Author Archives: badalav - Page 100

वादियों के सन्नाटे के पीछे हैं ‘इंडिया वाले’

धीरेंद्र पुंडीर कश्मीर के हालात का पहला जायजा तो आपको फ्लाईट में बैठते ही हो जाता है। पहले आपको फ्लाईट में टिकट के लिए इंतजार करना होता था। ये बहुत…
और पढ़ें »

बुंदेलखंड में होती है राक्षस की पूजा

कीर्ति दीक्षित परम्पराएं, custom, rituals जैसे शब्द धरती के किसी भी कोने से खड़े होकर बोलें तो इनकी समृधि में भारत का नाम सबसे पहले आएगा, भारत ही ऐसा देश…
और पढ़ें »
चौपाल

कश्मीर… उसे बचाए कोई कैसे टूट जाने से!

धीरेंद्र पुंडीर उसे बचाएं कैसे कोई टूट जाने से/वो दिल जो बाज न आए फरेब खाने से। कश्मीर में होना और कश्मीर के बाहर होना दो बड़ी मुख्तलिफ सी चीजें…
और पढ़ें »
आईना

‘गमन’-40 साल बाद ‘कशमकश’ का एहसास

विभावरी फिल्म थी 1978 में बनी मुज़फ्फर अली की 'गमन'| रोजगार की तलाश में शहरों की ओर पलायन करती युवा पीढ़ी और शहर की तमाम चकाचौंध के बीच अपनी ज़िंदगी…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

वाराणसी हादसा- ‘गुरुमंत्र’ को क्यों नहीं माना

कुमार सर्वेश बाबा जय गुरुदेव ने कभी कहा था कि हमारे काम से किसी आम आदमी को परेशानी नहीं होनी चाहिए। जयगुरुदेव के भक्तों को इसे गुरुमंत्र मानते हुए वाराणसी…
और पढ़ें »
सुन हो सरकार

पाटलिपुत्र में प्लेटफॉर्म पर संवरता बचपन

 दिलीप कुमार पांडे रेलवे स्टेशन पर अमूमन यात्रियों की भागदौड़, कुलियों की आवाज़ और ट्रेन के शोरगुल के सिवाय शायद ही कुछ और सुनाई दे। ट्रेन लेट होने पर कुछ लोग रेलवे…
और पढ़ें »

भोपाल में मिल रहे हैं माखनलाल के पुराने मीत

माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय अपने रजत जयंती वर्ष के उपलक्ष्य में बृहद स्तर पर पूर्व विद्यार्थी सम्मेलन का आयोजन कर रहा है। यह आयोजन 15 अक्टूबर को…
और पढ़ें »

‘झिझिया’ से इतनी झिझक क्यों भाई !

पुष्य मित्र अगर हमें अपनी संस्कृति और लोक परंपराओं को जीवित रखना है तो उसे सिर्फ दिल में सहेजने भर से काम नहीं चलेगा । उसे जुबां पर लाने की…
और पढ़ें »
गांव के रंग

भरत मिलाप, मेला और हमारा बचपन

फोटो- अजय कुमार मृदुला शुक्ला बचपन में दशहरे पर नए कपड़े मिलने का दुर्लभ अवसर आता था । हम सारे भाई बहन नए कपड़े पहन शाम को पापा के साथ…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

मन की गति से उड़ता था रावण का ‘पुष्पक विमान’

कीर्ति दीक्षित विजयादशमी है, प्रत्येक वर्ष रावण के तमाम गुणों अवगुणों की बातें होती हैं, कोई उसके ज्ञान की बात करता है, कोई उसके अत्याचार की, कोई उसकी वीरता की।…
और पढ़ें »