Author Archives: badalav - Page 160

बांदा के बंदों की सेहत का ‘रखवाला’ कौन?

आशीष सागर दीक्षित फोटो-आशीष सागर दीक्षित बेदम सरकारी स्वास्थ्य सुविधाओं से कराह रहा है बुंदेलखंड का पूरा क्षेत्र। बिना फार्मेसिस्ट के चल रहे मेडिकल स्टोर, गैर पंजीकृत नर्सिंग होम और झोलाछाप…
और पढ़ें »

वैष्णव जन तो तैणें कहिए… जे पीर पराई जाने रे

नोआखली में एक मुस्लिम बुजुर्ग के साथ बातें करते महात्मा गांधी। आज गांधी का जन्मदिन है। सत्य और अहिंसा का सबक याद करने का दिन। अहिंसा की डगर कठिन है…
और पढ़ें »

गांव की हाट में वो लगा रहा है घरौंदे की बोली

आशीष सागर दीक्षित विकास यादव पुत्र मृतक सुरेश यादव गाँव, बघेलाबारी, बुंदेलखंड। पेशे से किसान। विकास यादव की मां भी जीवित नहीं है। इलाहाबाद के यूपी ग्रामीण बैंक, शाखा फतेहगंज में…
और पढ़ें »

यारों को वीराने में छोड़ गए वीरेन

श्रद्धांजलि तहखानों से निकले मोटे-मोटे चूहे जो लाशों की बदबू फैलाते घूम रहे हैं कुतर रहे पुरखों की सारी तस्वीरें चीं-चीं, चिक-चिक की धूम मचाते घूम रहे पर डरो नहीं,…
और पढ़ें »

गांव के खुराफातियों का बहाना क्यों मंत्रीजी?

हरि अग्रहरि 23 और 24 सितंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सपने की एक योजना 'सांसद आदर्श ग्राम योजना' पर दो दिनों की पहली कार्यशाला मध्यप्रदेश में हुई। इसमें देश…
और पढ़ें »

20 सालों से तीन पोल पर अटका पुल

कुबेरनाथ पोल वाला पुल... ये पुल तो महज तीन पोल से बना है... नीचे से गहरी नदी गुजरती है... बीच में एक पाया है...और पाये पर रखा गया है...तीन पोल…
और पढ़ें »

रवीश, सोशल मीडिया के ‘बायकॉट की पॉलिटिक्स’ क्या है?

धीरेंद्र पुंडीर "आप मेरी नहीं अपनी चिंता करे क्योंकि अब बारी आपकी है। आप सरकारों का हिसाब कीजिए कि आपके राज में बोलने कि कितनी आज़ादी है और प्रेस 'भांड'…
और पढ़ें »

चुनावी शोर में किसानों की फिक्र कर लेना नेताजी

नीलू अग्रवाल बिहार में चुनाव का शोर शुरू हो गया है। इसके साथ ही सियासी दलों के रणनीतिकार जाति के आंकड़ों को जुटाने, उसका विश्लेषण करने और जाति के वोटबैंक…
और पढ़ें »

‘आफ़ताब’ और ‘सूरज’ से रौशन होना हो तो, खिड़कियां खोल लें

पशुपति शर्मा पटना में चल रहे अनु आनंद राष्ट्रीय रंग महोत्सव के चौथे दिन की दोपहर गांधी के आदर्शों के नाम रही। कटनी से आए नाट्य समूह संप्रेषणा के कलाकारों…
और पढ़ें »

पटना के रंगमंच पर ‘मेहमान’ की ‘दस्तक’

दस्तक की प्रस्तुति एक दिन का मेहमान । बदलाव प्रतिनिधि निर्मल वर्मा की कहानियों को मंच पर उतारना आसान नहीं है। मगर पटना के प्रेमचंद रंगशाला में निर्देशक सदानंद पाटिल…
और पढ़ें »