Author Archives: badalav - Page 100

‘भूमिका’ ने मीडिया से ज़्यादा उर्वर ज़मीन तलाश ली

जब खेतों में कदम पड़े तो चेहरा खिल उठा किसानों और सरकारों का रिश्ता अजीब सा रहा है। सरकारें  योजनाएं बनाती हैं, खूब पैसा बहाती हैं, लेकिन न जाने क्यों…
और पढ़ें »

साहेब, तुमका पूरा गाँव घूमबे का चाही !

आशीष सागर दीक्षित उत्तरप्रदेश के मुख्य सचिव आलोक रंजन के बांदा दौरे की तस्वीर।उत्तरप्रदेश सरकार के मुख्य सचिव अलोक रंजन बुंदेलखंड के दो दिन के दौरे से वापस अपने पंचम…
और पढ़ें »

सात बरस बाद ‘मुंहबोले’ बाबा से मिलेंगे राहुल ?

सुनीता द्विवेदी क्या आपने कभी बुंदेलखंड में राहुल के गाँव के बारे में सुना है?  राहुल गांधी जो देश की प्रमुख पार्टी कांग्रेस के राजनीतिक वारिस हैं, उनका बुंदेलखंड के…
और पढ़ें »

बागेश्वर के गरुड़ से ओलंपिक तक

नितेंद्र सिंह रावत, धावक बी डी असनोड़ा पूर्व राष्ट्रपति डॉक्टर कलाम ने कहा था कुछ बनना है तो बड़े सपने देखा करो। उनकी बातों ने बहुत सारे बच्चों को प्रेरित…
और पढ़ें »

अब आना इस देश लाडो!

कीर्ति दीक्षित कुछ समय पहले चुनावों के दौरान बीजेपी किसान मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओपी धनखड साहब ने कहा था कि अभी हरियाणा के लडके पैसे देकर बिहार की लडकियों…
और पढ़ें »

‘स्टार्टअप’ के दौर में तालाबंदी? ये वक़्त-‘वक़्त’ की बात है

फोटो- @DIPPGOI राजीव मंडल आप केंद्र सरकार की इस विरोधाभासी संकल्पना पर तालियां पीट सकते हैं लेकिन 'मेक इन इंडिया" और 'स्टार्टअप-स्टैंडअप" नीतियों की टाइमिंग पर ध्यान देना ज़रूरी है। सरकार…
और पढ़ें »

‘लव योर पुलिस’- इस मुहब्बत में मुश्किलात बहुत हैं जनाब

अरुण प्रकाश हमारे देश में पुलिसिया ख़ौफ़ की कहानी किसी से छिपी नहीं है। पुलिस की छवि कुछ ऐसी है कि उसका नाम लेने पर सिर्फ डर और भय ही याद…
और पढ़ें »

‘स्टार्ट अप’ से ‘स्टैंड अप’ तक… कहीं वो तमाशबीन ही न रह जाएं?

राजेंद्र तिवारी आलेख में इस्तेमाल सभी फोटो- राजेंद्र तिवारी के फेसबुक वॉल से साभार। अस्सी के दशक में जब आर्थिक ‘ट्रिकल डाउन’ थ्योरी आयी थी और नब्बे के दशक में…
और पढ़ें »

थर्ड जेंडर ने छेड़ी बराबरी के अधिकार की जंग

शिरीष खरे छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में रहने वाली प्रिया (बदला नाम) एक ट्रांस जेंडर हैं। उसके अपने सपने थे, वो बाकी बच्चों की तरह स्कूल जाना चाहती थीं, लेकिन…
और पढ़ें »

सूरज ने चाल बदली, रौशन कर लो अपना पथ

डॉ. दीपक आचार्य दक्षिण गुजरात में एक जिला है डांग, यहां शत-प्रतिशत वनवासी आबादी बसी हुई है और यहां आमजनों के बीच मकर संक्रांति को लेकर जितनी जानकारी है शायद…
और पढ़ें »