Archives for गांव के नायक

गांव के नायक

सकारात्मक बदलावों को खोजती शिरीष की किताब “उम्मीद की पाठशाला”

बरुण सखाजी ढहते सरकारी स्कूलों में से उम्मीदें खोजती शिरीष खरे की "उम्मीद की पाठशाला" शिक्षा क्षेत्र की अहम किताब है। वे महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, गोवा, मध्यप्रदेश, तमिलनाडु, राजस्थान के स्कूलों…
और पढ़ें »
गांव के नायक

पटना की ‘अम्मा’ और उनके संघर्षों की कहानी

साभार.कुमार सर्वेश नए साल की शुभकामनाओं के बीच आइए देसी की ओर चल! मिलवाते हैं पटना की अम्मा से! आइए, मिलते है पटना शहर की ऐसी शख्सियत से, जो गुमनामी…
और पढ़ें »
गांव के नायक

JNU को समझो और फिर जी चाहे तो लाठी बरसा लेना यारों!

रविकांत जेएनयू एक बार फिर से सुर्खियों में है। जेएनयू में न सिर्फ तीन सौ प्रतिशत फीस वृद्धि की गयी है बल्कि मैस मैनुअल्स को लेकर भी जेएनयू छात्रसंघ और…
और पढ़ें »
गांव के नायक

20 साल में कॉलेज बदला …लेकिन सुरेंद्र सर वैसै ही हैं

अरुण यादव कंक्रीट के जंगल में रहते हुए 13 बरस 9 महीने हो चुके हैं। दिल्ली में कदम रखने के साथ ही तय किया था कि कुछ भी हो जाए…
और पढ़ें »
गांव के नायक

मीडिया की पराली वाली धुंध में ‘सोलंकी वाली सांसें’

पशुपति शर्मा की फेसबुक वॉल से साभार सौम्यता, सरलता और सहजता... यूं तो ये व्यक्ति के बड़े गुण हैं लेकिन कुछ लोग इसे ही कमजोरी मानने की भूल कर बैठते…
और पढ़ें »
गांव के नायक

ज़िंदगी ‘किताब’ हो गई… चलो झांक आएं आलोक के सपनों की दुनिया

पीयूष बबेले उनके भीतर एक घड़ी है, जो लगातार काम की रफ्तार को सांसों की रफ्तार से तेज किए रहने को आतुर है. मैं जब भी घंटी बजाता हूं तो…
और पढ़ें »
गांव के नायक

बापू के विचारों को जीने की कला सिखाने वाले ‘सोपान’

आज गांधी जयंती है और लोग गांधी को याद कर रहे हैं। मैं इस मौके पर एक ऐसी शख्सियत की चर्चा करना चाहता हूं, जो गांधी के हमारे करीब होने…
और पढ़ें »
गांव के नायक

राष्ट्रकवि दिनकर की जयंती पर 23 को मुजफ्फरपुर में विशेष कार्यक्रम

बदलाव प्रतिनिधि, मुजफ्फरपुर  राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर  की 111वीं जयंती के अवसर पर  23 सितम्बर को मुजफ्फरपुर में लंगट सिंह महाविद्यालय में विशेष कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। …
और पढ़ें »
गांव के नायक

रवीश कुमार को रेमन मैग्सेसे अवॉर्ड

अरुण प्रकाश/ रवीश कुमार भारतीय मीडिया जगत का एक ऐसा नाम है जिसका आप भले ही विरोध करते हों, लेकिन उसकी अनदेखी नहीं कर सकते । रवीश कुमार को रेमन…
और पढ़ें »
गांव के नायक

गोवा के सरकारी स्कूल और मानवीय मूल्य

शिरीष खरे इन दिनों में रिसर्च के कामम से गोवा भ्रमण पर हूं और खासकर ग्रामीण परिवेश और स्कूलो के बदलते स्वरूप को देखने का मौका मिल रहा है, यकीन…
और पढ़ें »