Author Archives: badalav - Page 104

दिव्यांगों को समझने की ‘दिव्य दृष्टि’ नदारद है…

फोटो- अजय कुमार, कोसी बिहार विनोद कुमार मिश्र साल 2007 में संयुक्त राष्ट्र संघ में विकलांगों के अधिकार आधारित व्यवस्था के निर्माण हेतु जब घोषणा पत्र जारी हुआ तो हस्ताक्षर करने…
और पढ़ें »

बालमगढिया की छात्राएं गढ़ रही हैं सपनों की दुनिया

रूपेश कुमार अपनी कक्षा में विजयी मुद्रा में छात्राएं और छात्र। सभी फोटो-रुपेश एक ओर जब देश में स्कूलों की स्थिति को लेकर विश्व बैंक की रिपोर्ट को लेकर कुछ…
और पढ़ें »

चंपारण आंदोलन और गांधी के स्कूल का अनकहा पाठ

चंपारण में महात्मा गांधी ने निलहे प्लांटर्स के खिलाफ सत्याग्रह आंदोलन किया था, यह कहानी तो सबको ज्ञात है। मगर, उन्होंने सत्याग्रह ख़त्म होने के बाद छह माह रुक कर…
और पढ़ें »

औरंगाबाद के गांव बरपा में ग्रामीण T-20 का डे-नाइट रोमांच

टीम बदलाव देश में टी-20 का रोमांच है। कोहली की गोली और माही की जय-जय जैसे उदघोष हो रहे हैं। शहरों में कैमरों के सामने हज़ारों-लाखों लोगों का जुनून कैद…
और पढ़ें »

चाची के हाथ की मछली खाने की ललक

मनोरमा सिंह ये मिश्रा चाची हैं। बरौनी आरटीएस, में मेरे पड़ोस की चाची। मैथिल और अंगिका बोलने वाली चाची, अपनी पीढ़ी में राजनीतिक रूप से जबरदस्त सचेत महिला हुआ करती…
और पढ़ें »

छत्तीसगढ़ में अन्नदाता के मुआवजे में फिर बंदरबांट

शिरीष खरे अस्सी साल के जगदीश सोनी ने अपने तीन बेटों के साथ 15 एकड़ खेत में धान बोया, मगर सूखे से पूरी फ़सल चौपट हो गई। वे बताते हैं…
और पढ़ें »

देश की राजधानी में किसानों का मेला

अरुण यादव दिल्ली में कृषि मेला। राजधानी का ताना-बाना खेत-खलिहान वाला नहीं है, लेकिन पिछले हफ्ते देश के सबसे बड़े कृषि अनुसंधान केंद्र में कृषि मेला लगा तो दिल्ली ही…
और पढ़ें »

पंचायत चुनावों में बगहा का गांव चर्चा में क्यों है?

पुष्यमित्र सर्वसम्मति से चुनी गयीं महिला प्रतिनिधि जहां इन दिनों बिहार का हर गांव पंचायत चुनाव की गहमा-गहमी में डूबा है, पश्चिम चंपारण के बगहा-2 प्रखंड में रहने वाली थारू…
और पढ़ें »

नाचे तन-मन, नाचे जीवन

हिलता-खिलता-मिलता-जुलता आया होली का त्यौहार। नाचे तन-मन, नाचे जीवन नाचे आंगन, नाचे उपवन रंग-बिरंगी ओढ़ चदरिया धरती लाई नई बहार। टेसू महके, चहके पंछी धुन में अपनी हंस व हंसी…
और पढ़ें »

नाचे, गाएं, खेलें होली… जोगीरा सा रा रा

गांव घर की होली। फगुआ गान। ‎कालीमंदिर, ‎धमदाहा‬ में गांव की टोली का जोगीरा सा रा रा बासु मित्र पिछले एक दशक से मेरे गांव में भी होली की चमक…
और पढ़ें »