Archives for आईना

आईना

एम के रैना का नाटक गांधी को बनाता है बच्चों का ‘रॉकस्टार’

ललित सिंह                        जब- जब समाज में हिंसा, दर्प और नैराश्य की स्थिति हावी होने लगती है तब एक रौशनी…
और पढ़ें »
आईना

शहीद सैनिकों का ‘दफ़न-विद्रोह’ और मंच पर ‘ज़िंदा’ सवाल

मोहन जोशी बरी द डेड नाटक का एक दृश्य मशहूर लेखक व दार्शनिक ‘ज्यां पॉल सात्रे’ ने कहा था ‘ यदि आप जीत का वृतांत सुन लें , तो आपके लिए हार…
और पढ़ें »
आईना

अशिक्षा और असमानता से ‘आजादी’ हमारा हक- सुभाष चंद्र बोस

ब्रह्मानंद ठाकुर जेएनयू की हालिया घटनाओं  से शिक्षा जगत में उबाल है।  छात्रों के आंदोलन को लेकर पक्ष-विपक्ष में विभिन्न तर्क गढ़े जा रहे हैं। कुछ लोग छात्रानाम् अध्ययन तप:…
और पढ़ें »
आईना

अपनी पहचान खोता विदिशा का बासौदा नगर

पुरु शर्मा क्या वास्तव में हमारा शहर ऐसा ही था ? जैसी आज उसकी छवि पूरे प्रदेश में बन चुकी है, आप बोलेंगे नहीं हमारा बासौदा तो वो शहर था…
और पढ़ें »
आईना

जिंदा रहेगा जेएनयू

पशुपति शर्मा के फेसबुक वॉल से साभार तुम जिसेकुचलनेमसलनेऔर मिटा देने परआमादा हो...वो याद आएगाहमेशावो जिंदा रहेगाहमेशा जब कभीजुल्मो-सितम सेतुम छटपटाओगेवो याद आएगाजब कभीमालिकों से सताए जाओगेवो याद आएगाजब कभीनेताओं…
और पढ़ें »
आईना

ईश्वर का पथगमन

निखिले कुमार दुबे के फेसबुक वॉल से साभार दीवाली के बाद ईश्वर का पथगमनघर से निकाले गए फुटपाथ मे बैठे भगवानचुनरी जो ईश्वर का श्रृंगार थीअब सड़क का विकार हैकाफी…
और पढ़ें »
आईना

औद्योगीकरण के आगे साम्यवाद का टूटा सपना !

गांधी और व्यावहारिक अराजकवाद भाग-2 औद्योगिक क्रांति के बाद यूरोप में मजदूर वर्ग की स्थिति को सुधारने के  जो प्रारम्भिक प्रयास हुए उसका मूल उद्देश्य विकास की इस धारा से…
और पढ़ें »
आईना

सजा छात्र को दी गई और दर्द गांधीजी को हुआ

सत्य के प्रयोग पार्ट -2 पहली कड़ी में आपने पढ़ा कि महात्मा गांधी ने  दक्षिण अफ्रीका में जेल की सजा काट रहे सत्याग्रहियों  के आश्रितों का भरण पोषण और उनके…
और पढ़ें »
आईना

कौशलेंद्र- एक धीमी मौत के लिए आश्वस्त हैं हम सभी

कौशलेंद्र प्रपन्ना पशुपति शर्मा शनिवार, सुबह… एक मित्र से सुना था उसका नाम-कौशलेंद्र। बहुत कुछ नहीं जानता, उसके बारे में। मित्र ने बताया- शिक्षा के क्षेत्र का 'एक्टिविस्ट' था। किसी…
और पढ़ें »
आईना

‘साक्षात्कार अधूरा है’- गुरु से गुरु तक की यात्रा

पशुपति शर्मा बंसी दा के साथ काम करने का अपना अनुभव है। रचना-कर्म के दौरान एक आत्मीय रिश्ता रहता है और यही गुरु-शिष्य परंपरा का अपना अनूठापन है। शिक्षक दिवस…
और पढ़ें »