जाने कहां चले गए गणतंत्र के ऐसे ‘भोले’ नायक?

पुष्यमित्र

bhola paswan -1गणतंत्र दिवस के मौके पर आईये आपको मिलाते हैं बिहार के एक दलित मुख्यमंत्री के परिवार से, जिन्हें तीन बार सीएम बनने का मौका मिला। जी हाँ, यह भोला पासवान शास्त्री का परिवार है, जो पूर्णिया जिले के काझा कोठी के पास बैरगाछी गांव में रहता है। तस्वीर में इनकी हालत साफ़ नज़र आती है और बिहार के दूसरे पूर्व मुख्यमंत्रियों से इनकी तुलना करेंगे तो ज़मीन-आसमान का फर्क भी समझ में आ जाएगा। हाल-हाल तक यह परिवार मनरेगा के लिए मजदूरी करता रहा है। मगर पिछले कुछ सालों में इस बात को लेकर स्थानीय मीडिया में खूब ख़बरें आई। पता चला कि इसके बाद सरकार ने इनके लिए कुछ काम भी किये हैं। क्या किये हैं, यह देखने समझने के लिए मैं उनके गांव गया था।

गणतंत्र के नायक

बैरगाछी वैसे तो समृद्ध गांव लगता है, मगर भोला पासवान शास्त्रीजी का घर गांव के पिछवाड़े में है। जैसा कि अमूमन दलित बस्तियां हुआ करती हैं। हाँ, अब गांव में उनका दरवाजा ढूँढने में परेशानी नहीं होती क्योंकि वहाँ एक सामुदायिक केंद्र बना हुआ है। जिस पर उनका नाम लिखा हुआ है। पड़ोस की एक महिला कहती हैं सामुदायिक केंद्र इसी लिए बनवाया गया है ताकि ठिकाना ढूँढने में तकलीफ न हो।

bhola paswan -3केंद्र के अंदर जाता हूँ तो बिरंची पासवान मिलते हैं जो शास्त्री जी के भतीजे हैं। उन्होंने ही शास्त्री जी को मुखाग्नि दी थी। शास्त्री जी को अपनी कोई संतान नहीं थी। विवाहित जरूर थे मगर पत्नी से अलग हो गये थे। बिरंची कहते हैं, यह सामुदायिक केंद्र तो हमारी ही ज़मीन पर बना है। अपने इस महान पुरखे की याद में स्मारक बनाने के लिए हम लोगों ने यह ज़मीन मुफ़्त में सरकार को दे दी थी। उनकी बात सुनकर बड़ा अजीब लगता है। शास्त्रीजी के कुनबे में अब 12 परिवार हो गये हैं, जिनके पास कुल मिलाकर 6 डिसमिल ज़मीन थी। उसमें भी बड़ा हिस्सा इन लोगों ने सरकार को सामुदायिक केंद्र बनाने के लिए दे दिया है। अंदर जाता हूँ तो देखता हूँ एक-एक कोठली में दो-दो तीन-तीन परिवार कैसे सिमट-सिमट कर रह रहे हैं। आखिर गरीबों में इतनी संतोष वृत्ति कहां से आती है?

यह सामुदायिक केंद्र राज्य सभा सांसद वशिष्ठ नारायण सिंह के सांसद फण्ड से बना है। मकसद यह है कि 21 सितम्बर को उनकी जयंती पर जब गांव में समारोह हो और दलित राजनीति चमकाने नेता लोग आयें तो गांव में समारोह स्थल की तकलीफ न हो। बांकी इस सामुदायिक भवन का शादी ब्याह या किसी अन्य अवसर पर गांव के लोग उपभोग कर सकें, ऐसी कोई बात नहीं सोची गयी। वैसे भी यह सामुदायिक स्थल एक दलित के दरवाजे पर बना है, सवर्ण और समृद्ध तबका यहाँ बारात ठहराने के लिए शायद ही मानसिक तौर पर तैयार हो। वैसे बिरंची कहते हैं, गांव में छुआछूत का माहौल अब बिलकुल नहीं है। गांव के लोग उन्हें शास्त्रीजी की वजह से सम्मान की निगाह से देखते हैं।

bhola paswan -2शास्त्री जी वैसे ही शास्त्री हुए थे जैसे लाल बहादुर शास्त्री थे। यानी भोला पासवान जो निलहे अंग्रेजों के हरकारे के पुत्र थे, ने बीएचयू से शास्त्री की डिग्री हासिल की थी। राजनीति में सक्रिय थे। इंदिरा गाँधी ने इन्हें तीन दफा बिहार का मुख्यमंत्री और एक या दो बार केंद्र में मंत्री बनाया। मगर इनकी ईमानदारी ऐसी थी कि मरे तो खाते में इतने पैसे नहीं थे कि ठीक से श्राद्ध कर्म हो सके। बिरंची बताते हैं कि पूर्णिया के तत्कालीन जिलाधीश ने इनका श्राद्ध कर्म करवाया था। गांव के सभी लोगों को गाड़ी से पूर्णिया ले जाया गया था। चूंकि मुखाग्नि उन्होंने दी थी, सो श्राद्ध भी उनके ही हाथों सम्पन्न हुआ।

सरकार की ओर से कुछ मिला? इस लिहाज से कि शास्त्री जी के परिजन हैं। कहते हैं, हाँ एक या दो इंदिरा आवास मिला है। हालाँकि उन्होंने कभी कुछ माँगा नहीं। जब सामुदायिक केंद्र बन रहा था तो कई लोगों ने सलाह दी कि जमीन की कीमत ही मांग लीजिये, मगर बिरंची ने इनकार कर दिया। कहा, अपने बाप दादा की प्रतिष्ठा बचाना ज्यादा जरूरी है। कहीं लोग यह न कहे कि शास्त्रीजी कितने ईमानदार थे और उनके परिजन कितने लालची। उन्होंने बिना सोचे जमीन दे दी।

अफ़सोस इस बारे में सरकार और उसके नुमाइन्दों ने भी कुछ नहीं सोचा। यह उस राज्य में हो रहा है, जहाँ पूर्व मुख्यमंत्री को तरह-तरह की सुविधाएँ देने के लिए अलग से क़ानून बने हैं। क्या इस ईमानदार पूर्व मुख्यमंत्री के निस्वार्थ परिजनों के लिए कुछ करने की बात कभी हमारे हुक्मरानों के मन में नहीं आएगी? PUSHYA PROFILE-1


पुष्यमित्र। पिछले डेढ़ दशक से पत्रकारिता में सक्रिय। गांवों में बदलाव और उनसे जुड़े मुद्दों पर आपकी पैनी नज़र रहती है। जवाहर नवोदय विद्यालय से स्कूली शिक्षा। माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्वविद्यालय, भोपाल से पत्रकारिता का अध्ययन। व्यावहारिक अनुभव कई पत्र-पत्रिकाओं के साथ जुड़ कर बटोरा। संप्रति- प्रभात खबर में वरिष्ठ संपादकीय सहयोगी। आप इनसे 09771927097 पर संपर्क कर सकते हैं।


पहले शौचालय या देवालय?… पुष्यमित्र की एक और रिपोर्ट पढ़ने के लिए क्लिक करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *