऐसे घट-घट राम हैं, दुनिया देखे नाहि।  वैसे तो…
और पढ़ें »