Author Archives: badalav - Page 117

”सुजाता” के बहाने

दिवाकर मुक्तिबोध 6 दिसंबर 2015, रविवार के दिन रायपुर टॉकीज का ''सरोकार का सिनेमा" देखने मन ललचा गया। आमतौर अब टॉकीज जाकर पिक्चर देखने का दिल नहीं करता। वह भी…
और पढ़ें »

जल उठा उम्मीदों का ‘दीया’

खुशी के इज़हार के लिए ये मुस्कान ही काफी है सत्येंद्र कुमार यादव आज कुछ बच्चे हंस रहे थे, मुस्कुरा रहे थे। तालियां बजा कर उत्साह मना रहे थे। अपनी…
और पढ़ें »

कभी यहां शेर रहते थे, आज राजनीति के ‘लकड़बग्घे’

फोटो- एन सिंह राजपूत कुमार सर्वेश यहां ‘धान का कटोरा’ है, प्राकृतिक सौंदर्य की वनदेवी है, खनिज संपदा के पहाड़ हैं, जड़ी-बूटियों के जंगल हैं, हाथ-पांव कट जाने के बावजूद अब…
और पढ़ें »

‘सूखे’ की खूंटी पर टंगा ‘साहित्य’

रायपुर साहित्य महोत्सव दिवाकर मुक्तिबोध ‘श्रेय' की राजनीति में निपट गया रायपुर साहित्य महोत्सव। कुछ तारीखें भुलाए नहीं भूलती। याद रहती हैं, किन्हीं न किन्हीं कारणों से। रायपुर साहित्य महोत्सव…
और पढ़ें »

एसिड से भी खाक नहीं कविता का सौंदर्य!

प्रतिभा ज्योति   लोग अक्सर सोशल साइटस पर अपने आकर्षक और खूबसूरत तस्वीरें पोस्ट किया करते हैं। पोस्ट के बाद उम्मीदों के बादल इसी सोच के आस-पास घुमड़ते रहते हैं…
और पढ़ें »

16 मौजों के मजरा गांव में चाय वाली की चर्चा

सियासत उसके लिए किसी अबूझ पहेली से कम नहीं थी। चुनाव लड़ना तो दूर उसके बारे में सोचने की फिर उसे फरसत नहीं थी। घर का कामकाज निपटाने के बाद…
और पढ़ें »

कोई ‘निर्भया’ न हो, किसी मां के आंखों में आंसू न हों

कीर्ति दीक्षित 24 घंटे नहीं बीते जुवेनाइल एक्ट को पास हुए कि एक और फिर खबर आई दिल्ली के कड़कड़डुमा कोर्ट में जज के सामने फायरिंग में एक सिपाही की…
और पढ़ें »

चुर्रामुर्रा के शिखर के चांद हैं डॉक्टर चंद्रशेखर

डॉ चंद्रशेखर पांडे, नवनिर्वाचित ग्राम प्रधान सत्येंद्र कुमार यादव हरियाणा में गांव प्रधान के चुनावों में शिक्षा की शर्त लागू कर दी गई है। व्यावहारिक रूप में शिक्षा हर क्षेत्र के…
और पढ़ें »

सोनपुर मेला… बस कहने को सबसे बड़ा पशु मेला?

 पुष्यमित्र सोनपुर मेला- पशु गायब, खाली हिस्सों में परंपरा तो निभाई जा रही है। फोटो-पुष्यमित्र बैल बाजार बिल्कुल खाली है। गाय बाजार में मुश्किल से 40-50 गायें और बछड़े हैं।…
और पढ़ें »

गांव बीरबलपुर में 65 साल की ‘राजशाही’ का ख़ात्मा

अरुण प्रकाश क्या आप किसी ऐसे गांव के बारे में जानते हैं जहां ‘राजशाही’ रही हो। नहीं जानते हैं तो आज हम आपको एक ऐसे ही गांव से रूबरू करा…
और पढ़ें »