Author Archives: badalav - Page 123

32 लाख का रपटा, पहली बारिश में निपटा !

32 लाख का वो रपटा, जिस पर आशीष की रिपोर्ट है। फोटो- आशीष सागर नरैनी, बाँदा - दोआबा क्षेत्र के अति पिछड़े गाँव शाहपाटन का हाल भी अजब है। यहाँ…
और पढ़ें »

सुनो डुमरिया, क्या बोले बहुरिया?

बिहार के अररिया जिले का मिल्की डुमरिया गांव। नौनिहालों के सपनों की चिंता। फोटो- नीलू अग्रवाल                       मेरे जेहन में कोई गांव नहीं और न ही मेरी परवरिश गांव में हुई।…
और पढ़ें »

गांव से प्रेम के ‘ढाई आखर’

बरपा, औरंगाबाद का 'ज्ञानोदय' स्कूल। ढाई आख़र की पहल। फोटो सौजन्य- ढाई आखर -पशुपति शर्मा की रिपोर्ट बिहार के औरंगाबाद जिले का बरपा गांव, जहां हुई है बदलाव की शुरुआत,…
और पढ़ें »

मन कवि, दिल पत्रकार और जज़्बा गांव बदलने का…

निशांत जैन यूपीएससी के इम्तिहान में हिंदी माध्यम से टॉपर। ऑल इंडिया रैंकिंग में 13वां स्थान। देश की सर्वोच्च सेवा के लिए अधिकारियों की नई जमात चुन ली गई है।…
और पढ़ें »

क्योंकि मैं किसान हूँ….

मैं तो दबा , कुचला एक इन्सान हूँ... फोटो स्रोत- wikipedia नेताजी पूछे तुम कौन हो...? मैंने बोला,  इन्सान हूँ.... क्या तेरे पास गाड़ी है...? हाँ मेरे पास बैलगाड़ी है…
और पढ़ें »

वो तो शौचालय भी हज़म कर गए!

बेटियां खुले में शौच जाने को मजबूर। भ्रष्टाचार में लिप्त अधिकारी और नेताजी कुछ तो शर्म करें।- फोटो- आशीष सागर देश के प्रधानमंत्री और 'निर्मल भारत' अभियान के संयोजक नरेंद्र…
और पढ़ें »

सूरज के ताप से रौशन कर लें अपना गांव

सूरज के ताप में अनंत संभावनाएं हैं। फोटो स्रोत अब समय आ गया है कि पंचायतों की ज़िम्मेदारियां बढ़ाई जाएं। पंचायतें मजबूत होंगी तो देश तेजी से तरक्की करेगा। राज्य…
और पढ़ें »

ट्रिंग-ट्रिंग… चल पड़ी है बेटी मेरे गांव की

बिहार में साइकिल ने बदली बेटियों की ज़िंदगी। फोटो स्रोत बिहार में इन दिनों सड़कों पर आशाएं और उम्मीदें साइकिल पर सवार दिखती हैं। जिधर देखिए उधर टिन-टिन घंटी बजाते…
और पढ़ें »

गांव से अम्मा डांटेगी LIVE

पीएम मोदी डिजिटल इंडिया मिशन को मजबूत करने में जुटी महिला का सम्मान करते हुए। स्रोत-पीआईबी, नई दिल्ली- 1 जुलाई 2015   ''वक़्त बहुत तेजी से बदल चुका है। पहले…
और पढ़ें »

गोली धीरे से चलइयो… ‘सरकार’!

पांच नदियों के मिलन स्थल से एक धारा चिंताओं की। फोटो सौजन्य- बहुत दिनों के बाद पिछले दिनों गाँव जाना हुआ। मेरा गाँव बुंदेलखण्ड के दक्षिणी छोर पर चम्बल और…
और पढ़ें »