Author Archives: badalav - Page 87

‘जनता की राजधानी’, ये लड़ाई इतनी आसान भी नहीं

गैरसैंण, उत्तराखंड पुरुषोत्तम असनोड़ा उत्तराखण्ड की 'जनता की राजधानी' के नाम से विख्यात गैरसैंण में 2 नवम्बर से आयोजित विधान सभा सत्र पक्ष-विपक्ष के हो-हल्ले, आरोप-प्रत्यारोप से आगे नहीं बढ…
और पढ़ें »

बीजेपी का ‘चाणक्य’ क्यों फेल हो गया?

बिहार के चुनाव हो गए। नीतीश कुमार लगातार तीसरी बार बिहार के मुख्यमंत्री बनेंगे। लालू यादव की पार्टी दस साल के वनवास के बाद सत्ता में लौटेगी। लालू के दोनों…
और पढ़ें »

इस दिवाली भूल न जाना, कोई आपके भरोसे है!

सत्येंद्र कुमार यादव कहीं ऐसा ना हो बेटी धूप में जलती रहे और आप चीन के दीये जलाएं! इस दिवाली जरूर याद रखिएगा। ये बेटी आप के भरोसे मिट्टी के…
और पढ़ें »

एक और चांस पर नीतीश का डांस

दिल्ली के बाद बिहार में बीजेपी की बड़ी हार, फिर से नीतीश कुमार। एक बड़ी जीत के साथ नीतीश तीसरी बार बिहार के मुख्यमंत्री बनेंगे। पीएम मोदी, अमित शाह ने नीतीश कुमार…
और पढ़ें »

काश ! ‘कछुआ चाल’ से ही चल पड़े विकास की ‘ट्रेन’

पुष्यमित्र बुलेट ट्रेन की बात करने वाले पीएम मोदी कभी ऐसी ट्रेनों का सफ़र करें। फोटो-पुष्यमित्र वैसे तो यह एक पैसेंजर ट्रेन की कहानी है जो बुलेट ट्रेन के जमाने…
और पढ़ें »

इस ‘घाव’ को अब पक ही जाने दें!

सचिन कुमार जैन फोटो-सचिन कुमार जैन के फेसबुक वॉल से मैं दिल से चाहता हूँ कि बिहार में उनकी जबरदस्त जीत (विजय नहीं) हो। मैं चाहता हूँ कि वे मांस पर…
और पढ़ें »

बिहार में किसकी दीवाली, किसका दिवाला?

अगर अग्जिट पोल सही हुए तो बिहार में किसकी दिवाली मनेगी और किसका दिवाला निकलेगा? फिलहाल सियासी दलों के लिए ये लाख टके का सवाल बना हुआ है। आखिरी चरण…
और पढ़ें »

क़ातिलों, ये खून का मिजाज है!

धीरेंद्र पुंडीर बिहार के प्रसिद्ध चित्रकार राजेंद्र प्रसाद गुप्ता की कृति। साभार- उनके फेसबुक वॉल से। खून से सने खंजर को साफ करते हुए भीड़ के साथ नारा लगाया एक…
और पढ़ें »

मुज़फ़्फ़रनगर की ‘भारत मां’

अश्विनी शर्मा मीणा मां के घर में पूरा 'हिंदुस्तान' जिस मुजफ्फरनगर में धर्म के नाम पर मारकाट मची। जब लोग हिंदू-मुस्लिम  के नाम पर मरकट रहे थे, मासूम बच्चों पर…
और पढ़ें »

बाय-बाय बनैनिया ! तेरी हाय की फिक्र किसे है?

पुष्यमित्र महज पांच साल पहले कोसी नदी के किनारे एक खूबसूरत और समृद्ध गांव था बनैनिया। मिथिलांचल और कोसी के इलाकों को जोड़ने के लिए जब महासेतु बना तो बनैनिया…
और पढ़ें »