Archives for आईना - Page 16

बुलंदियों की ख्वाहिश में मिटा दिये दरभंगा के पोखर

पुष्यमित्र लहेरियासराय का बेता गामी पोखर, 2014 में पानी से लबालब। बेता गामी पोखर, अब साल 2016 में कुछ ऐसा दिखता है। लहेरियासराय के बेता गामी पोखर को इन दिनों…
और पढ़ें »

… क्योंकि वह मेरी मां है!

माँ माँ यानि सिर्फ एक शब्द नहीं होता एक संस्कृति होती है एक संस्कार होता है एक परंपरा और एक पूरी की पूरी पाठशाला भी। माँ सिर्फ माँ होती है…
और पढ़ें »

मैनपुरी का ‘मास्टर्स इन फ्लावर’

दिल्ली के कृषि मेले में फूलों के बीच युवा किसान रवि पाल अरुण यादव बदलाव की बयार कब और कहां से निकलेगी ये कोई नहीं जानता । क्या आप सोच…
और पढ़ें »

नौबतपुर का अनोखा रामभक्त

चित्र- रवि वर्मा पुष्य मित्र देश में कभी राम को लेकर वाकयुद्ध चलता है तो कभी भारत माता के नाम पर महाभारत, लेकिन ऐसे लोगों को ना तो राम से…
और पढ़ें »

शक्ति ! तेरे गुड़ की ढेली चुराने को जी चाहता है…

विनोद कापड़ी मच्छरदानी हटाई जा रही है। गद्दे उठा लिए गए हैं। कूलर हटाए जा चुके हैं। पुआल समेटी जा रही है। शक्तिमान के अस्थायी बाड़े या अस्पताल में अब…
और पढ़ें »

नंद गांव की गौशाला, जहां रंभाती हैं सवा लाख गायें

पथमेडा गौशाला, राजस्थान। फोटो- भव्य श्रीवास्तव भव्य श्रीवास्तव राजस्थान के सांचौर जिले में पथमेडा गौशाला है, जो विश्व की सबसे बड़ी गौशाला मानी जाती है। मैं हाल ही में यहाँ…
और पढ़ें »

पढ़ाई के लिए ऐसी लड़ाई! जय बीना, जय हिंद!

रूपेश कुमार बीना अपनी दुधमुंही बच्ची के साथ। फोटो-रुपेश कुमार बीना को इसलिए उसके ससुरालवालों ने घर से निकाल दिया कि वह पढ़ना चाहती थी, लेकिन उसने हिम्मत नहीं हारी।…
और पढ़ें »

कुछ सपनों के मर जाने से, जीवन नहीं मरा करता है…

रिषीकांत सिंह प्रत्युषा बनर्जी की आखिरी विदाई। चार दिन पहले की बात है। रात में सोने की तैयारी कर रहा था। अचानक ऊपर वाले फ्लैट में चीख-पुकार मची। दौड़ कर…
और पढ़ें »

सिलिकन वैली से कुछ यूं देखा उसने अपने हिंदुस्तान को…

रिद्धी भेदा अपनी मां के साथ रिद्धी भेदा। अमेरिका और हिंदुस्तान दो देशों की संस्कृतियों का समागम। मैं मिड्ल स्कूल की छात्रा हूं और इन दिनों सांटा क्लारा में रहती…
और पढ़ें »

मुस्कान… आशाओं वाली… उम्मीदों वाली

हेमन्त वशिष्ठ ये तस्वीर आपसे कुछ कहना चाहती है... ये बेफिक्री... कुछ कहना चाहती हैं... कुछ कहना चाहते हैं ये चेहरे... ये चेहरे... अनजाने से... कुछ साफ कुछ धुंधले ...…
और पढ़ें »