Archives for आईना - Page 16

आधे-अधूरे का यथार्थवाद और जयंत देशमुख का सेट

संगम पांडेय जयंत देशमुख सिनेमा के जाने-माने सेट डिजाइनर हैं। उनका यह हुनर एमपीएसडी के छात्रों के लिए निर्देशित नाटक ‘आधे अधूरे’ में भी पूरे उरूज पर नुमाया था। मोहन…
और पढ़ें »

आतंकी और बहादुर बच्चा

डेमो राजेश मेहरा राजू घर में खेल रहा था तभी उसके पापा ऑफिस से आये और बोले बेटा टीवी चलाओ जरा। राजू ने पूछा क्या बात है पापा आज आप…
और पढ़ें »

दलित होने का दर्द… छात्र से प्रोफेसर बनने तलक

रविकांत चंदन हाल में बिहार शिक्षा (माध्यमिक) बोर्ड के हाईस्कूल और इंटरमीडिएट के नतीजे सुर्खियों में रहे हैं। पहले जिन टाॅपर्स के घरों में खुशियाँ मनायी जा रही थीं, मिठाइयाँ…
और पढ़ें »

कान्हा करेगा ‘सुदीप’ तेरा इंतज़ार, हो सके तो आना ज़रूर

राकेश कुमार मालवीय सुदीप (बीच में)। रामकृष्ण डोंगरे और राकेश मालवीय के साथ। उफ ! वक्त तुम कितने बुजदिल हो। दो साल पहले सुदीप पत्रकारिता में एक नई जगह पर…
और पढ़ें »
आईना

शौचालय, औरतें और सबक 5 रूपये वाला

फोटो- संध्या कश्यप दुनिया से जीती, जीती खुद से हारी ...बस ध्वस्त खड़ी हूँ मैं ...!!! स्वानंद किरकिरे की ये पंक्तिया कितनी सटीक और सार्थक है नारी के सन्दर्भ में।…
और पढ़ें »

सत्ता और ताक़त के लिए देह का सौदा क्यों?

पिछले कुछ दिनों से फेसबुक पर स्त्री विमर्श पर कई टिप्पणियां देखीं। जेएनयू की रिसर्च स्कॉलर रहीं सुदीप्ति ने इस सिलसिले में फेसबुक पर कुछ टिप्पणियां पोस्ट की हैं। सुदीप्ति…
और पढ़ें »

मैडम, बदतमीजी… अगर लगी तो सॉरी

राकेश कुमार मालवीय उस लड़की के जोर से चिल्लाने से मेरी नींद खुली। वह अपनी बर्थ से उठकर दौड़ती ट्रेन के फर्श पर बदहवास-सी खड़ी थी। अंधेरे में उसकी पीठ…
और पढ़ें »

रायपुर में ‘मोचीराम’ की चीख और चुप्पी

टीम बदलाव "बाबूजी सच कहूं, मेरी निगाह में न कोई छोटा है न कोई बड़ा, मेरे लिए हर आदमी एक जोड़ी जूता है, जो मेरे सामने मरम्मत के लिए खड़ा…
और पढ़ें »

कैराना में बहुत कम बच रहा है कैराना

अरविंद दास “लखनऊ में बहुत कम बच रहा है लखनऊ इलाहाबाद में बहुत कम इलाहाबाद कानपुर और बनारस और पटना और अलीगढ़ अब इन्हीं शहरों में कई तरह की हिंसा …
और पढ़ें »

किसी का निकाह न हुआ… किसी को तलाक ने मारा

 पुष्यमित्र 50 साल की रजिया खातून जो आज तक अविवाहित है और साथ में 45 साल की छोटी बहन जो तलाकशुदा है। रजिया खातून अब पचास साल की हो गयी…
और पढ़ें »