Author Archives: badalav - Page 114

गाय ‘माता’ के नाम पर बंद करो लड़ाई

कुमार सर्वेश गाय इस धरती पर सबसे प्यारा और पवित्र पशु है। भारतीय समाज में गाय को परिवार का एक हिस्सा माना जाता रहा है। गाय को हिंदू परंपरा में…
और पढ़ें »

विदेशी धरती पर मजहबी मोहब्बत का संगम

सभी फोटो- भव्य श्रीवास्तव भव्य श्रीवास्तव एक लौ जल गई। अमेरिका के साल्टलेक सिटी में पार्लियामेंट ऑफ रिलीजंस की शुरुआत इसी तरह हुई। कन्वेंशन सेंटर के बाहर सुबह 730 बजे…
और पढ़ें »

बंज़र ज़मीन पर लहलहाएंगी उम्मीदें… चलते रहो साथी

योगेंद्र यादव के फेसबुक वॉल से सूखा महाराष्ट्र और यूपी ही नहीं बल्कि राजस्थान की धरती का सीना भी चीर रहा है । संवेदना यात्रा के साथियों के साथ यूपी…
और पढ़ें »

किसे रास आएगा सियासत का ‘साझा चूल्हा’ ?

फोटो- अजय कुमार की फेसबुक वॉल से देवेंद्र शुक्ला बिहार विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण का प्रचार थम चुका है लेकिन बाकी तीन चरणों के लिए वार-पलटवार जारी । खास…
और पढ़ें »

पहले शौचालय या देवालय… एक बार ‘जनार्दन’ से पूछिए

पुष्यमित्र जहानाबाद का बरहट्टा गांव । फोटो-पुष्यमित्र मखदुमपुर विधानसभा से किस्मत आजमा रहे हैं पूर्व सीेएम जीतनराम मांझी। जहानाबाद शहर से सिर्फ चार किमी दूर है बरबट्टा गांव। मुख्य सड़क के…
और पढ़ें »

बुलंद कम क्यों है बुंदेलखंड की आवाज़ ?

बुंदेलखंड के किसान के साथ योगेंद्र यादव योगेंद्र यादव के फेसबुक वॉल से आंखें देख पाती उससे पहले ही गाड़ी ने हिला-हिला कर बता दिया कि हम बुंदेलखंड पहुँच चुके…
और पढ़ें »

किसान क जिंदगी मुआर हो गईल…!

अजय कुमार की फेसबुक वॉल से कोसी की तस्वीर सत्येंद्र कुमार यूपी में पंचायत और बिहार में विधानसभा चुनाव जारी है। हर घर बिजली, सड़क, सिंचाई, शिक्षा की बात हर…
और पढ़ें »

पिंडी में गांव की गरिमा का महोत्सव

  सत्येंद्र कुमार पिंडी महोत्सव, फोटो- बृजेश धर दुबे तेरे शहर से तो कहीं अच्छा है मेरा गांव। चमक रहा है, दमक रहा है, महक रहा है। दिल्ली में रहकर…
और पढ़ें »

नेताजी! किसानों से सीखें बिना ‘ज़हर’ के वोटों की ‘खेती’

 पुष्यमित्र माहौल चुनावी और चर्चा...! फोटो-पुष्यमित्र जीतेगा भाई जीतेगा लालटेन छाप जीतेगा... हमारा नेता कैसा हो अजै प्रताप जैसा हो... फलां छाप पर मोहर लगा कर विजै बनावें... यह चुनाव…
और पढ़ें »

इस बार जवाब देगा जेपी का बिहार

अरुण प्रकाश बिहार वही है। संपूर्ण क्रांति की अलख जगाने वाला बिहार। धीरे-धीरे समाजवाद आई बबुआ। समाजवाद तो नहीं आया अलबत्ता सियासत संप्रदायवाद के सम पर ज़रुर आ गिरी। केंद्रीय…
और पढ़ें »