Author Archives: badalav - Page 127

वो बुंदेलखंड का कुल’दीप’ है

साऊथ अफ्रीका में कॉमन वेल्थ जूडो चैंपियनशिप में गोल्ड जीतने वाले कुलदीप सुनीता द्विवेदी तेरे जुनूँ का नतीजा ज़रूर निकलेगा, इस स्याह समंदर से नूर निकलेगा।" किसी शायर की इन…
और पढ़ें »

आपका वक्त बदलने वाला है !

कीर्ति दीक्षित सुनाती  हूँ आप सबको एक मजेदार यात्रा वृतान्त । एक ट्रेन यात्रा के दौरान, मुलाकात हो गई हमारे एक भूतपूर्व बॉस से श्रीमान , हमने कहा सर जी प्रणाम…
और पढ़ें »

बदलाव बाल क्लब की पहली पाठशाला

सत्येंद्र कुमार यादव बदलाव की चौपाल के बाद अब बदलाव बाल क्लब की पहली वर्कशॉप। दिल्ली से सटे गाजियाबाद के वैशाली सेक्टर 6 में बदलाव बाल क्लब की पहली 'पाठशाला' लगी तो उसमें…
और पढ़ें »

जीत पर जयकारे और हार पर दुत्कार से आगे क्या है?

5 राज्यों में विधानसभा चुनावों के नतीजों के बाद हर तरफ सियासी महफिल सजी है। चर्चा हार-जीत और उसकी वजहों को लेकर हो रही है। बीजेपी और टीम मोदी के…
और पढ़ें »

ज़िंदगी का शॉर्टकट

चित्र-मिथिलेश कुमार, डीडीसी, मधेपुरा एक जीवन और हज़ारों ख़्वाहिशें एक चाहत और हज़ार बंदिशें एक ईश्वर और हज़ार फरियाद एक राह और हज़ार मुश्किलात शॉर्ट कट पहले : धन्यवाद कि…
और पढ़ें »

‘कातिल कार्ड’ और कमीशन के जाल से किसान बेहाल

आशीष सागर बुंदेलखंड में शायद ही कोई दिन ऐसा हो जब एक किसान खुदकुशी को मजबूर न हो । इसकी वजह भी सभी को मालूम है । कर्ज के बोझ…
और पढ़ें »

स्मार्ट सिटी चाहिए लेकिन स्मार्ट कलेक्टर से परहेज !

काला चश्मा पहनकर पीएम से हाथ मिलाते हुए कलेक्टर अमित कटारिया बरुण सखाजी हमें स्मार्ट सिटी चाहिए, स्मार्ट सरकार, स्मार्ट कार्ड, स्मार्ट फोन, स्मार्ट पत्नी, स्मार्ट क्लास और स्मार्ट टीवी…
और पढ़ें »

हमारे विकल्पों में युद्ध न हो, युद्ध का उन्माद न हो

पन्ना लाल करगिल और ट्रॉय की जंग। युद्ध की दो कथाएं। शौर्य और पराक्रम की दो दास्तान। करगिल की जंग हमने लड़ी और ट्रॉय ग्रीक माइथोलॉजी से निकला। महान यूनानी…
और पढ़ें »

बुलंदियों की ख्वाहिश में मिटा दिये दरभंगा के पोखर

पुष्यमित्र लहेरियासराय का बेता गामी पोखर, 2014 में पानी से लबालब। बेता गामी पोखर, अब साल 2016 में कुछ ऐसा दिखता है। लहेरियासराय के बेता गामी पोखर को इन दिनों…
और पढ़ें »

कच्ची ख्वाहिशें, पकता मन

बिहार के सुप्रसिद्ध चित्रकार राजेंद्र प्रसाद गुप्ता की कृति। याद आये तुम जैसे याद आने लगते हैं बच्चे घर से बाहर जाते ही जैसे जान लगाकर उड़ती चिड़ियाँ को याद…
और पढ़ें »