Author Archives: badalav - Page 111

पिंडी में गांव की गरिमा का महोत्सव

  सत्येंद्र कुमार पिंडी महोत्सव, फोटो- बृजेश धर दुबे तेरे शहर से तो कहीं अच्छा है मेरा गांव। चमक रहा है, दमक रहा है, महक रहा है। दिल्ली में रहकर…
और पढ़ें »

नेताजी! किसानों से सीखें बिना ‘ज़हर’ के वोटों की ‘खेती’

 पुष्यमित्र माहौल चुनावी और चर्चा...! फोटो-पुष्यमित्र जीतेगा भाई जीतेगा लालटेन छाप जीतेगा... हमारा नेता कैसा हो अजै प्रताप जैसा हो... फलां छाप पर मोहर लगा कर विजै बनावें... यह चुनाव…
और पढ़ें »

इस बार जवाब देगा जेपी का बिहार

अरुण प्रकाश बिहार वही है। संपूर्ण क्रांति की अलख जगाने वाला बिहार। धीरे-धीरे समाजवाद आई बबुआ। समाजवाद तो नहीं आया अलबत्ता सियासत संप्रदायवाद के सम पर ज़रुर आ गिरी। केंद्रीय…
और पढ़ें »

बिहार में किसकी बयार ?

बिहार विधानसभा चुनाव के लिए पहले चरण की वोटिंग का काउंटडाउन शुरू हो चुका है । सियासी दल चुनाव प्रचार के लिए हर हथकंडे अपना चुके हैं। बयानबाजी की बात…
और पढ़ें »

कोची-कोची का इलाज करेंगे डागडर बाबू, पूरा बिहारे बीमार है

पुष्यमित्र सुपौल के पचगछिया गांव से इलाज के लिए जमील पटना आए हैं। फोटो-पुष्य इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान (IGIMS) के विशाल गलियारे के डिवाइडर पर बैठे मिले 83 साल के जमील…
और पढ़ें »

गाता रहे फूलों सा ये दिल…

पुष्पेंद्र पाल सर। कहते हैं कि पीपी सर का है अंदाजे बयां और। प्रशांत दुबे के फेसबुक वॉल से। हमारे आपके आस-पास कई लोग ऐसे होते हैं, जिनकी जिंदादिली एक…
और पढ़ें »

‘स्मार्ट मोबाइल’ जैसे ‘स्मार्ट विलेज’, जुमले हैं… जुमलों का क्या?

दिवाकर मुक्तिबोध अमेरिका में मोदी। फोटो-पीआईबी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हाल ही में अमेरिका के दौरान भारत के डिजिटल भविष्य पर लंबी चौड़ी बातें हुईं। कुछ वायदे हुए, कतिपय घोषणाएँ…
और पढ़ें »

ज़हर और कहर का ‘कॉकटेल’ पीकर कैसे ज़िंदा हैं वो लोग?

पुष्यमित्र अजब है सियासत- आंखों पर 'पानी' ही नहीं। और 'ज़हरीले पानी' से मासूमों का ये हाल। फोटो-पुष्यमित्र गया पहुंचते ही मेरे मार्गदर्शक 'मगध जल जमात' के सक्रिय सदस्य प्रभात…
और पढ़ें »

संघर्ष के तीन दशक, वही कसक… वही ठसक

फोटो- नर्मदा बचाओ आंदोलन के फेसबुक वॉल से। यह विकास, विस्थापन और पुनर्वास के संघर्ष की ऐसी दास्तान है जो महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और गुजरात की सीमाओं को तोड़ देश…
और पढ़ें »

बांदा के बंदों की सेहत का ‘रखवाला’ कौन?

आशीष सागर दीक्षित फोटो-आशीष सागर दीक्षित बेदम सरकारी स्वास्थ्य सुविधाओं से कराह रहा है बुंदेलखंड का पूरा क्षेत्र। बिना फार्मेसिस्ट के चल रहे मेडिकल स्टोर, गैर पंजीकृत नर्सिंग होम और झोलाछाप…
और पढ़ें »