Archives for आईना

आईना

ईश्वर का पथगमन

निखिले कुमार दुबे के फेसबुक वॉल से साभार दीवाली के बाद ईश्वर का पथगमनघर से निकाले गए फुटपाथ मे बैठे भगवानचुनरी जो ईश्वर का श्रृंगार थीअब सड़क का विकार हैकाफी…
और पढ़ें »
आईना

औद्योगीकरण के आगे साम्यवाद का टूटा सपना !

गांधी और व्यावहारिक अराजकवाद भाग-2 औद्योगिक क्रांति के बाद यूरोप में मजदूर वर्ग की स्थिति को सुधारने के  जो प्रारम्भिक प्रयास हुए उसका मूल उद्देश्य विकास की इस धारा से…
और पढ़ें »
आईना

सजा छात्र को दी गई और दर्द गांधीजी को हुआ

सत्य के प्रयोग पार्ट -2 पहली कड़ी में आपने पढ़ा कि महात्मा गांधी ने  दक्षिण अफ्रीका में जेल की सजा काट रहे सत्याग्रहियों  के आश्रितों का भरण पोषण और उनके…
और पढ़ें »
आईना

कौशलेंद्र- एक धीमी मौत के लिए आश्वस्त हैं हम सभी

कौशलेंद्र प्रपन्ना पशुपति शर्मा शनिवार, सुबह… एक मित्र से सुना था उसका नाम-कौशलेंद्र। बहुत कुछ नहीं जानता, उसके बारे में। मित्र ने बताया- शिक्षा के क्षेत्र का 'एक्टिविस्ट' था। किसी…
और पढ़ें »
आईना

‘साक्षात्कार अधूरा है’- गुरु से गुरु तक की यात्रा

पशुपति शर्मा बंसी दा के साथ काम करने का अपना अनुभव है। रचना-कर्म के दौरान एक आत्मीय रिश्ता रहता है और यही गुरु-शिष्य परंपरा का अपना अनूठापन है। शिक्षक दिवस…
और पढ़ें »
आईना

रंगकर्मी प्रसन्ना को ‘कारवां-ए-हबीब सम्मान’

वर्ष 2019 के 'कारवां-ए-हबीब सम्मान' के लिये हम सबके प्रिय रंगकर्मी, निर्देशक, गांधीवादी चिंतक एवं एक्टिविस्ट प्रसन्ना को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं। कारवां-ए-हबीब तनवीर और विकल्प साझा मंच, दिल्ली द्वारा…
और पढ़ें »
आईना

नेमिजी के होने न होने के 100 बरस

रवीन्द्र त्रिपाठी नेमि शती समारोह के दौरान पुस्तक विमोचन। किसी बड़े रचनाकार की जन्मशती के मौके पर ये सवाल उठ सकता है कि उसे किस रूप में याद रखा जाए?…
और पढ़ें »
आईना

गोवा का एक अनोखा स्कूल

शिरीष खरे आमतौर पर घर, खेत, खलिहान और दुकानों पर काम करने वाली महिलाओं के काम को काम नहीं माना जाता है। बच्चों को पालने और उन्हें बड़े करने के…
और पढ़ें »
आईना

गांधी और दलित उत्थान

पिछले हफ्ते पटना के विद्यापति भवन सभागार में “गांधी और दलित” विषय पर एक परिचर्चा का आयोजन किया गया। इस परिचर्चा में मुख्य अतिथि थे बिहार के माननीय उप-मुख्यमंत्री श्री…
और पढ़ें »
आईना

समांतर सिनेमा की राह बनाने वाले फिल्मकार की नज़र

अरविंद दास साल 2010 की गर्मियों के मौसम में हम पुणे स्थित फिल्म एवं टेलीविजन संस्थान (एफटीआइआइ) में फिल्म एप्रीसिएशन कोर्स करने गए थे। उस दौरान समांतर सिनेमा के अग्रणी…
और पढ़ें »