Author Archives: badalav - Page 144

बिना बिजली के चुनावी ‘करंट’ दौड़ रहा है!

अरविंद पांडेय बाहर लालटेन जल रही है...जो छज्जे पर लगे हुक के सहारे टांग दी गई है। रोशनी इतनी ही है कि चेहरे के अलावा कुछ देखने के लिए आंखों…
और पढ़ें »

मुठभेड़ के नाम पर बंद हो सरकारी हिंसा

दिवाकर मुक्तिबोध आत्मसमर्पित नक्सलियों को छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा नौकरी में लेने की पेशकश क्या राज्य में हिंसात्मक नक्सलवाद के ताबूत पर आखिरी कील साबित होगी? शायद हां, पर इसकी पुष्टि…
और पढ़ें »

‘वीरों की धरती’… लहूलुहान और वीरान क्यों ?

आशीष सागर दीक्षित उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में विभाजित बुंदेलखंड का इलाका पिछले कई सालों से प्राकृतिक आपदाओं का दंश झेल रहा है। भुखमरी और सूखे की त्रासदी से अब…
और पढ़ें »

ज़िंदगी इतने बड़े इम्तिहान क्यों लेती है ?

कीर्ति दीक्षित कई दिनों से फेसबुक पर उसकी पीहू और उसे देख रही हूं। एक बार नहीं दर्जनों बार। अखबारों में इंटरव्यू पढ़ी। टीवी पर उसकी बातें सुनी। फेसबुक पर…
और पढ़ें »

इन हसीन वादियों में आधा आसमां मेरा भी है

शाहनवाज़ खान कश्मीर की वादियों में अब बेटियों का दम नहीं घुटेगा। घाटी की लाडलियों को खुली हवा में सांस लेने की पूरी आज़ादी रहेगी । धरती की जन्नत की…
और पढ़ें »

चलो ‘गुइयां’, अपन भी अखबार निकालें

सचिन श्रीवास्तव मध्य प्रदेश विज्ञान सभा के पातालकोट स्थित गैलडुब्बा गांव में दीवार अखबार ‘‘गुइयां’’ के विमोचन का साझीदार बनना अपने तरह का सुख रहा।  अखबार बच्चों ने तैयार किया…
और पढ़ें »

मां से मिला देती है ‘मइया’

फोटो- अनीश कुमार सिंह केरवा के पात पर उगेलन सूरूज मल झांके-झुंके... ये गाना घर-घर में बज रहा था लेकिन घर में उदासी छाई थी। मां खरना पर अकेली बैठी…
और पढ़ें »

लोक में बसी बराबरी की चेतना का महापर्व है छठ

रूपेश कुमार आज शाम सूरज देवता को पहला अर्घ्य। आज महापर्व छठ है। एक साल के इंतज़ार के बाद छठ का पर्व आया है। दिल्ली सहित पूरे भारत से परदेसी…
और पढ़ें »

जी हुजूर! रिश्वत जान ले रही है, आप तो तमाशा देखिए

दिवाकर मुक्तिबोध छत्तीसगढ़ में भ्रष्टाचार के सवाल पर राज्य सरकार की 'ज़ीरो टॉलरेंस' की नीति है। मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह एवं सरकार के अन्य नुमाइंदे सरकारी एवं गैर-सरकारी कार्यक्रमों में…
और पढ़ें »