Archives for गांव के नायक

गांव के नायक

‘लोकल’ को ‘ग्लोबल’ बनाने गांव लौट रहा है इंडिया !

कोरोना ने पूरी दुनिया में उथल-पुथल मचा दी है । हिंदुस्तान भी उससे अछूता नहीं रहा है । कल तक रोजगार के लिए गांवों से शहर की ओर पलायन हो…
और पढ़ें »
गांव के नायक

‘भलु लगद’ वाले सुधीर हैं समाज का ‘फील गुड’ फैक्टर

अरुण यादव गांव की हरियाली और शुद्ध दाना-पानी छोड़कर युवा बड़ी उम्मीद लेकर शहरों की तरफ भागे चले आते हैं। हर किसी को एक उम्मीद रहती है कि शहर उनको…
और पढ़ें »
गांव के नायक

किशनगंज के वर्दी वाले कोरोना वॉरियर्स से लव न करें तो क्या करें?

किशनगंज पूरा देश कोरोना संकट का सामना कर रहा है। हम घर में रहकर देश के लिए अपना योगदान दे रहे हैं तो वहीं डॉक्टर्स और पुलिस अधिकारी फ्रंट लाइन…
और पढ़ें »
गांव के नायक

कोरोना संकट से कैसे निपट रहे हैं राज्य ?

टीम बदलाव कोरोना संकट से निपटने के लिए केंद्र सरकार ने करीब लाख करोड़ का राहत पैकेज दिया है तो वहीं राज्य भी संकट की इस घड़ी में अपनी जनता…
और पढ़ें »
गांव के नायक

नोएडा एक्सटेंशन के पतवाड़ी धाम में ‘मां की रसोई’ जल्द- टीकम सिंह

नवदुर्गा मंदिर, पतवाड़ी नोएडा एक्सटेंशन यानी एक ऐसा शहर जहां आपको सब कुछ नया ही नजर आएगा। धूल और धुंध से घिरी ऊंची-ऊंची इमारतें दिखाई देंगी। कुछ इमारतें अभी बन…
और पढ़ें »
गांव के नायक

सकारात्मक बदलावों को खोजती शिरीष की किताब “उम्मीद की पाठशाला”

बरुण सखाजी ढहते सरकारी स्कूलों में से उम्मीदें खोजती शिरीष खरे की "उम्मीद की पाठशाला" शिक्षा क्षेत्र की अहम किताब है। वे महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, गोवा, मध्यप्रदेश, तमिलनाडु, राजस्थान के स्कूलों…
और पढ़ें »
गांव के नायक

पटना की ‘अम्मा’ और उनके संघर्षों की कहानी

साभार.कुमार सर्वेश नए साल की शुभकामनाओं के बीच आइए देसी की ओर चल! मिलवाते हैं पटना की अम्मा से! आइए, मिलते है पटना शहर की ऐसी शख्सियत से, जो गुमनामी…
और पढ़ें »
गांव के नायक

JNU को समझो और फिर जी चाहे तो लाठी बरसा लेना यारों!

रविकांत जेएनयू एक बार फिर से सुर्खियों में है। जेएनयू में न सिर्फ तीन सौ प्रतिशत फीस वृद्धि की गयी है बल्कि मैस मैनुअल्स को लेकर भी जेएनयू छात्रसंघ और…
और पढ़ें »
गांव के नायक

20 साल में कॉलेज बदला …लेकिन सुरेंद्र सर वैसै ही हैं

अरुण यादव कंक्रीट के जंगल में रहते हुए 13 बरस 9 महीने हो चुके हैं। दिल्ली में कदम रखने के साथ ही तय किया था कि कुछ भी हो जाए…
और पढ़ें »
गांव के नायक

मीडिया की पराली वाली धुंध में ‘सोलंकी वाली सांसें’

पशुपति शर्मा की फेसबुक वॉल से साभार सौम्यता, सरलता और सहजता... यूं तो ये व्यक्ति के बड़े गुण हैं लेकिन कुछ लोग इसे ही कमजोरी मानने की भूल कर बैठते…
और पढ़ें »