Author Archives: badalav - Page 149

‘काली नज़रों’ से घर नहीं जलते, बकरी नहीं मरती…

सत्येंद्र कुमार यादव की रिपोर्ट झारखंड में डायन बता कर 5 महिलाओं की हत्या। किस युग में है हमारा समाज कौन जाने? छोटी-छोटी बातों पर महिलाओं को टोनहिन, डायन, नज़र…
और पढ़ें »

दूसरे भाषण में देश बदलने का दमखम

पीएम के भाषण पर सत्येंद्र कुमार की प्रतिक्रिया दूसरे भाषण में बस देश की बात की। पहले घर दुरुस्त करने की कवायद। संगच्छध्वम् संवदध्वम् सं वो मनांसि जानताम्—हम साथ चलें,…
और पढ़ें »

खरामा-खरामा देश बदलने की ललक

देश बदलने की दिशा में 15 कदम  'टीम इंडिया' के कैप्टन का देश को नमन। 1. 75वें स्वतंत्रता दिवस यानी 2022 तक सक्षम, स्वस्थ, श्रेष्ठ, स्वाभिमानी, संपन्न और स्वालंबी भारत के…
और पढ़ें »

लाल किले से किसानों को तोहफा

लाल किले से पीएम मोदी का दूसरा भाषण किसानों के फ़ायदे की 5 अहम बातें 1. किसानों के खेत तक पानी पहुंचाने के लिए योजना बनाई। हर खेत को पानी…
और पढ़ें »

लाल किले के प्राचीर से 2014 के 15 वादे

लाल किले से प्रधान सेवक का पहला भाषण15 अगस्त, वो दिन जिसके नाम मात्र से आज़ादी का रोमांच भर जाता है। इस दिन पूरा देश आज़ादी का जश्न मनाता है।…
और पढ़ें »

द ट्रुथ… द ओनली ट्रुथ… बट द कलर इज़ ‘ब्लैक’

  कौन बनाता है एक महिला को डायन, कौन है हत्यारा? -संजय श्रीवास्तव के फेसबुक वॉल से मैं डायन प्रथा के बारे में ज्यादा नहीं जानता था। पिछले दिनों जब…
और पढ़ें »

छोटी पहल से बड़ी खुशियां बंटोरते हैं वो

दिल्ली के नंदनगरी का विकास। कंप्यूटर से बदला जीवन। फोटो- 100 पर्सेंट काइंडनेस - पशुपति शर्मा की रिपोर्ट। नेक इरादों के साथ छोटी कोशिशों का भी अपना एक असर होता…
और पढ़ें »

‘डायन’ बता कर मत करना ‘मर्डर’

-पुष्यमित्र के फेसबुक वॉल से विश्व आदिवासी दिवस के मौके पर मैंने फेसबुक पर कई मित्रों के शुभकामना संदेश देखे। कुछ साथी यह बताते रहे कि आज भी भारत में आदिवासियों…
और पढ़ें »

वो पूछेंगे ज़रूर-बता तेरा हुनर क्या है?

-सत्येंद्र कुमार की रिपोर्ट देश में हर साल एक करोड़ से ज्यादा नौजवान रोजगार के लिए शहरों की ओर पलायन करते हैं। गरीब, वंचित वर्ग के साथ मिडिल क्लास के…
और पढ़ें »

तेरा जुल्मों कौ हिसाब चुकौंल एक दिन…

-बी डी असनोड़ा की रिपोर्ट नरेंद्र सिंह नेगी। उनकी आवाज़ में है असर का जादू। फ्रांस के एक मशहूर लेखक ज्यां पॉल सार्त्र को 1964 में साहित्य के लिए नोबल…
और पढ़ें »