Author Archives: badalav - Page 130

किस कोठरी में बंद है कोठारी आयोग की रिपोर्ट?

एपी यादव की रिपोर्ट देश में दिन दिनों समान शिक्षा की बहस चल रही है । अमीर-गरीब सभी के बच्चे एक साथ, एक कक्षा में एक साथ बैठें, एक जैसी…
और पढ़ें »

पब्लिक स्कूल से कहां पिछड़ गए सरकारी स्कूल ?

डॉ विनोद कुमार उत्तर प्रदेश में प्राइमरी स्कूलों की बदहाली के सिलसिले में इलाहाबाद हाईकोर्ट के फ़ैसले ने मानो उत्तर प्रदेश की उनींदी शिक्षा व्यवस्था को झकझोर कर जगा दिया…
और पढ़ें »

स्कूल में समाजवाद… अइयो ज़रा-ज़रा हौले-हौले

राधे कृष्ण समान शिक्षा को लेकर देश की आज़ादी के बाद से ही मांग उठती रही है। सरकारें- वो केंद्र की हों या राज्यों की- कम से कम सैद्धांतिक तौर…
और पढ़ें »

गुरु कहे- ‘घंटालों’ से निपटें, तब तो बात बने

शरत कुमार इलाहाबाद हाई कोर्ट का सरकारी स्कूलों की दशा पर आया निर्णय ऐतिहासिक है। सरकारी स्कूलों की दुर्दशा का कारण नीति निर्माताओं, अधिकारियों, कर्मचारियों और शिक्षकों का भ्रष्ट तंत्र माना जा…
और पढ़ें »

मुझे दुलराता है, मेरे गांव का स्टेशन

शंभु झा मेरा गांव रेलवे लाइन के किनारे है। गांव की ज़मीन पर ही रेलवे स्टेशन बसा है। स्टेशन बसा है, जैसे घर बसता है। स्टेशन हमेशा मुझे घर जैसा…
और पढ़ें »

‘सरकारी’ माने ‘चलताऊ’… ये सोच बदले तो कैसे?

निशांत यादव 'सरकारी' शब्द समाज में इस प्रकार उच्चारित किया जाने लगा है मानो जुगाड़ से चल रही कोई 'चलताऊ' व्यवस्था हो। एक राजकीय शिक्षक होने के नाते मुझे यह…
और पढ़ें »

सरकारी स्कूलों में बदलाव की ABCD, डगर बड़ी मुश्किल

हिंदुस्तान के सबसे बड़े सूबे की शिक्षा व्यवस्था पर आया है एक बड़ा फ़ैसला। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने अपने एक ऐतिहासिक फ़ैसले में यूपी के सरकारी स्कूलों में बड़े बदलाव के…
और पढ़ें »

फिरंगी लुट गयो रे हाथुस के बाज़ार में

धीरेंद्र पुंढीर लोकगीतों का सिलसिला अनंत है। देश के हर हिस्से में अंग्रेजों को मार भगाने की ललक उनके लोकगीतों में दिखती है। लोकाचार में दिखाई देती है। लेकिन जिन…
और पढ़ें »

फेसबुकिया दोस्तों, दो लफ़्ज़ों में नहीं होती कोई ‘क्रांति’

धीरेंद्र पुंढीर आज़ादी की जंग इतनी आसान नहीं थी जितनी वो फेस बुक पर दिखाई देती है। तिंरगा लगाने या फिर एक नारा दे देने से हासिल नहीं हुई है…
और पढ़ें »

अराधना, मीठी यादें और सखियों से ठिठोली यानी ‘मधुश्रावनी’

विपिन कुमार दास की रिपोर्ट सखियों संग शिव शक्ति की पूजा। फोटो- विपिन कुमार दास सावन जिसे सिंगार और भक्ति का अदभुत महीना माना जाता है। मिथिलांचल के सांस्कृतिक जीवन…
और पढ़ें »