Author Archives: badalav - Page 114

पीटते हैं, डराते हैं, तहस-नहस कर जाते हैं… वो कौन हैं?

शिरीष खरे "6 मार्च, रविवार सुबह साढ़े 11 बजे जिस समय हम प्रार्थना कर रहे थे, करीब दो दर्जन लोगों ने चर्च में घुसकर तोड़-फोड़ कर दी। हर रविवार यहां…
और पढ़ें »

किसानों को मिले मुआवजों की ख़ैरात से निजात

सत्येंद्र कुमार यादव पिछले हफ्ते बारिश और ओले पड़ने की वजह से कई इलाकों में गेंहूं की फसल बर्बाद हो गई। कहीं आंशिक रूप से नुकसान हुआ तो कहीं ज्यादा।…
और पढ़ें »

आओ करें सब एक जतन, ची-ची फुदके घर-आंगन !

आशीष सागर दीक्षित बुंदेलखंड के बाँदा जिले की नरैनी तहसील के ग्राम पंचायत खलारी- मोहनपुर में गौरैया का ब्याह हुआ । वर पक्ष से यशवंत पटेल ( अध्यापक) और प्रधान सुमनलता…
और पढ़ें »

छत्तीसगढ़ में माओवाद की जंग में ‘यौन हिंसा’ का सच क्या है?

शिरीष खरे एक मार्च, 2016 को छत्तीसगढ़ के राज्यपाल बलरामदास टंडन विधानसभा बजट-सत्र के पहले दिन अपने अभिभाषण में माओवादियों से निपटने को लेकर केंद्र और राज्य सरकार की तारीफ…
और पढ़ें »

अमदाबाद के 100 गांवों में दो दशकों का ‘अंधकार युग’

पुष्यमित्र अमदाबाद के चन्नी बाज़ार के पास लगता ट्रांसफॉर्मर। फोटो-पुष्यमित्र यह कहानी कटिहार के अमदाबाद प्रखंड की है। 98 की बाढ़ में जो यहां की बिजली गुल हुई थी वह…
और पढ़ें »

विचारों के ‘खिचड़ी युग’ में अपने मन की बात सुनना ज़रूर

जेएनयू प्रकरण और मीडिया। इस मुद्दे पर बदलाव की ओर से आयोजित विचार गोष्ठी के लिए रविवार की शाम 4 बजे से वैशाली के जज कॉलोनी पार्क में पत्रकारों के…
और पढ़ें »

शहर जब ‘श्मशान’ बनते हैं 

हेमन्त वशिष्ठ मुद्दों की आड़ में गई इंसानियत भाड़ में हैवानियत के ठेके पर जब हम ताज़ा-ताज़ा हैवान बनते हैं... बहुत कुछ गवां देती है ज़िंदगी चंद मकसदों के लिए…
और पढ़ें »

जौनपुर की मिट्टी में जान है!

बाएं से- अतुल, देवेश और गूंजा सिंह कहानी सफलता की  यूपीपीएससी द्वारा आयोजित पीसीएस परीक्षा 2015 में इस बार जौनपुर के नौजवानों ने जलवा दिखाया है। चाहें टॉपर हो या…
और पढ़ें »

कामयाबी की खुशी तुमसे कैसे बांटू मेरे दोस्त रवि

पिता जगमोहन यादव, माता सुमनलता के साथ सिद्धार्थ यादव (बाएं) अरुण प्रकाश  देश के सबसे बड़े सूबे यानी उत्तर प्रदेश में इन दिनों अगर किसी की चर्चा है तो बस…
और पढ़ें »

आओ हंसें, खिलखिलाएं, बातें करें और दिल को ‘हलका’ कर लें

विकास मिश्रा अपनी मां के साथ विकास मिश्रा मुझे मेरी मां से बहुत कुछ मिला, लेकिन एक ऐसी चीज भी मिल गई, जिसे मैं कभी नहीं चाहता था। वो था…
और पढ़ें »