Author Archives: badalav - Page 100

आईना

यात्रीगण, सीमांचल ‘सुपर-लेट’ का कोई टाइम टेबल नहीं है!

पुष्यमित्र चार अगस्त की रात 11 बजे पटना जंक्शन पर कुछ यात्री दिल्ली से आने वाली सीमांचल सुपरफास्ट एक्सप्रेस का इन्तज़ार कर रहे थे। एक डेढ़ घंटे बाद यह ट्रेन…
और पढ़ें »
गांव के नायक

लाडली ने रियो में रचा गान- जय सिंधु, जय हिंद

पीवी सिंधु के साथ देश की उम्मीदें जुड़ गई हैं। सोशल मीडिया पर अभी जय-जय सिंधु के बोल सुनाई दे रहे हैं। उन्हीं में से कुछ प्रतिक्रियाएं बदलाव के पाठकों…
और पढ़ें »
गांव के नायक

राखी पर एक बहना का देश को बड़ा तोहफ़ा

राखी के मौके पर देश को एक बहना ने सबसे नायाब गिफ़्ट दिया है। ये हम नहीं कह रहे, ऐसे ही न जाने कितने पोस्ट सोशल मीडिया पर हैं जो…
और पढ़ें »
गांव के रंग

फटफटिया से बहनों तक पहुंचाई राखी

आशीष सागर दीक्षित बीते दिनों कान्हा नेशनल टाइगर में प्रवास के दौरान ग्राम खटिया में यह श्यामलाल साधुराम बिसेन मिले। रहवासी ग्राम सरेखा, तहसील जिला बालाघाट, मध्यप्रदेश से हैं। अपनी…
और पढ़ें »
माटी की खुशबू

मरखइया गाय अब हूरपेटती नहीं, जाने कहां चली गई

दृगराज मधेशिया मोदी जी ने जब गौ रक्षकों के वेश में छिपे लोगों के चेहरों से नकाब हटाई तो बहुतों को मिर्ची लगी। इसकी जलन अभी कई महीनों तक महसूस…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

तेज़ाब में घुली और पिघल गई उनकी ‘आज़ादी’

पुष्यमित्र  अपनी बहन सोनम के साथ मनेर की चंचल. जिसने मुकदमा लड़ कर देश भर की तेजाब पीड़िताओं को हक दिलाया. पिछले दिनों वैशाली में एक तेजाब पीड़िता की खुदकुशी…
और पढ़ें »
आईना

भोर अलग है, शोर अलग है…

नीलू अग्रवाल फोटो- मधुरेंद्र कुमार, दिल्ली के चांदनी चौक में स्वतंत्रता दिवस पर जोश देखते ही बना। आज स्वतंत्रता दिवस की भोर अलग है हो रहा जो गलियों में शोर…
और पढ़ें »
मेरा गांव, मेरा देश

लोकतंत्र में अहंकार नहीं चलता, संवेदनशील बने तंत्र

पशुपति शर्मा स्रोत-पीआईबी 70वें स्वाधीनता दिवस पर लाल किले का प्रांगण प्रधानमंत्री मोदी के तीसरे भाषण का गवाह बना। ये पीएम मोदी का थोड़ा सा बदले अंदाज वाला भाषण था।…
और पढ़ें »

मुस्लिम बस्ती में यूं खुले दिल, घर और मस्जिद के दरवाजे

देविंदर कौर उप्पल भोपाल से लगभग 40 मील दूर का कस्बा रायसेन दो साल पहले धार्मिक मतभेद से उपजी हिंसा के कारण खबरों में था लेकिन पिछले सप्ताह की 6-7…
और पढ़ें »
आईना

शुक्लाजी, कमोड फिट कर गए… दिल जीत गए

विकास मिश्रा ये शुक्ला जी हैं। जिस सोसाइटी में रहता हूं, उसमें ये प्लंबर का काम करते हैं। दाढ़ी, मूंछ, बाल सब सफेद हो चुके हैं। लाइट कलर के कपड़े…
और पढ़ें »