Archives for आईना - Page 3

आईना

सिंदूर के सवाल पर विवाद क्यों ?

रवींद्र त्रिपाठी के फेसबुक वॉल से हिंदी की वरिष्ठ लेखिका मैत्रेयी पुष्पा के सिंदूर-पोतने वाले शब्द- युग्म पर जो विवाद हो रहा है वह बेहद ओछेपन की तरफ संकेत करता है।…
और पढ़ें »
आईना

भ्रष्टाचार का आरोप नहीं तो मुकदमे का मकसद क्या ?

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने आजतक पंचायत में अपने बेटे पर लगे आरोपो पर जो कहा उसे शब्दश : कोट कर रहा हूं। शाह ने कहा— पहली बात यह समझ…
और पढ़ें »
आईना

10 साल बाद मेरे शहर में सुप्रियो से मुलाकात

योग गुरु धीरज वशिष्ठ के फेसबुक वॉल से अमूमन मैं मीडिया में गुजारे अपने दिनों के अनुभवों को यहां शेयर नहीं करता। चैनल में जितने लोग दिखते हैं, उससे कहीं…
और पढ़ें »
आईना

पीएम साहब! जानबूझकर शल्य को सारथी मत बनाइए न

सुदीप्ति महाभारत मेरी रुचि का विषय है इसलिए जब एक भाषण में माननीय प्रधानमंत्री ने 'शल्य' का नाम लिया और फिर उनकी नकारात्मकता फैलाने की प्रवृति पर बात की तो…
और पढ़ें »
आईना

मुंबई लोकल को सकारात्मक ऊर्जा के साथ जीने की कशिश

राकेश कायस्थ मुंबई के लोकल की ये दो तस्वीरें हैं। एक तस्वीर फर्स्ट क्लास की है और दूसरी सेकेंड क्लास की। दोनो सुबह की है। फर्स्ट क्लास के डिब्बे में…
और पढ़ें »
आईना

सुरों के पवित्र पाश में कस लेती हैं लता

देवांशु झा के एल सहगल सिनेमा के गायन में पहला बड़ा नाम कुंदन लाल सहगल का है। उनके समकालीन और परवर्ती गायकों पर सहगल का गहरा प्रभाव है। लता खुद…
और पढ़ें »
आईना

विद्रोही कवि रामधारी सिंह दिनकर

ब्रह्मानन्द ठाकुर जी हां , विद्रोही कवि रामधारी सिंह दिनकर। हालांकि मनुष्य द्वारा मनुष्य के शोषण पर टिकी इस व्यवस्था के संचालक, आधुनिक राष्ट्रवादियों को दिनकरजी के प्रति मेरा यह…
और पढ़ें »
आईना

काले लिबास वाला

महेश भट्ट, फिल्म निर्माता-निर्देशक काले कपड़े पहनने का शौक़ । सादगी पसंद, बेबाक़ी से अपनी राय रखना उनकी आदत । अपनी फ़िल्मों से लेकर उनके डायलॉग तक हर जगह उनकी…
और पढ़ें »
आईना

वो हर बहस को डिरेल करने वाले महायौद्धा हैं!

राकेश कायस्थ सोशल मीडिया पर मासूमियमत, मूर्खता और व्यवस्थित ट्रोलिंग की तीन धाराएं साथ-साथ चलती रहती हैं। इन तीनों का मकसद एक ही होता है। किसी खास मुद्धे पर उठ…
और पढ़ें »
आईना

सरकारी बैंक के कामकाज की निगरानी कौन करता है?

पुष्यमित्र के फेसबुक वॉल से मन बैंक वालों की वजह से भन्ना गया है। दो ऐसे अनुभव हुए हैं कि समझ नहीं आता, सरकारी बैंक वालों के कामकाज की कोई…
और पढ़ें »