Author Archives: badalav - Page 143

नये साल की ‘नव प्रभा’

निशांत जैन  नवल विभा हो, नवल प्रभा हो नवल-नवल कांति आभा हो । नव प्रभात हो, नव विहान हो नव विलास नव ही उत्थान हो । नवल गति हो, नवल…
और पढ़ें »

मालदा से पूर्णिया तक ‘आग’ पर कोई न सेंके अपनी ‘रोटी’

कहां छिप गए वे सेक्युलर, मानवतावादी... ! पद्मपति शर्मा (फेसबुक वॉल पर) पद्मपति शर्मा मालदा के बाद पूर्णिया ! यह हो क्या रहा है ? क्या सहिष्णुता सिर्फ उस बहुसंख्यक…
और पढ़ें »

छात्रों की कामयाबी ही गुरु का सबसे बड़ा सम्मान

दलजीत सिंह बिष्ट, प्रवक्ता, भौतिक विज्ञान पुरुषोत्तम असनोड़ा रविवार हो या कोई छुट्टी का दिन, गुरुजी रोज विद्यालय जाएंगे, पढायेंगे और अच्छे नम्बरों के टिप्स अपने विद्यार्थियों को देंगे। हां,…
और पढ़ें »

कहा था जिंदगी बदल देंगे, पर गांव की ज़मीन लूट ली

शिरीष खरे गांव वालों से बड़े धोखे की तैयारी है, और वो बेबस। फोटो- शिरीष वन को राजस्व ग्राम बनाते समय विकास का झांसा देकर जिंदगी बदल देने की बात…
और पढ़ें »

‘घास की रोटी’ का जुमला यूं ही न उछालिए जनाब

आशीष सागर दीक्षित घास की रोटी की हक़ीकत की पड़ताल। सभी फोटो- आशीष सागर दीक्षित '' एक वो है जो रोटी बेलता है, एक वो है जो रोटी सेंकता है…
और पढ़ें »

अख़बार के 8 पन्नों में मां की ममता का संसार

डॉ प्रकाश हिंदुस्तानी विजय मनोहर तिवारी ने अपनी मां श्रीमती सावित्री तिवारी को अलग तरीके से विदाई दी। उन्होंने अपनी मां की स्मृति में 8 पेज का वर्ल्ड क्लास का…
और पढ़ें »

एमु पालन-बड़े फायदे का सौदा है लखटकिया कारोबार

कन्हैया लाल सिंह जमशेदपुर से कोई छह किलोमीटर की दूरी पर एनएच 33 किनारे स्थित गांव बागुनहातु में रिटायर्ड प्रोफेसर जेरोम सोरेंग अपने फार्म में एमु पालन करते हैं। वह…
और पढ़ें »

ये फ़िक्र बे’कार’ नहीं, बेकार है सियासी ‘चिल्ल-पों’

फोटो- @choudharyview सैयद जैग़म मुर्तज़ा भाई दिल्ली में बे-कार रहने वाले हम जैसे लोग तो ख़ुश हैं। पिछले पांच साल में चंद छुट्टी वाले दिनों को छोड़कर सड़कों पर इतना…
और पढ़ें »

मेरे गांव, तेरा जन्मदिन हम भी मनाएंगे

जयापुर ने मनाया ग्राम गौरव दिवस अरुण प्रकाश 7 नवंबर 2015 की वो तारीख देश हमेशा याद रखेगा । ये वही तारीख है जब देश के प्रधानमंत्री के 'गांव' ने…
और पढ़ें »

हम चलते गए, कारवां बनता गया…

  साल 2015 बीत गया और साल 2016 के सूरज ने दस्तक दे दी। पुराने साल में पाठकों से बने रिश्ते को सहेजे टीम बदलाव नए साल में दाखिल हुई…
और पढ़ें »