Author Archives: badalav - Page 97

30 साल बाद… अपने कॉलेज में ‘ताका-झांकी’

मुज़फ़्फ़रपुर के एलएस कॉलेज की नई-पुरानी यादें (मैं, ममता और मेरी बेटी ) अजीत अंजुम की फेसबुक वॉल से अतीत बहुत पीछे छूट जाता है । असंख्य चेहरे होते हैं,…
और पढ़ें »

नौबतपुर का अनोखा रामभक्त

चित्र- रवि वर्मा पुष्य मित्र देश में कभी राम को लेकर वाकयुद्ध चलता है तो कभी भारत माता के नाम पर महाभारत, लेकिन ऐसे लोगों को ना तो राम से…
और पढ़ें »

देवरिया का मंत्र- शुरू हो ‘विकास यात्रा’

सत्येंद्र कुमार यादव देवरिया के निपनिया ठेंगवल दुबे में बदलाव की चौपाल। फसल बीमा योजना, स्टार्टअप इंडिया, स्टैंडअप इंडिया, मुद्रा बैंक, कामधेनु योजना, समाजवादी पेंशन योजना जैसी तमाम योजनाएं केंद्र…
और पढ़ें »

वो नीतीश से पहले से चला रहे हैं शराबबंदी अभियान

मुकेश पांडेय वे महिलाएं जिनकी बदलौत चांदी गांव में आयी शांति और समृद्धि। यह कहानी रोहतास जिले के चांदी पंचायत की है। अकोढ़ी गोला प्रखंड में पड़ने वाले इस पंचायत की…
और पढ़ें »

कोसी के लिए मुरलीगंज का अलर्ट !

फोटो- अजय कुमार रुपेश कुमार यूपी, बिहार, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश समेत तमाम राज्य सूखे की मार झेल रहे हैं । यूपी का बंदेलखंड हो या महाराष्ट्र का विदर्भ, सब जगह…
और पढ़ें »

शक्ति ! तेरे गुड़ की ढेली चुराने को जी चाहता है…

विनोद कापड़ी मच्छरदानी हटाई जा रही है। गद्दे उठा लिए गए हैं। कूलर हटाए जा चुके हैं। पुआल समेटी जा रही है। शक्तिमान के अस्थायी बाड़े या अस्पताल में अब…
और पढ़ें »

देवरिया में लगी ‘बदलाव की चौपाल’

अनिल कुमार उत्तर प्रदेश के जौनपुर से ‘बदलाव की चौपाल’ का जो सफर शुरू हुआ वो दिल्ली होते हुए नेपाल की सीमा तक पहुंच चुका है । आप सभी के…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

“सही चीज पीते तो मैं खुद पैग बनाकर देती”

बच्चों के साथ बैठी सरस्वती देवी, पति की शराब की आदत ने परिवार को तबाह कर दिया। पुष्यमित्र कहानी मुजफ्फरपुर के एक गांव की, जहां की औरतों का जीवन शराब…
और पढ़ें »

नंद गांव की गौशाला, जहां रंभाती हैं सवा लाख गायें

पथमेडा गौशाला, राजस्थान। फोटो- भव्य श्रीवास्तव भव्य श्रीवास्तव राजस्थान के सांचौर जिले में पथमेडा गौशाला है, जो विश्व की सबसे बड़ी गौशाला मानी जाती है। मैं हाल ही में यहाँ…
और पढ़ें »

‘पुलिस’ को ‘दोस्त’ बनाने का संकल्प… मुबारक हो!

सत्येंद्र कुमार यादव गांवों में आज भी पुलिस कमोबेश 'दहशत' और 'दमन' की छवि से उबर नहीं पाई है। ख़ास कर ऐसे लोग जो आर्थिक रूप से कमजोर हैं, उन्हें…
और पढ़ें »