Archives for आईना - Page 21

ऐ चिड़ैया… तेरे नाम भी एक थाना है!

पुष्यमित्र सोनपुर मेले में बस एक महीने के लिए बनता है, चिड़िया बाज़ार थाना। फोटो-पुष्यमित्र यह बात सबको मालूम है कि सोनपुर मेला में चोरी-छुपके पक्षियों का अवैध व्यापार होता…
और पढ़ें »

विनाशलीलाओं के बाद…

चेन्नई में बाढ़ । फोटो- Shanmugapriyan Sivakumar के फेसबुक वॉल से साभार। एक दिन दिन डूब जाएगा पर दिनचर्या से नहीं और रात दिन के मटमैले विस्तार में लंबे समय…
और पढ़ें »

एक मज़दूर की आत्मा

ये जो सफेद स्वीमिंग पूल है पूल समझने की तुम्हारी भूल है इसे मैंने मेरे ख़ून से रंगा है तब कहीं ये इतना झकाझक है तुम्हारी ज़िंदगी दौड़ रही है…
और पढ़ें »

डंडा सें डंडा लड़े, ऊंट लड़े मुंह जोर

बुंदेलखंड: मौनिया दिवारी उत्सव कीर्ति दीक्षित किसी को नीचा दिखाना हो या फिर किसी को बुरा भला कहना हो तो पढ़ा लिखा समाज उसे देहाती या गंवार कहकर पुकारता है।…
और पढ़ें »

‘आफ़ताब’ और ‘सूरज’ से रौशन होना हो तो, खिड़कियां खोल लें

पशुपति शर्मा पटना में चल रहे अनु आनंद राष्ट्रीय रंग महोत्सव के चौथे दिन की दोपहर गांधी के आदर्शों के नाम रही। कटनी से आए नाट्य समूह संप्रेषणा के कलाकारों…
और पढ़ें »

पटना के रंगमंच पर ‘मेहमान’ की ‘दस्तक’

दस्तक की प्रस्तुति एक दिन का मेहमान । बदलाव प्रतिनिधि निर्मल वर्मा की कहानियों को मंच पर उतारना आसान नहीं है। मगर पटना के प्रेमचंद रंगशाला में निर्देशक सदानंद पाटिल…
और पढ़ें »

पटना में राष्ट्रीय रंग महोत्सव – फाइनल कॉल की पहली घंटी

पशुपति शर्मा अनु आनंद राष्ट्रीय रंग महोत्सव का मंच तैयार है। 20 सितंबर शाम बजे होगी विवेचना, जबलपुर की प्रस्तुति। रंगकर्मी दोस्तो। पहली घंटी बज गई है। बस तीन दिन…
और पढ़ें »

बेटे की तरह पालेंगे ‘बट’ के पौधों को

बांदा से आशीष सागर दीक्षित बांदा- बट को बेटे की तरह पालने का संकल्प। बुंदेलखंड की ख़तम होती जा रही हरियाली और सरकारी पौधारोपण के साल दर साल किये जा…
और पढ़ें »

कलाम को आख़िरी प्रणाम

जाति, मज़हब, उम्र और युग की दीवारों को पार करके किसी एक शख़्सियत ने पूरे देश का प्यार पाया है तो वो थे डॉ कलाम ! आप हमेशा याद आओगे…
और पढ़ें »

लूटो तब तक, जब तक… बाबा न पुकारें

लताम के के खइते... फोटो- रुपेश कुमार इन दिनों अमरुद के पेड़ झुक गए हैं। हमारे यहाँ इसे लताम भी कहते हैं। खूब फल आये हैं। बच्चों के झुण्ड तो…
और पढ़ें »