Author Archives: badalav - Page 2

चौपाल

राजनीतिक गणित में बुरी तरह से उलझ कर रह गई हिन्दी

डॉ संजय पंकज हिन्दी को राजभाषा का दर्जा देकर सरकार भूल गई। १४ सितम्बर १९४९ से हर वर्ष हिन्दी दिवस मनाने की जो औपचारिकता शुरू हुई वह एक सरकारी परम्परा बन…
और पढ़ें »
आईना

समस्या आरक्षण नहीं, भयानक बेरोजगारी है

पीयूष बबेले नब्बे के दशक की शुरुआत में मंडल कमीशन लागू होने के बाद से यह पहला मौका था, जब अगड़ी जाति के लोग आरक्षण के विरोध में सड़कों पर…
और पढ़ें »
सुन हो सरकार

गौरक्षकों को स्वामी विवेकानंद का संदेश

ब्रह्मानंद ठाकुर 11 सितम्बर 1893। इसी दिन स्वामी विवेकानन्द ने शिकागो शहर में विश्व हिंदू धर्म महा सम्मेलन में व्याख्यान दिया था। आज उसका 125 वां वर्ष है। वैसे स्वामी…
और पढ़ें »
गांव के नायक

स्वामी विवेकानंद और हिंदू गौरव वाणी के 125 बरस

संजय पंकज संसार की प्रथम विश्व धर्म महासभा शिकागो,अमेरिका में 11 सितम्बर 1893 में विराट भारत खड़ा हुआ था। इसके साक्षी हजारों लोग थे, उन्हें तब आभास भी नहीं था…
और पढ़ें »
गांव के रंग

शिक्षक नहीं, मल्टीपर्पस ड्राइवर

डॉ. सुधांशु कुमार जी हां ! हम शिक्षक नहीं, ड्राइवर हैं । मल्टीपर्पस, मल्टीटैलेंट । इसीलिए खिचड़ी से लेकर बत्तख गणना, पशुगणना, चुनाव कार्य, वोट गिनती, प्रातः काल में लोटाधारी…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

दुख, तकलीफ, पीड़ा में जादू-टोना वाला ससुराल मत भागो भईया

ब्रह्मानंद ठाकुर तस्वीर सौजन्य- अजय कुमार कोसी बिहार चुल्हन भाई तीन दिन पर ससुराल से लौटे हैं। वैसे वे यदा -कदा विशेष काज -परोजन पर ही ससुराल जाते हैं। इधर…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

अस्पताल के नाम पर दोहरा फर्जीवाड़ा, जमीन दानदाता से धोखा

ब्रह्मानंद ठाकुर आज से 6 साल पहले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार मुजफ्फरपुर जिले के पिलखी मे बूढीगंडक नदी पर बने पुल का शिलान्यास करने आए थे। उसी दिन मौका पाकर स्थानीय…
और पढ़ें »
बिहार/झारखंड

अबकी बार सियासत का ‘सवर्ण संग्राम’

देश में कभी पिछड़ा वर्ग आंदोलन होता तो कभी एससी एसटी और सवर्ण । हर कोई अपने अपने तरीके से अपने-आंदोलनों को जायज ठहराता है । होना भी चाहिए ।…
और पढ़ें »
आईना

एम्स की भाग-दौड़ और अटलजी की यादें

ब्रजेन्द्र नाथ सिंह के फेसबुक वॉल से साभार लगभग 15 सालों के अपने पत्रकारिता जीवन में मैंने सैकड़ों रैलियां कवर की है। मुझे पता है आज इन रैलियों में भीड़…
और पढ़ें »
सुन हो सरकार

शिक्षकों पर चादरपोशी की रस्म अदायगी कब तक?

डा. सुधांशु कुमार आज सवेरे-सवेरे श्रीमती जी ने एक प्रश्न प्रक्षेपित कर दिया -'सुना है शिक्षक दिवस के दिन आप सभी शिक्षक सरकार के द्वारा सम्मानित किए जाएंगे ? '…
और पढ़ें »