Author Archives: badalav - Page 117

‘डायन’ बता कर मत करना ‘मर्डर’

-पुष्यमित्र के फेसबुक वॉल से विश्व आदिवासी दिवस के मौके पर मैंने फेसबुक पर कई मित्रों के शुभकामना संदेश देखे। कुछ साथी यह बताते रहे कि आज भी भारत में आदिवासियों…
और पढ़ें »

वो पूछेंगे ज़रूर-बता तेरा हुनर क्या है?

-सत्येंद्र कुमार की रिपोर्ट देश में हर साल एक करोड़ से ज्यादा नौजवान रोजगार के लिए शहरों की ओर पलायन करते हैं। गरीब, वंचित वर्ग के साथ मिडिल क्लास के…
और पढ़ें »

तेरा जुल्मों कौ हिसाब चुकौंल एक दिन…

-बी डी असनोड़ा की रिपोर्ट नरेंद्र सिंह नेगी। उनकी आवाज़ में है असर का जादू। फ्रांस के एक मशहूर लेखक ज्यां पॉल सार्त्र को 1964 में साहित्य के लिए नोबल…
और पढ़ें »

‘चंद्रकांता’ के देश में एक किस्सा चकिया का भी है जी!

कुमार सर्वेश की रिपोर्ट चकिया जहां तराशे जाते हैं पत्थर।-अशोक दुबे चकिया...छोटी सी चकिया...यानी पत्थर का छोटा सा गोल-मटोल चक्के जैसा टुकड़ा...यहां रहने वाले लोगों का जीवन भी बरसों से,…
और पढ़ें »

गायब भईल पोखरी, हे हो… केना खायब मखान

दरभंगा की पहचान रहे पोखर और मखाना, दोनों संकट में हैं। फोटो विपिन मिथिला से विपिन कुमार दास की रिपोर्ट पग–पग पोखरी और माछ-मखान, इहें छैथ मिथिलाक पहचान। मिथिला अपनी…
और पढ़ें »

साहब! सोचा तो यही है… गांव बदलेंगे

सत्येंद्र कुमार यादव सातबीं बार में यूपीएससी का किला फतह। साहब बन कर गांव भूल न जाना रमेश। बदलाव पर आईएएस इम्तिहान में कामयाबी हासिल करने वाले युवाओं के साक्षात्कार…
और पढ़ें »

60 साल बाद… सबसे लंबा ‘छक्का’

  नरेंद्र लाल शाह- रिटायरमेंट के बाद बड़ी पारी। गैरसैंण से बी डी असनोड़ा की रिपोर्ट उत्तराखण्ड की गैरसैंण तहसील के धुनारघाट में जन्मे नरेंद्र लाल शाह बचपन से ही…
और पढ़ें »

बेटे की तरह पालेंगे ‘बट’ के पौधों को

बांदा से आशीष सागर दीक्षित बांदा- बट को बेटे की तरह पालने का संकल्प। बुंदेलखंड की ख़तम होती जा रही हरियाली और सरकारी पौधारोपण के साल दर साल किये जा…
और पढ़ें »

सेहमलपुर की ‘सेहत’… फ़ाइलों में बेहतर है!

जौनपुर के सेहमलपुर गांव से एपी यादव की रिपोर्ट। सेहमलपुर का स्वास्थ्य केंद्र। कौन करे इलाज, किसका हो इलाज। फोटो-एपी यादव सई और गोमती नदी के दोआब पर बसा है,…
और पढ़ें »

कॉलेज के ‘निजीकरण’ के विरोध में बेटियां

उत्तराखंड के गैरसैंण से पुरुषोत्तम असनोड़ा की रिपोर्ट गैरसैंण का बालिका इंटर कॉलेज। छात्राओं के हौसले बुलंद, सरकार के पस्त क्यों? गैरसैंण का राजकीय बालिका इंटर कालेज सरकार की उपेक्षा…
और पढ़ें »