Holiतुम न आये
और फिर
लो आ गया
फागुन निगोड़ा

साल पिछले भेजते
इसको कहा था,
हाथ में इसके
तुम्हारा, इक
पुराना ख़त दिया था
बिन लिए उनको
न आना द्वार मेरे

देख लो तुम
आज भी मन में हमारे,
है वही मौसम
ठिठुरती ठण्ड का,
और कड़कती धूप का
आ गए सब कामनियों
के सजन
बस तुम न आये

और फिर लो
आ गया फागुन निगोड़ा

आम की अमराइयों पर
बाग़ की पुरवाइयों पर
आ गयी है रुत सुहानी

चटकती कलियों के रुख पर
और पी के संग रमती
कामनी की कामना पर,
आ गयी फिर से जवानी

आज भी बस तड़प
का मौसम लिए,
मैं युगों से हूँ
प्रतीक्षा मैं तुम्हारे

हर गली हर बीथिका में
गोपियों संग फिर रहा
कान्हा दीवाना
बस तुम न आये

और फिर लो
आ गया फागुन निगोड़ा


mridula shuklaमृदुला शुक्ला। उत्तरप्रदेश, प्रतापगढ़ की मूल निवासी। इन दिनों गाजियाबाद में प्रवास। कवयित्री। आपका कविता संग्रह ‘उम्मीदों के पांव भारी हैं’ प्रकाशित। कई पत्र-पत्रिकाओं में रचनाएं छपीं और सराही गईं।


औरतों के कैसे-कैसे झूठ… मृदुला शुक्ला की एक और कविता पढ़ने के लिए क्लिक करें

संबंधित समाचार